khabar-satta-app
Home देश कोरोना संकट की वजह से सरकार पर बढ़ा जनता का भरोसा, दुनियाभर से सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े

कोरोना संकट की वजह से सरकार पर बढ़ा जनता का भरोसा, दुनियाभर से सामने आए चौंकाने वाले आंकड़े

चीन से निकले इस वायरस ने बड़े पैमाने पर तबाही मचाई है. अधिकांश देशों को महामारी से जंग में तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन अच्छी बात यह है कि लोगों का अपनी सरकारों में विश्वास मजबूत हुआ है.

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) ने पूरी दुनिया को प्रभावित किया है. चीन से निकले इस वायरस ने बड़े पैमाने पर तबाही मचाई है. अधिकांश देशों को महामारी से जंग में तमाम तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन अच्छी बात यह है कि लोगों का अपनी सरकारों में विश्वास मजबूत हुआ है. कंसल्टेंसी एडलमैन के ट्रस्ट बैरोमीटर (Edelman’s Trust Barometer) की रिपोर्ट के अनुसार, लोगों ने 20 वर्षों में पहली बार किसी अन्य संस्थान की तुलना में अपनी सरकार पर अधिक भरोसा जताना शुरू किया है.

- Advertisement -

सरकारें अब व्यवसायों, गैर-लाभकारी संगठनों और मीडिया की तुलना में अधिक विश्वसनीय हैं. यह एकमात्र ऐसी संस्था है, जिस पर 62 प्रतिशत से अधिक लोगों ने भरोसा जताया है. एडलमैन ने भारत और चीन सहित 11 देशों के 13,000 से अधिक लोगों को सर्वे में शामिल किया. ताजा रिपोर्ट जनवरी में हुए सर्वेक्षण परिणामों के बिल्कुल विपरीत है. पिछले सर्वेक्षण ने व्यवसायों को सबसे भरोसेमंद संस्थान के रूप में दिखाया था, जबकि सरकार और मीडिया सबसे कम भरोसेमंद के रूप में सामने आए थे. नए परिणामों के अनुसार, सरकार में लोगों का विश्वास जनवरी से लगभग 11 फीसदी बढ़ा है. जनवरी में यह 54 और अप्रैल में 65 प्रतिशत हो गया.  

भारत में कुछ ऐसा है हाल
सर्वे में चीन, भारत और सऊदी अरब में सरकार पर जनता का विश्वास सबसे ज्यादा पाया गया. भारत में, सरकार के प्रति लोगों के विश्वास में 6 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. जिन देशों में विश्वास सबसे कम मिला, उनमें फ्रांस, अमेरिका और जापान शामिल हैं. वहीं, यूके, कनाडा, जर्मनी और दक्षिण कोरिया के लोगों के सरकार के प्रति विश्वास में भारी बदलाव देखा गया है. इन देशों में जनता का विश्वास दो अंकों में पहुंच गया है. संयुक्त राज्य में 46 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि उन्हें संघीय सरकार पर भरोसा है. जबकि 66 फीसदी ने कहा कि उन्हें स्थानीय या राज्य सरकार पर भरोसा है.  

- Advertisement -

द्वितीय विश्व युद्ध के बाद पहली बार
वैसे तो 2011 के बाद से, सरकारों के प्रति अविश्वास बढ़ रहा है. लेकिन संभवतः द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से यह पहली बार है कि लोगों में यह विश्वास जागृत हो रहा है कि सरकार उन्हें महामारी से प्रकोप से सुरक्षित निकाल लेगी. रिपोर्ट से प्रतीत होता है कि लोग मजबूत और निर्णायक नेतृत्व पर भरोसा करते हैं – फिर भले ही इसके लिए तानाशाही की तरफ झुकाव क्यों न हो. हालांकि यह दुनिया के लिए एक खतरनाक मिसाल भी बन सकता है.

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

Leave a Reply

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
793FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

सिवनी कोरोना न्यूज़ : 6 व्यक्ति हुए कोरोना वायरस का शिकार, वहीं 8 हुए स्वस्थ अब 67 एक्टिव केस

सिवनी : मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ के.सी. मेशराम द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया की...

भारतीय सीमा में घुसा चीनी सैनिक, आईकार्ड समेत अहम दस्तावेज बरामद

नई दिल्ली: भारत-चीन (India- China) के बीच LAC पर जारी तनाव के बीच सुरक्षा बलों ने लद्दाख के चुमार-डेमचोक इलाके में एक चीनी...

सिवनी: चल रहा था LIVE IPL सट्टा 1 लाख 95 हजार सहित आरोपी गिरफ्तार

सिवनी: थाना कोतवाली के अंतर्गत विगत 18 अक्टूबर को मुखबिर से मिली सूचना के बाद काली चौक निवासी अमन पिता अशोक जैन...

सिवनी: सुकला डेम से 07 साल के मासूम का शव बरामद, आपसी रंजिश में मासूस को फेंका डेम में

Seoni News सिवनी। जिले के अरी थाना अंतर्गत सुकला डैम (Sukla Dam) में फेंक गए सात साल के मासूम आर्यन गुनभरे का शव...

पंजाब में किसान आंदोलन के कारण आज और कल ट्रेनों का संचालन रहेगा प्रभावित, जानें- कितनी गाड़ियां रहेंगी रद

नई दिल्ली। कृषि सुधार कानूनों के खिलाफ पंजाब में किसानों द्वारा लगातार विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। वहीं, प्रदर्शन से कारोबार प्रभावित हो रहा...