Home » स्वास्थ्य » सर्वाइकल कैंसर के कारण पूनम पांडे का निधन! सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए डॉक्टरों द्वारा बताए गए 10 बिंदु

सर्वाइकल कैंसर के कारण पूनम पांडे का निधन! सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए डॉक्टरों द्वारा बताए गए 10 बिंदु

By SHUBHAM SHARMA

Published on:

Follow Us
Poonam Pandey Dies Cervical Cancer Signs & Reasons

Join WhatsApp

Join Now

Join Telegram

Join Now

Poonam Pandey Death Cervical Cancer: आज हम कुछ एहतियाती उपायों पर एक नज़र डालने जा रहे हैं जिनका उपयोग आप उन महिलाओं को सुरक्षित रहने में मदद करने के लिए कर सकते हैं जिन्हें आप जानते हैं।

Poonam Pandey Death, How To Prevent Cervical Cancer: अभिनेत्री और रियलिटी शो स्टार पूनम पांडे के आधिकारिक इंस्टाग्राम हैंडल ने 32 साल की उम्र में पूनम पांडे की मृत्यु की घोषणा की है। बयान में उनकी मौत का कारण सर्वाइकल कैंसर बताया गया है। इस बात की पुष्टि अभी तक पूनम के परिवार ने नहीं की है लेकिन कई लोगों ने इस पोस्ट के तहत पूनम को श्रद्धांजलि दी है।

कुछ ने उनकी पुरानी पोस्ट का हवाला दिया कि उन्हें तीन दिन पहले मुंबई में देखा गया था, चार दिन पहले गोवा में पार्टी करते हुए तस्वीरें और वीडियो साझा किए और उनकी मौत की जानकारी की सच्चाई पर सवाल उठाए।

यह भी पढ़ें: सर्वाइकल कैंसर से क्यों हुई Poonam Pandey की Death? इन लक्षणों से शरीर देता है संकेत, Sexually Active महिलाओं और पुरुष दोनों के लिए जानना जरूरी

पूनम पांडे की मौत की पोस्ट के बाद जो बीमारी चर्चा में आई है वो है सर्वाइकल कैंसर. पिछले कुछ वर्षों में सर्वाइकल कैंसर के मामले बढ़ते जा रहे हैं। भारत में हर साल इस कैंसर से लगभग 1.25 लाख मामले और लगभग 75 हजार मौतें दर्ज की जाती हैं।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने अंतरिम बजट 2024 में भी इस मुद्दे का जिक्र किया था और बताया था कि केंद्र सरकार इसके लिए रणनीतिक कदम उठाने की तैयारी कर रही है. केंद्र सरकार ने इसी बीमारी के लिए 9 से 14 साल की लड़कियों के लिए भी टीकाकरण की घोषणा की थी। 

इसके अलावा, आज हम कुछ एहतियाती उपाय देखने जा रहे हैं जिनका उपयोग करके आप अपनी परिचित महिलाओं को सुरक्षित रहने में मदद कर सकते हैं।

डॉ प्रभा अग्रवाल, सलाहकार, प्रसूति एवं स्त्री रोग, केयर हॉस्पिटल, हाई-टेक सिटी, हैदराबाद ने द इंडियन एक्सप्रेस को एक ब्रीफिंग में गर्भाशय और गर्भाशय ग्रीवा को स्वस्थ रखने के लिए कुछ उपाय सुझाए हैं।

नियमित पैप स्मीयर और एचपीवी परीक्षण

पैप स्मीयर्स (पैप टेस्ट):

  • अपने डॉक्टर की सलाह के अनुसार पैप स्मीयर करवाएं, आमतौर पर 21 साल की उम्र से शुरू करें।
  • पैप स्मीयर गर्भाशय ग्रीवा के पास कोशिकाओं में किसी भी असामान्य परिवर्तन का जल्दी पता लगा सकता है, जिससे समय पर उपचार संभव हो जाता है। 30 साल की उम्र के बाद से, महिलाओं को हर पांच से दस साल में सर्वाइकल कैंसर की जांच करानी चाहिए।

एचपीवी परीक्षण:

  • मानव पेपिलोमावायरस संक्रमण का निदान करने के लिए अक्सर पैप स्मीयर के साथ एचपीवी परीक्षण भी किए जाते हैं।
  • एचपीवी संक्रमण का शीघ्र पता लगाने से सर्वाइकल कैंसर के विकास के जोखिम को कम करने में मदद मिलती है।

टीकाकरण

एचपीवी टीका आदर्श रूप से किशोरावस्था में दिया जा सकता है, लेकिन महिलाओं में 26 वर्ष और पुरुषों में 21 वर्ष की आयु तक। यौन सक्रिय होने से पहले टीका अवश्य लगवाना चाहिए। अमेरिकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) 26 वर्ष की आयु तक पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए टीकाकरण की सिफारिश करता है, लेकिन आप 45 वर्ष की आयु तक टीकाकरण करवा सकते हैं।

सुरक्षित सेक्स का अभ्यास करें

एचपीवी सहित यौन संचारित संक्रमणों के जोखिम को कम करने के लिए यौन गतिविधि के दौरान हमेशा और सही तरीके से कंडोम का उपयोग करें।

यौन साझेदारों को सीमित करें

यौन साझेदारों की संख्या सीमित करने से एसटीआई के जोखिम के साथ-साथ गर्भाशय ग्रीवा संबंधी विकारों का खतरा भी कम हो जाता है।

धूम्रपान छोड़ने

  • सर्वाइकल कैंसर के लिए धूम्रपान एक ज्ञात जोखिम कारक है।
  • धूम्रपान छोड़ने से समग्र स्वास्थ्य में सुधार होता है और गर्भाशय ग्रीवा संबंधी विकारों का खतरा कम हो जाता है।

स्वस्थ आहार लें

  • फलों, सब्जियों और साबुत अनाज से भरपूर संतुलित आहार लें।
  • उचित पोषण एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन करता है, जिससे संक्रमण को रोकने में मदद मिलती है।

नियमित रूप से व्यायाम करें:

  • स्वस्थ वजन बनाए रखने के लिए नियमित व्यायाम करें।
  • शारीरिक गतिविधि एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली में योगदान करती है।

तनाव का प्रबंधन करो:

  • ध्यान, योग या गहरी साँस लेने के व्यायाम जैसे तरीकों से तनाव कम करें
  • अत्यधिक तनाव प्रतिरक्षा प्रणाली पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

नियमित निरीक्षण:

समय-समय पर किसी स्वास्थ्य पेशेवर से सलाह लें। निरीक्षण से झिझकते हुए बचना खतरनाक हो सकता है।

सबसे अहम बात यह है कि इस बीमारी को गंभीरता से लेने की जरूरत है।

इस बीच आप ऊपर दिए गए बदलावों को अपनाकर सुरक्षित रहने की कोशिश कर सकते हैं। स्वयं को और अन्य मित्रों को सुरक्षित रहने के लिए प्रोत्साहित करें। यह जानकारी उन तक भी पहुंचाना न भूलें.

SHUBHAM SHARMA

Khabar Satta:- Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.

Leave a Comment