हर सफलता के पीछे होता है असफलता का हाथ

सफल होने की लालसा इतनी प्रबल होती है कि विवेकशील व्यक्ति को भी मार्ग से भटका देती है। ऐसे में इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि सफलता का कोई शार्ट कट नहीं होता और जो शार्ट कट से प्राप्त हो जाए वो सफलता का मात्र छलावा होता है।

Must Read

Coronavirus In Hollywood: हॉलीवुड पहुंचा कोरोना वायरस

Coronavirus In Hollywood: कोरोना वायरस का असर पूरी दुनिया पर पड़ रहा है।...

Holi के दिन Colour से बचने के लिए लोगों के अतरंगी जुगाड़, हंसी नहीं रोक पाओगे

Holi के दिन Colour से बचने के लिए लोगों के अतरंगी जुगाड़, हंसी नहीं रोक पाओगे

अजब गजब : यह शहर कहलाता है भारत का फ्रांस

अजब गजब : विश्व के नक्शे पर फ्रांस को देखकर अगर आपका...

क्या आप जानते है ? घड़ी के विज्ञापन में समय 10:10 ही क्यों रखा जाता है

चाहे वो रोलेक्स घडी हो या टाइटन सबके विज्ञापन में हमेशा समय...

खाने से पहले उसके चारों तरफ क्यों छिड़कते हैं पानी ! Did You Know ?

भारतीय परंपराओं का हमेशा से ही दुनिया में अलग स्थान रहा है, शायद...
- Advertisement -

अगर आप असफलता के खयाल से भी घबरा जाते हैं और किसी प्रयास में असफल होने के बाद निराश होकर बैठ जाते हैं तो आपके लिए ये जानना बहुत जरूरी है कि असफलता आपकी हार नहीं हैं बल्कि सफल होने की तैयारी है जो आपको इतना सक्षम बना देती है कि सफलता के शिखर पर पहुँचने पर आपके कदम डगमगायें नहीं और आप अपना संतुलन बनाये रख सकें।

ये निश्चित तौर पर नहीं कहा जा सकता कि हर सफल व्यक्ति कई असफलताओं के बाद ही ऊँचे मुकाम पर पहुँचता है लेकिन ये जरूर कहा जा सकता है कि ऐतिहासिक उपलब्धियां हासिल करने वाले महान और सफल लोग बहुत-सी कठिनाइयों का सामना करके ही सफल हो सके हैं और अपनी सफलता को स्थायी बनाने वाले लोगों ने हर बार अपनी असफलता से सीख ली है। इसी कारण ऐसे लोगसफल होने पर की जाने वाली आम गलतियाँ करने से बच गए।

ऐसे में अगर आप भी असफलता को एक नए नजरिये से देखें तो सफल होना और अपनी सफलता को बनाये रखना आपके लिए भी बेहद आसान हो सकता है। तो चलिएआज जानते हैं कि ऐसे नजरिये को कैसे विकसित किया जा सकता है –

वर्तमान में जीना शुरू कर दीजिये :
अक्सर असफल होने के पीछे बीते समय में की गयी गलतियां भी जिम्मेदार होती है। भूतकाल में मिली हार हमारे उत्साह को संदेह में बदल देती है और हम वर्तमान में अपनी जीत को लेकर आशंकित हो जाते हैं। इसके साथ-साथ भविष्य के लिए बनायी गयी योजनाएं भी वर्तमान पर काफी प्रभाव डालती हैं जिसके चलते हम सिर्फ भूत और भविष्य के विचारों में उलझकर रह जाते हैं और हमारा वर्तमान हाथ से निकलता जाता है।

हर कार्य के दोनों पक्ष देखिये :
सफल होने के लिए आपको जितने भी कार्य करने होते हैं, उनके दोनों पक्षों पर गौर करना शुरू कर दीजिये। उस कार्य को करने से होने वाले फायदे और नुकसान को समझ लेने के बाद, किये गए कार्य में सफलता मिलने की संभावनाएं बढ़ जाती है जबकि कार्य में केवल एक पक्ष देखने से असफल होने का खतरा बढ़ जाता है इसलिए प्रत्येक कार्य के सकारात्मक और नकारात्मक पहलुओं को अच्छे से समझ लेने के बाद ही उस कार्य की ओर अपना हाथ बढ़ाइए।

प्रयोग करने से घबराइए मत :
अक्सर हम कुछ भी नया आजमाने से इसलिए डर जाते हैं क्योंकि हमें उसमें असफल हो जाने का भय रहता है। ऐसे में आप थॉमस अल्वा एडिसन से प्रेरणा ले सकते हैं जिन्होंने सैंकड़ों असफल प्रयासों के बाद बिजली का बल्ब बनाने का महान आविष्कार किया था। उन्होंने कहा था – मैं यह नहीं कहूँगा कि मैं 1000 बार असफल हुआ, मैं यह कहूँगा कि ऐसे 1000 रास्ते हैं जो आपको असफलता तक पहुँचाते हैं।

जटिलताएं स्थायी नहीं होती :
हर नए काम को करने में अक्सर हम मुश्किल का अनुभव करते हैं लेकिन इस कारण उस काम को छोड़ देना ठीक नहीं है क्योंकि अगर लगातार अभ्यास किया जाए तो हर जटिलता दूर हो जाती है और काम करना बहुत आसान हो जाता है और ऐसा करते रहने से सफल होने की राह खुलती जाती है।

शॉर्टकट ना चुने :
सफल होने की लालसा इतनी प्रबल होती है कि विवेकशील व्यक्ति को भी मार्ग से भटका देती है। ऐसे में इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि सफलता का कोई शार्ट कट नहीं होता और जो शार्ट कट से प्राप्त हो जाए वो सफलता का मात्र छलावा होता है।

मानसिक रूप से स्थिर बने रहे :
अगर बड़ी सफलता की चाहत है तो किये जाने वाले प्रयास भी बड़े ही होंगे और उनमें मिलने वाली असफलता भी बड़ी हो सकती है। ऐसी स्थितियों में वही व्यक्ति आगे बढ़ सकता है जो हर हाल में स्थिर और शांत बना रह सके और अपने मनोबल को गिरने ना दे इसलिए अपने हौसलों को भी उतना ही ऊँचा बनाये रखिये जितना ऊँचा आप उठना चाहते हैं।

स्वयं का आंकलन करिये, संदेह नहीं :
हर सफल कदम पर स्वयं के उन प्रयासों को देखिये जिनके कारण आप सफल हो सके और हर असफल कदम पर स्वयं की क्षमताओं पर संदेह करने की बजाए, अपने प्रयासों का आंकलन करिये और पता लगाइये कि किन कारणों से आप सफलता से चूके हैं। इसके बाद उन गलतियों को दोहराने से बचिए और उसी उत्साह से आगे बढ़ जाइये।

सफलता और असफलता दोनों ही हमारे विचारों से जुड़ी होती है। अगर हम पॉजिटिव सोच रखते हैं और बिना हारेहर हाल में सफल होना चाहते हैं तो हम अवश्य सफल होते हैं लेकिन अगर हम नेगेटिव सोच के चलते स्वयं की क्षमताओं पर संदेह रखते हैं और परिस्थितियों को दोष देने में यकीन रखते हैं तो हमें मिली हुयी सफलता भी अस्थायी ही होती है। ऐसे में आप चुनाव करिये कि आप क्या चाहते हैं – सफलता या असफलताक्योंकि अब आप जान चुके हैं कि ये चुनाव भी आप ही के हाथ में है।

हमने यह लेख प्रैक्टिकल अनुभव व जानकारी के आधार पर आपसे साझा किया है। अपनी सूझ-बुझ का इस्तेमाल करे। आपको यह लेख कैसा लगाअगर इस लेख से आपको कोई भी मदद मिलती है तो हमें बहुत खुशी होगी। अपनी प्रतिक्रिया जरूर दे। हमारी शुभकामनाएँ आपके साथ हैहमेशा स्वस्थ रहे और खुश रहे।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

राष्ट्रपति पुतिन से मिले डॉ की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव

कोरोना वायरस की चपेट में इस वक्त दुनिया की अधिकतर देश आ चुकी है। ब्रिटेन के प्रिंस चार्ल्स...

लॉकडाउन के बीच बड़ी राहत, रसोई गैस हुई सस्ती

नई दिल्ली. कोरोनावायरस के कारण अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चल रही मंदी का फायदा अब आम आदमी को मिलता दिख रहा है। प्राकृतिक गैस...

कोरोना: अमरनाथ यात्रा पर कोरोना का साया रजिस्ट्रेशन टला : Baba Amarnath Yatra 2020

जम्मू, देश भर में फैले कोरोना वायरस का साया वार्षिक अमरनाथ यात्रा पर भी पड़ता नजर आ रहा है। अप्रैल से शुरू होने...

सरकार ने कहा अचानक बढ़े कोरोना के मरीज, तबलीगी जमात के लोग है वजह

देश में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 1700 से ज्यादा हो गया है. अब तक 54 लोगों की मौत हो चुकी है. इस...

जनता और प्रशासन के बीच बना रहे तालमेल चौकी प्रभारी- प्रदीप पांडे

सिवनी केवलारी (रवि चक्रवती) : जिले सहित पूरे देश में लॉकडाउन के चलते पलारी चौकी प्रभारी एस आई प्रदीप पांडे और स्टाफ...

Stay connected

4,879FansLike
6,469FollowersFollow
408FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

More Articles Like This