कूड़ेदान में रक्तदान! ब्लड डोनेट करने के बाद ख़ून मरीज़ को जाए न जाए, नालियों में ज़रूर जाता है

Must Read

Coronavirus In Hollywood: हॉलीवुड पहुंचा कोरोना वायरस

Coronavirus In Hollywood: कोरोना वायरस का असर पूरी दुनिया पर पड़ रहा है।...

Holi के दिन Colour से बचने के लिए लोगों के अतरंगी जुगाड़, हंसी नहीं रोक पाओगे

Holi के दिन Colour से बचने के लिए लोगों के अतरंगी जुगाड़, हंसी नहीं रोक पाओगे

अजब गजब : यह शहर कहलाता है भारत का फ्रांस

अजब गजब : विश्व के नक्शे पर फ्रांस को देखकर अगर आपका...

क्या आप जानते है ? घड़ी के विज्ञापन में समय 10:10 ही क्यों रखा जाता है

चाहे वो रोलेक्स घडी हो या टाइटन सबके विज्ञापन में हमेशा समय...

खाने से पहले उसके चारों तरफ क्यों छिड़कते हैं पानी ! Did You Know ?

भारतीय परंपराओं का हमेशा से ही दुनिया में अलग स्थान रहा है, शायद...
- Advertisement -

रक्तदान करने के लिए हमें अकसर प्रेरित किया जाता है. ये भी हमने कई बार सुना है कि भारत में हर साल कई लोगों की सही वक़्त पर ख़ून ना मिलने के कारण मौत हो जाती है. लेकिन हर साल भारत में कई लाख यूनिट ख़ून बर्बाद होता है. सोचने वाली बात है, पहले तो ख़ून की कमी है. उसके बाद ख़ून की बर्बादी? भारत में हर साल 10-12 मिलियन यूनिट ख़ून की ज़रूरत होती है और सिर्फ़ 9.9 मिलियन ख़ून ही जमा किया जाता है. स्वास्थ्य मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में हर साल लाखों यूनिट ख़ून बेकार हो जाता है और फेंक दिया जाता है. इसके पीछे कई कारण हैं. ज़्यादा दिन तक ख़ून रखे रहने से ख़ून ख़राब हो जाता है और किसी काम नहीं आता, इसलिये इसे फेंकना ही पड़ता है. दूसरा कारण है, स्टोरेज. तीसरा, Infections. स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक ख़ून मलेरिया, HIV, Hepatitis C, Hepatitis B जैसे रोगों के किटाणुओं से Infect हो जाता है और बेकार हो जाता है.

ख़ून में पाया जाने वाला Plasma, जो अलग-अलग तरह से किसी रोगी की ज़िन्दगी बचा सकता है, सबसे ज़्यादा बर्बाद होता है. WHO(World Health Organisation) के अनुसार, ख़ून की एक यूनिट से कम से कम 3 लोगों की जान बचाई जा सकती है.

WHO की एक रिपोर्ट के अनुसार, एक Open Heart Surgery करने के लिए औसतन ख़ून की 6 यूनिट की ज़रूरत होती है, वहीं एक Accident के शिकार व्यक्ति को 100 यूनिट तक ख़ून की ज़रूरत हो सकती है. अस्पताल में भर्ती 10 मरीज़ों में से 1 को ख़ून की ज़रूरत पड़ती ही है.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने ये डेटा लोकसभा में उठाये गये एक प्रश्न के उत्तर में प्रस्तुत किया.

हमारी आबादी का अगर 1 प्रतिशत हिस्सा भी ईमानदारी से रक्तदान करे, तो देश में ख़ून की कमी नहीं होगी. लोग आजकल रक्तदान को लेकर ज़्यादा जागरूक हुए हैं और ऐसे में सरकार का ऐसा ग़ैरज़िम्मेदाराना रवैया कई प्रश्न खड़े करता है.

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

रामनवमी 2020 : Sri Rama Navami Images

भगवान राम का जन्मदिवस राम नवमी आज है। लंकापति रावण के अंहकार के किले को ध्वस्त करने वाले...

Ram Navmi 2020 : के शुभ अवसर पर अपने करीबियों और दोस्तों को भेजिए शुभकामनाओं के मैसेज, कोट्स और तस्वीर

चैत्र नवरात्र के आखिरी दिन को मां दुर्गा के नवे रूप मां सिद्धरात्रि की पूजा के साथ-साथ राम नवमी का त्योहार मनाया जाता है। ...

कोरोना से जंग में अजीम प्रेमजी ने खोल दिया खजाना, दान किए 1125 करोड़ रु

नई द‍िल्‍ली: कोरोना वायरस पूरी दुनिया में तेजी से फैल रहा है। ऐसे में प्रधानमंत्री की अपील के बाद अब कंपनियां और...

कौन हैं मौलाना साद, 150 देशों में तबलीगी जमात के प्रमुख बना कैसे ?

दिल्ली के निज़ामुद्दीन इलाके में तबलीगी जमात के मरकज में कोरोना वायरस फैलने से ये जमात देशभर के निशाने पर आ गई...

कोरोना से परेशान ‘यमराज’ सड़कों पर उतरे, घर बैठने की दी हिदायत…

आंध्र प्रदेश में बुधवार को कोरोनावायरस के 43 नए मामले सामने आए, जिससे राज्य में कोरोना मामलों की संख्या बढ़कर 87 हो...

Stay connected

4,881FansLike
6,466FollowersFollow
408FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

More Articles Like This