VIDEO : शटर्स वाले शहर SEONI में 7 दिनों तक चलेगा अतिक्रमण हटाने का जिन्न

0
1495

सिवनी न्यूज़, खबर सत्ता : सिवनी जिले में मंगलवार से शहर में एक बार फिर अतिक्रमण हटाने की कवायद की जा रही है । 04 अक्टूबर को संपन्न हुई सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में जिलाधिकारी प्रवीण सिंह के द्वारा शहर में यातायात सुव्यवस्थित करने की गरज़ से अतिक्रमण हटाने के निर्देश नगर पालिका परिषद को दिये गये थे।

इस आदेश के जारी होने के लगभग डेढ़ माह बाद भी भाजपा शासित नगर पालिका परिषद के द्वारा इस मामले को ठण्डे बस्ते में डाले रहने के कारण जिलाधिकारी ने सोमवार को संपन्न हुई समय सीमा की बैठक में एक बार फिर इस तरह के निर्देश जारी किये थे कि मंगलवार से शहर में अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही को अंज़ाम दिया जाये।

सोमवार को जारी सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार जिलाधिकारी प्रवीण सिंह के द्वारा समय सीमा की बैठक में शहर की यातायात व्यवस्था को सुगम और सुव्यवस्थित करने के लिये अनुविभागीय अधिकारी राजस्व एवं मुख्य नगर पालिका अधिकारी को निर्देश दिये गये हैं कि 26 नवंबर से ही अतिक्रमण हटाये जाने की कार्यवाही आरंभ की जाये।

यहाँ यह उल्लेखनीय होगा कि नगर पालिका के द्वारा साल में एक या दो बार अतिक्रमण हटाये जाने की कार्यवाही को अंज़ाम दिया जाता है पर पालिका की यह कार्यवाही महज़ एक या दो दिन चलने के बाद ठण्डे बस्ते के हवाले कर दी जाती है। शहर की मॉडल रोड से ही अब तक अतिक्रमण नहीं हटवाये जा सके थे ।

यह भी पढ़े :  केवलारी : शहादत को शालाम , वीर जवानों को दी गई श्रद्धांजलि

इस साल जून माह में भी शहर की सड़कों को अतिक्रमण मुक्त करने का अभियान आरंभ किया गया था। इसके लिये नेहरू रोड की नापज़ोख की जाकर अतिक्रमण करने वालों को नोटिस जारी किये गये थे। इसके बाद यह कार्यवाही एक बार फिर ठण्डे बस्ते के हवाले कर दी गयी थी।

नागरिकों का कहना है कि जिला मुख्यालय की यातायात व्यवस्था कई वर्षों से अराजक स्थिति में है। रात को चौड़ी नज़र आने वाली सड़कें सुबह नौ बजे के बाद एकदम तंग गली में तब्दील हो जाती हैं। शहर में शायद ही कोई ऐसी सड़क बची हो जहाँ अतिक्रमण के चलते यातायात प्रभावित न होता हो।

सिवनी शहर को लोग अब शटर्स वाला शहर भी कहने लगे हैं। यहाँ जितने आवास होंगे कमोबेश उतनी ही दुकानें भी यहाँ बन चुकी हैं। मकान मालिकों के द्वारा बिना पार्किंग की व्यवस्था किये ही दुकानें बनाकर या तो खुद व्यवसाय आरंभ कर दिया जाता है या किराये पर दे दी जाती हैं।

शहर के भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में चल रहे प्रतिष्ठानों के वाहन सड़क पर खड़े होने के कारण जब चाहे तब जाम की स्थिति बन जाती है। इस तरह के जाम में जब एंबुलेंस फंसती है तो मरीज़ के परिजनों की सांसें फूल जाती हैं। कमोबेश यही आलम आपात स्थिति में दमकल का होता है।

यह भी पढ़े :  सिवनी कलेक्टर ने ध्वनि विस्तारक यंत्रो के उपयोग पर जारी किये प्रतिबंधात्मक आदेश

लिये गये थे निर्णय : 04 अक्टूबर को सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में अनेक निर्णय लिये गये थे। इसमें शहर के चुनिंदा मार्गों का चौड़ीकरण, बस स्टैण्ड क्षेत्र को व्यवस्थित करने, छः दिन (10 अक्टूबर तक) यातायात सिग्नल्स को आरंभ कराने जैसे अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये थे।

मौन है भाजपा : शहर में यातायात की बदहाली को देखने के बाद भी नगर पालिका में सत्तारूढ़ भाजपा ने अब तक अपना मौन नहीं तोड़ा है। नागरिकों का कहना है कि जनता चुपचाप सब कुछ देख रही है, आने वाले नगर पालिका चुनावों में जनता का मौन अगर कुछ अप्रत्याशित निर्णय दे दे तो किसी को आश्चर्य नहीं होना चाहिये।

आज दिनाँक को हुई अतिक्रमण कार्यवाही में मुख्यालय बस स्टैंड से लेकर छिंदवाड़ा चौक तक अतिक्रमण जबरदस्त तरीके से हटाया गया जिसकी कुछ झलक आप नीचे वीडियो में देख सकते है , प्रशासनिक सूत्रों की माने तो आज से निरंतर 7 दिनों तक जिले में अतिक्रमण हटाने की इस मुहिम को हवा की तरह तेज़ रफ़्तार से चलाया जाएगा ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.