Home मध्य प्रदेश मध्यप्रदेश के राजकीय खेल मलखंभ पर उज्जैन में पहली बार ऐसा शोध

मध्यप्रदेश के राजकीय खेल मलखंभ पर उज्जैन में पहली बार ऐसा शोध

उज्जैन। मध्यप्रदेश के राजकीय खेल मलखंभ पर उज्जैन में पहली बार वैज्ञानिक रूप से शोध हो रहा है। यह शोध यहां के फिजियोथैरेपिस्ट डॉ. अनुराग आचार्य कर रहे हैं। वे हर उम्र के व्यक्ति को मलखंभ का अभ्यास कराकर पता करना चाहते हैं कि आखिर मलखंभ के आसन लगाने से शरीर की कौन सी मसल्स (मांसपेशी) कैसे काम करती है, शरीर में कितना लचीलापन (फ्लैक्सिबिलिटी) आता है और कार्यक्षमता (स्टेमिना) कितनी बढ़ती है। इस शोध के लिए वे द्रोणाचार्य पुरस्कार प्राप्त योगेश मालवीय का सहयोग भी ले रहे हैं।

डॉ. अनुराग, खुद एक वक्त मलखंभ के राज्यस्तरीय खिलाड़ी रह चुके हैं। उन्होंने ‘नईदुनिया’ को बताया कि मलखंभ को सिर्फ खेल के रूप में देखा जाना ठीक नहीं है। मलखंभ प्राचीन खेल है, जिसमें अपने शरीर के बल का उपयोग करते हुए व्यायाम किए जाते हैं। ये व्यायाम, जिम के उपकरणों से किए जाने वाले व्यायाम से ज्यादा सुरक्षित और फायदेमंद हैं। मलखंभ के व्यायाम से कार्यक्षमता अधिक बढ़ती है। शोध स्वरूप हर उम्र के कुछ लोगों को मलखंभ अभ्यास कराया जा रहा है। उनकी बॉडी और मसल्स स्ट्रेंथ का अभी डेटा रिकॉर्ड किया है। दो माह बाद फिर देखेंगे कि इनमें कितना अंतर आया है। ये डेटा भविष्य में मलखंभ को ओलिंपिक, एशियन गेम्स में शामिल कराने में काफी फायदेमंद साबित होगा।

- Advertisement -

वर्ष 2013 में घोषित किया था राजकीय खेल

मलखंभ देश का प्राचीन खेल है, जिसमें खिलाड़ी लकड़ी के एक उर्ध्व खंभे या रस्सी के ऊपर शारीरिक बल का उपयोग कर करतब का प्रदर्शन करता है। इसमें जिस खंभे उपयोग होता है, उसे मलखंभ कहते हैं। वर्ष 2013 में मलखंभ को राजकीय खेल घोषित किया था। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने उज्जैन में मलखंभ अकादमी खोलने की घोषणा की थी, लेकिन अकादमी के लिए अब तक जमीन तय नहीं हो पाई। मलखंभ के क्षेत्र में

- Advertisement -
यह भी पढ़े :  नरोत्तम बोले- लव जिहाद कानून पर अपनी स्थिति स्पष्ट करे कांग्रेस, किसान आंदोलन पर भी साधा निशाना

उज्जैन के खाते में हैं 23 अवॉर्ड

यह भी पढ़े :  भगवान को ठंड से बचाने के लिए भक्तों ने ओढ़ाए गर्म वस्त्र

1 द्रोणाचार्य

- Advertisement -

12 विक्रम

4 विश्वामित्र

3 प्रभाष जोशी

3 एकलव्य अवार्ड

प्रशिक्षक को सम्मान मिला, सम्मान निधि नहीं

अभी तीन सप्ताह पहले ही उज्जैन के योगेश मालवीय ने भारत सरकार से द्रोणाचार्य पुरस्कार प्राप्त किया। उन्हें सम्मान स्वरूप प्रमाण पत्र मिला, लेकिन केंद्र और राज्य सरकार की ओर से मिलने वाली 10-10 लाख रुपये की सम्मान निधि नहीं मिली। उनका इस बारे में कहना है कि सम्मान निधि भी मिल जाएगी। शासन की प्रक्रिया है, कुछ वक्त लगेगा।

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,273FansLike
7,044FollowersFollow
779FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

कोरोना के इलाज में लापरवाही बरतने पर इंदौर में FIR

इंदौर: इंदौर में बढ़ते कोरोना के मरीजों की सख्या सभी वर्ग के लिए चिंता का विषय बनी हुई है।...
यह भी पढ़े :  MP में सरकारी अस्पताल बना मासूमों की कब्रगाह, 28 घंटों में 5 नवजातों की मौत

पावरफुल बैटरी और क्वाड रियर कैमरे के साथ Tecno Pova हुआ लॉन्च, जानिए कीमत और स्पेसिफिकेशन्स

नई दिल्ली। Tecno ने अपना नया स्मार्टफोन Tecno Pova भारतीय बाजार में आधिकारिक तौर पर लॉन्च कर दिया है। इस स्मार्टफोन को दो स्टोरेज...

सोना हुआ सस्ता, चांदी की कीमतों में भी अच्छी-खासी गिरावट, जानें क्या रह गए हैं रेट

नई दिल्ली। सोने के भाव में शुक्रवार को अच्छी-खासी गिरावट देखने को मिली। एचडीएफसी सिक्योरिटीज के मुताबिक सप्ताह के आखिरी कारोबारी सत्र में राष्ट्रीय राजधानी...

वरुण धवन, अनिल कपूर और नीतू कपूर के COVID-19 पॉज़िटिव होने की ख़बर, ‘जुग जुग जियो’ की शूटिंग रुकी

नई दिल्ली। मनोरंजन इंडस्ट्री से एक बड़ी ख़बर आ रही है। वरुण धवन, अनिल कपूर और नीतू कपूर का कोविड-19 टेस्ट पॉज़िटिव आया है,...

इस कॉमेडी फिल्म की शूटिंग के दौरान हो गया था श्रीदेवी के पिता का निधन, तब ऐसे संभाली थी शूटिंग

दवंगत निर्देशक यश चोपड़ा की बेहतरीन फिल्मों में ‘लम्हे’ को शुमार किया जाता है। यह आम प्रेम कहानी से बेहद अलग थी। इसमें दिवंगत...
x