Friday, April 9, 2021

कोरोना संक्रमण को रोकने पर CM शिवराज सिंह चौहान का बड़ा बयान- लॉकडाउन है उपाय लेकिन…

Must read

Khabar Satta Deskhttps://khabarsatta.com
खबर सत्ता डेस्क, कार्यालय संवाददाता
- Advertisement -

भोपाल एक फिर बार से मध्य प्रदेश सहित पूरे देश में कोरोना का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ऐसे में सरकार अलर्ट हो गई है। लगातार लोगों के मन में डर बना हुआ है कि क्या दोबारा से देश में लॉकडाउन लगाया जाएगा! यह डर ना सिर्फ आम जनता बल्कि मुख्यमंत्री, मंत्री विधायक तक में है। इस संदर्भ में आज मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने तो साफ तौर पर कह दिया है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए लॉकडाउन ही उपाय, लेकिन अगर एक फिर से देश में लॉकडाउन लग गया तो देश की अर्थव्यवस्था तबाह हो जाएगी।

समाज को जागरूक होना पड़ेगा- सीएम

- Advertisement -

स्वास्थ्य आग्रह कार्यक्रम में मध्य प्रदेश के CM शिवराज सिंह चौहान ने अपने संबोधन में कहा कि कोरोना देश और प्रदेश में बढ़ रहा है। केवल सरकारी प्रयासों से इस पर नियंत्रण नहीं किया जा सकता। इसे रोकने के लिए समाज को जागरूक होना पड़ेगा। इसे रोकने का एक ही उपाय है लॉकडाउन, लेकिन यह अर्थव्यवस्था को तबाह कर देगा।

देश में पिछले 24 घंटे में 96,982 नए मामले दर्ज

- Advertisement -

भारत में कोरोना संक्रमण के मामले कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं। एक दिन में कोरोना के 96 हजार से अधिक मामले मिले हैं। हालांकि, यह संख्या सोमवार को मिले अब तक के सर्वाधिक एक लाख से कम है। इस बार 10 मार्च से चार अप्रैल के भीतर ही मामले एक लाख के पार चले गए हैं। देश में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 1.26 करोड़ पहुंच गई है। वहीं  कुल 8 करोड़ 31 लाख 10 हजार 926 लोगों को कोरोना वायरस की वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

कुल संक्रमितों का आंकड़डा 1 करोड़ 26 लाख 86 हजार के पार

- Advertisement -

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालयकी ओर से जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में भारत में कोरोना वायरस के 96,982 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 1 करोड़ 26 लाख 86 हजार 49 हो गई है। इस दौरान हुई 446 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 1 लाख 65 हजार के पार हो गई है। देश में लगातार 27 दिनों से नए मामलों में हो रही बढ़ोतरी के बाद सक्रिय मामलों की संख्या भी बढ़कर 7 लाख 88 हजार 223 हो गई, जो कुल मामलों का 6.21 फीसद है।

- Advertisement -

IPL 2021

- Advertisement -

More articles

Latest News