Madhya Pradesh में अलर्ट : चमकी बुखार को लेकर

0
142

अब तक ले चुका है 113 बच्चों की जान

भोपाल । बिहार में 113 बच्चों की जान ले चुके चमकी बुखार को लेकर मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने इस जानलेवा बुखार को देखते हुए प्रदेश के सभी सरकारी, गैर सरकारी और सिविल अस्पतालों को अलर्ट रहने के निर्देश दिए हैं।

इसके साथ ही, स्वास्थ अधिकारियों को भी निर्देश जारी कर दिये गए हैं कि, इस जानलेवा बुखार से लड़ने में इस्तेमाल होने वाली सभी ज़रूरी चीजों को प्रदेश के हर सरकारी अस्पताल में मुहैया कराएं।

सतर्क रहने के लिए दिए गए निर्देश : ज्ञातव्य है कि चमकी बुखार एक ऐसा जानलेवा बुखार है, जिसने बिहार में हाहाकार की स्थिति पैदा कर दी है। बुखार के प्रकोप से रौजाना बिहार में बच्चों की मौतें हो रही है। इस जानलेवा बुखार की पुष्टी झारखंड में भी हो चुकी है, जिसके बाद वहां की राज्य सरकार ने चमकी बुखार का अलर्ट जारी किया है। इन्ही परिस्थिति को गंभीरता से लेते हुए मध्य प्रदेश सरकार ने भी प्रदेश में चमकी बुखार को लेकर अलर्ट जारी किया है। साथ ही, सिवास्थ मंत्री द्वारा स्वास्थ अधिकारियों को पर्याप्त वयवस्था बनाने के भी निर्देश दिये हैं।

क्या होता है चमकी बुखार, जानिए इसके लक्षण : चमकी बुखार एक संक्रामक बीमारी है। यानी ये तेजी से एक से दूसरे के शरीर में प्रवेश कर लेती है। इस बीमारी के वायरस शरीर में पहुंचते ही खून में शामिल होकर अपना प्रजनन शुरू कर देते हैं। शरीर में इस वायरस की संख्या बढ़ने पर ये खून के साथ मिलकर पीड़ित के दिमाग तक पहुंच जाते हैं। जैसे ही ये वायरस किसी व्यक्ति के दिमाग में पहुंचता है, तुरंत ही दिमाग की कोशिकाओं में सूजन पैदा होने लगती है। जिससे व्यक्ति का सेंट्रल नर्वस सिस्टम भी खराब हो जाता है।

यह भी पढ़े :  MP मे जैन और गुजराती और सिंधी समाज में Pre Wedding फोटोशूट और पुरुष कोरियोग्राफर पर बेन

चमकी बुखार में बच्चे को काफी तेज बुखार चढ़ा रहता है, जो धीरे धीरे बढ़ता जाता है। बदन में ऐंठन के साथ बच्चा अपने दांत पर दांत चढ़ाए रहता है। शरीर में कमजोरी की वजह से बच्चा बार-बार बेहोश हो जाता है। शरीर में कंपन के साथ बार-बार झटके आने लगते हैं। इस बुखार की तीव्रता से शरीर एकदम सुन्न पड़ जाता है।

एक निवेदन ज्यादा से ज्यादा लोगो के साथ शेयर करे जिससे सभी सतर्क रहे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.