khabar-satta-app
Home देश अमेरिका द्वारा WHO की फंडिंग रोकने पर WHO प्रमुख का पलटवार

अमेरिका द्वारा WHO की फंडिंग रोकने पर WHO प्रमुख का पलटवार

एक तरफ जहां पूरी दुनिया कोरोना (Coronavirus) की काट खोजने में लगी है, वहीं अमेरिका इस संकट काल में भी अपना वर्चस्व साबित करने की कोशिश में लगा है.

वाशिंगटन: एक तरफ जहां पूरी दुनिया कोरोना (Coronavirus) की काट खोजने में लगी है, वहीं अमेरिका इस संकट काल में भी अपना वर्चस्व साबित करने की कोशिश में लगा है. अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को दिए जाने वाले फंड पर रोक लगा दी है. राष्ट्रपति ट्रम्प ने यह फैसला चीन के प्रति WHO की कथित नजदीकी को देखते हुए लिया है. अमेरिका के इस कदम की चीन और रूस सहित दुनिया के कई देशों ने आलोचना की है. 

इस बीच, WHO के महानिदेशक टेड्रोस एडनोम घेबियस का बयान भी सामने आया है. हालांकि, उन्होंने प्रत्यक्ष तौर पर अमेरिका को लेकर कुछ नहीं कहा है, लेकिन इशारों-इशारों में यह स्पष्ट कर दिया है कि उनके पास इस बेकार के विवाद में उलझने का समय नहीं है. 

- Advertisement -

उन्होंने कहा, ‘इस समय हमारा केवल एक ही लक्ष्य है, लोगों को कोरोना महामारी से बचाना और वायरस के प्रसार पर रोक लगाना’. बुधवार को दिए अपने बयान में उन्होंने आगे कहा, ‘COVID-19 के बारे में हमने अब तक यह जाना है कि जितनी जल्दी संक्रमित लोगों के बारे में पता चलता है, जांच की जाती है, उन्हें आइसोलेट किया जाता है, उतनी ही जल्दी इस वायरस के फैलने की गति को धीमा किया जा सकता है. इसलिए फिलहाल हमारा फोकस दुनियाभर के लोगों की जान बचाने पर है’.

अमेरिका के इस फैसले पर नाराजगी व्यक्त करते हुए चीन ने कहा है कि स्थिति गंभीर है, ऐसे समय में जब वायरस तेजी से फैल रहा है, अमेरिका का यह कदम सहयोग को बाधित करेगा. चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि ‘चीन अमेरिका द्वारा WHO की फंडिंग रोकने से चिंतित है.’ 

- Advertisement -

वहीं, अफ्रीकन यूनियन कमीशन के चेयरमैन मौसा फाकी ने कहा कि अमेरिका का यह फैसला बेहद अफसोसजनक है. दूसरे कई देश भी इस फैसले से नाराज हैं. जर्मनी ने भी फंडिंग रोकने के निर्णय को गलत बताया है. जर्मन विदेश मंत्री हेइको मास ने कहा कि यह समझना चाहिए कि वायरस किसी सीमा को नहीं जानता, दूसरों को दोष देने से मदद नहीं मिल सकती. रूस ने भी अमेरिकी रुख पर नाराजगी व्यक्त की है. उपविदेश मंत्री सर्गेई रयाबकोव ने कहा, ‘यह अमेरिकी अधिकारियों के बेहद स्वार्थी दृष्टिकोण को दर्शाता है. ऐसे समय में जब अंतर्राष्ट्रीय समुदाय WHO की ओर आशा भरी निगाहों से देख रहा है, अमेरिका ने उसे आघात पहुंचाया है’.

- Advertisement -

Leave a Reply

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
793FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

Paytm और Google से चीन के निवेश का संबंध, पूछताछ जारी

खबरसत्ता / टेक्नोलॉजी डेस्क/ व्यक्तिगत डेटा संरक्षण विधेयक, 2019 (Personal Data Protection Bill 2019) की समीक्षा...

SEONI: मनरेगा योजनांतर्गत संचालित कार्यों के लिए लगने वाली सामग्री एवं मशीनरी प्रदाय हेतु निविदा आमंत्रित

सिवनी: कार्यपालन यंत्री ग्रामीण यांत्रिकी सेवा संभाग सिवनी द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि संभाग सिवनी के अंतर्गत विभिन्न जनपद पंचायतों...

सिवनी कोरोना न्यूज़: 2 नए मरीज मिले, वहीं हुए 6 स्वस्थ अब 49 एक्टिव केस

सिवनी कोरोना न्यूज़: 2 नए मरीज मिले, वहीं हुए 6 स्वस्थ अब 49 एक्टिव केस सिवनी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ...

SEONI: सरल समाधान योजना में व्यापारियों को ब्याज और पेनाल्टी में मिलेगी 90 प्रतिशत की छूट

सिवनी: राज्यकर उपायुक्त वाणिज्यिक कर सिवनी वृत्त द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि जीएसटी लागू होने के पूर्व वैट कर के...

सिवनी: सिवनी कलेक्टर की अध्यक्षता में पुलिस एवं राजस्व विभाग के अधिकारियों की बैठक सम्पन्न

सिवनी: सिवनी कलेक्टर डॉ राहुल हरिदास फटिंग एवं पुलिस अधीक्षक श्री कुमार प्रतीक की अध्यक्षता में गुरूवार 29 अक्टूबर को पुलिस विभाग...