independence-day-2020

Ram Mandir Ayodhya : मृत्यु के बाद घर पहुंचा था कोठारी बंधुओं का पत्र

अयोध्या Ram Mandir Ayodhya News : जब जन्मभूमि पर राममंदिर के लिए भूमि पूजन होने जा रहा है तो ऐसे में रामकुमार कोठारी और शरद कोठारी का जिक्र भी समीचीन है। मंदिर आंदोलन के लिए उन्होंने दो नवंबर वर्ष 1990 को अपना सर्वोच्च बलिदान दिया। उनकी कहानी अत्यंत ही मार्मिक है। 

वह 1990 की कारसेवा थी, जो देशव्यापी मंदिर आंदोलन की मुहिम को विवादित इमारत में विराजे रामलला की दहलीज तक खींच लाई थी। तत्समय इस आंदोलन का नेतृत्व विहिप के शीर्ष नेता एवं संत कर रहे थे, जिसे कोठारी बंधुओं जैसे उत्साही और संकल्पबद्ध युवाओं का संबल मिला हुआ था।

- Advertisement -

वर्ष 1990 में 30 अक्टूबर को आगे बढ़े कोठारी बंधु तमाम रोक-टोक और बंदिशों को धता बताते हुए विवादित इमारत के ढांचे पर जा चढ़े और इमारत के शिखर पर भगवा ध्वज फहराकर यह संकेत दिया कि रामभक्तों की अस्मिता पर आघात का प्रतिकार नए सिरे से अंगड़ाई ले रहा है।

30 अक्टूबर की घटना से खार खाए अर्धसैनिक बल के जवानों ने कारसेवकों को देखते ही उन पर फायरिंग शुरू कर दी। भगदड़ के बीच कोठारी बंधु लाल कोठी के निकट एक घर की ओट में चले गए। गोलियों की बौछार थमी, तो वे बाहर निकले और इसी बीच उनके सिर और छातियां गोलियों से बिंध गईं।

- Advertisement -

दोनों भाई वर्ष 1990 में 22 अक्टूबर को कोलकाता से ट्रेन से अयोध्या के लिए रवाना हुए थे। कारसेवकों को अयोध्या पहुंचने से रोकने संबंधी सरकार की मुहिम के चलते ट्रेन तो उत्तर प्रदेश की सीमा में पहुंचते ही छोड़ देनी पड़ी। आगे का सफर उन्होंने टैक्सी से किया और आजमगढ़ के फूलपुर कस्बा पहुंचने के बाद टैक्सी से आगे बढ़ना भी असंभव हो गया। इसके बाद दो सौ किलोमीटर की दूरी उन्होंने पैदल तय की। उनके पिता हीरालाल ने अपने दोनों बेटों को रवाना करते हुए यह हिदायत दी थी कि वे अपना हालचाल पोस्टकार्ड के जरिए लिखते रहेंगे। 

उनका पोस्टकार्ड पहुंचने से पूर्व उनकी मौत की खबर कोलकाता पहुंची। पिता हीरालाल में इतनी भी हिम्मत नहीं बची थी कि वो अपने बेटों का शव देख पाएं। रामकुमार और शरद के बड़े भाई ने सरयू के घाट पर चार नवंबर को दोनों भाइयों का अंतिम संस्कार किया। अंतिम संस्कार के एक माह बाद कोठारी परिवार के घाव नए सिरे से हरे हो गए, जब दोनों भाइयों की ओर से लिखा गया पोस्टकार्ड मिला। इसमें उन्होंने बहन पूर्णिमा कोठारी को संबोधित करते हुए लिखा था, ‘तुम चिंता मत करना, तुम्हारी शादी से पहले हम घर वापस लौट आएंगे।’

- Advertisement -

चार को अयोध्या आएंगी पूर्णिमा
कोठारी बंधुओं की बहन पूर्णिमा कोठारी चार अगस्त को अयोध्या पहुंचेंगी और भूमि पूजन के कार्यक्रम में शिरकत करेंगी। भूमि पूजन के लिए उन्हें ट्रस्ट की ओर से आमंत्रण मिला है। वे कहती हैं, ‘इस घड़ी का इंतजार वर्षों से था। 30 साल में ये मेरे लिए यह सबसे बड़ी खुशी की खबर है।’

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Short Stories

Leave a Reply

काला पानी की सजा इतनी खतरनाक क्‍यों थी, आइये जानते है जेल की सलाखों के पीछे की काहानी

भारत पर राज करने वाले ब्रिटिश हुकूमत ने वर्ष 1896 में इस जेल की आधारशीला रखी। उस...

Black Box In Plane : प्लेन में ब्लैक बॉक्स क्या होता है ?

Black Box In Plane क्या होता है प्लेन में ब्लैक बॉक्स आइये जानते है. बहुत कम लोगों...

क्या आप जानते है ? देश में पुलिस की वर्दी खाकी रंग की क्यों होती है, और पश्‍च‍िम बंगाल में सफेद क्‍यों? GK IN...

भारतीय पुलिस हमारी कानून व्यवस्था का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है. पुलिस हमारी सुरक्षा के लिए हमेशा तैनात...

PUBG Mobile : बेटे ने उड़ा दी पिता के जीवनभर की कमाई, बैंक से 16 लाख रुपये निकाले

नई दिल्ली। ऑनलाइन गेम पबजी (प्लेयर अननोन बैटलग्राउंड्स) का नशा आजकल के...

बन्दर को उम्रकैद : शराबी बन्दर को उम्रकैद, हरकतें जानकर आप भी होंगे हैरान

आपने अक्सर लोगों को उम्रकैद की सजा मिलने की खबर सुनी होगी,...

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

8,733FansLike
7,044FollowersFollow
495FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

मध्य प्रदेश : ऐसे श्री कृष्ण जिन्होंने पहनी 100 करोड़ की पोशाक, सुरक्षा में हथियारों से लैस पुलिस बल रहा तैनात; जानिए कहां है...

ग्वालियर: मध्यप्रदेश के ग्वालियर के ऐतिहासिक गोपाल मंदिर में जन्माष्टमी के शुभ अवसर पर भगवान श्रीकृष्ण और राधाजी...

मध्यप्रदेश : IAS, IPS और IFS सभी अधिकारियों को छुट्टी के लिए नया नियम, अब ऑनलाइन एप्लिकेशन के बाद मिलेगी छुट्टी

भोपाल, मध्यप्रदेश : मध्य प्रदेश में कोरोना काल के दौरान अफसरों के तबादलों के साथ ही अब उनकी छुट्टियों को लेकर भी...

सिवनी कोरोना न्यूज़ : जिला जेल में बुधवार रात को विचाराधीन बंदी मिला कोरोना संक्रमित

सिवनी। जिले में तेजी से कोरोना संक्रमण वायरस के मरीज मिल रहे हैं। बुधवार कृष्ण जन्माष्टमी को जिला जेल में बंदी एक...

सिवनी : कोरोना काल में सिवनी कलेक्टर राहुल हरिदास की अपील

जिला सिवनी की समस्त सीमाएं खुली हुई है, जिले में प्रत्येक रविवार को लाकडाउन है । सप्ताह के शेष दिवसों में जिले...

Bengaluru: दंगाइयों पर कार्रवाई के लिए UP का ‘योगी मॉडल’ अपनाया जाएगा

बेंगलुरु: कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में हुई हिंसा में तीन लोगों की मौत हुई है और 60 पुलिसकर्मियों समेत दर्जनों घायल हुए हैं....