khabar-satta-app
Home देश 2 महिला डॉक्टरों पर पडोसी ने किया हमला,

2 महिला डॉक्टरों पर पडोसी ने किया हमला,

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में तैनात दो महिला डॉक्टरों पर हमला किए जाने का मामला सामने आया है. फिलहाल आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है.

corona

कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए पूरे देश में लॉकडाउन लागू है. कोरोना वायरस पर काबू पाने के लिए डॉक्टर्स, मेडिकल स्टॉफ मोर्चे पर डटे हुए हैं. लेकिन इस बीच, कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टरों को निशाना बनाने की खबरें भी मिल रही हैं. दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में तैनात दो महिला डॉक्टरों पर हमला किए जाने का मामला सामने आया है.

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार सफदरजंग हॉस्पिटल रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. मनीष ने इसकी जानकारी दी है. उन्होंने बताया कि सफदरजंग अस्पताल के इमर्जेंसी डिपार्टमेंट में तैनात दो महिला डॉक्टरों पर गौतम बुद्ध नगर में उनके पड़ोसियों ने हमला कर दिया. यह घटना बुधवार रात करीब 9.30 बजे की है. दोनों महिला डॉक्टर उस समय फल खरीदने के लिए घर से बाहर निकली हुई थीं.

- Advertisement -

डॉ. मनीष ने बताया कि एक पड़ोसी महिला डॉक्टरों पर जोर जोर से चिल्लाने लगा कि वे यहां कोरोना वायरस फैला रही हैं. जब महिला डॉक्टरों ने इस पर प्रतिक्रिया जाहिर की तो पड़ोसियों ने उन पर हमला बोल दिया. इस मामले में एक केस दर्ज करा दिया गया है. इस सिलसिले में हौजखास पुलिस थाने में केस दर्ज कराया गया है और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है.

स्वास्थ्यकर्मियों और सफाईकर्मियों को न बनाएं निशाना

- Advertisement -

डॉक्टरों पर हमले की घटना तब सामने आई है जब स्वास्थ्य मंत्रालय ने एडवाइजरी जारी करके कोरोना के खिलाफ लड़ने वालों को निशाना न बनाने की अपील की है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोविड-19 से जुड़े सामाजिक भेदभाव को संबोधित करते हुए ये एडवाइजरी जारी की है. इसमें कोरोना वायरस को लेकर किसी को भी कलंकित न करने, किसी पर इसे लेकर आरोप न लगाने, स्वास्थ्यकर्मियों और सफाईकर्मियों को निशाना न बनाने की बात कही गई है.

स्वास्थ्य मंत्रालय की एडवाइजरी में कहा गया है कि जो कोरोना वायरस से संक्रमित हैं, सोशल मीडिया पर उनकी पहचान भी उजागर न करें. साथ ही संक्रमितों का इलाज करने वाले स्वास्थ्यकर्मियों, सफाईकर्मियों और फील्ड में तैनात पुलिसकर्मियों को निशाना न बनाएं.

- Advertisement -

एडवाइजरी में यह भी कहा गया है कि कोरोना वायरस फैलाने के लिए किसी भी समुदाय पर आरोप न लगाएं. जो लोग ठीक हो चुके हैं, उन्हें कोरोना पीड़ित न कह कर कोविड-19 से उबरने वाला कहा जाए. इसके अलावा किसी समुदाय या इलाके विशेष को कोरोना वायरस फैलाने के लिए आरोप न लगाएं. क्योंकि यह एक संक्रामक बीमारी है और किसी को भी हो सकती है.

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

Leave a Reply

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
783FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

सिवनी : फोर लेन पर टहलता दिखा तेंदुआ, VIDEO

सिवनी: जिला मुख्यालय सिवनी से नागपुर जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग में बुधवार की दोपहर नवनिर्मित फोरलेन पर...

Vidhya Balan In Balaghat : बालाघाट में विद्या बालन कर रहीं शेरनी फिल्म की शूटिंग

सिवनी। Vidhya Balan In Balaghat : फिल्म की शूटिंग के लिए बालाघाट पहुंची अभिनेत्री विद्या बालन सिवनी जिले की सीमा से लगे पड़ोसी...

MP Board 12th Supplementary Result 2020 जारी, MPBSE HSSC Results @mpbse.nic.in, यहाँ चेक करें

MP Board 12th Supplementary Result 2020 की घोषणा: नवीनतम अपडेट के अनुसार, मध्य प्रदेश बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन - MPBSE ने हाल...

सिवनी जिले में 3 व्यक्तियों में कोरोना वायरस की पुष्टि, अब 66 एक्टिव केस

सिवनी : मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ के.सी. मेशराम द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया की विगत देर रात प्राप्त रिपोर्ट...

चिराग पासवान ने जारी किया LJP का दृष्टि पत्र ‘बिहार फर्स्‍ट, बिहारी फर्स्‍ट’

पटनाः लोजपा के अध्यक्ष चिराग पासवान ने बुधवार को बिहार चुनाव के लिए अपनी पार्टी का दृष्टि पत्र ‘बिहार फर्स्‍ट, बिहारी फर्स्‍ट' जारी किया, जिसमें...