Homeदेशपुण्यतिथि विशेष : कारगिल युद्ध में दो विशेष चोटियों पर जीते कैप्टन...

पुण्यतिथि विशेष : कारगिल युद्ध में दो विशेष चोटियों पर जीते कैप्टन विक्रम बत्रा

कैप्टन बत्रा की वीरता के लिए उन्हें न केवल मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया, बल्कि 4875 शिखर का नाम विक्रम बत्रा टॉप रखा गया है।

- Advertisement -

भारत में कारगिल युद्ध भारतीय सेना के लिए कोई बड़ी लड़ाई नहीं थी, लेकिन भारतीय सेना के इतिहास में इसका महत्व बहुत अधिक है। क्योंकि इस युद्ध में हमारी सेना ने जो रणनीति बनाई और साहस और वीरता के साथ स्थिति के अनुसार धैर्य का परिचय दिया, वह अद्वितीय थी।

 इस युद्ध में कैप्टन विक्रम बत्रा को उनके असीम साहसिक कार्य के लिए मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया था। जम्मू-कश्मीर राइफल्स के कैप्टन बत्रा 7 जुलाई 1999 को कारगिल युद्ध में शहीद हो गए थे।

- Advertisement -

कारगिल युद्ध में शहीद हुए कैप्टन विक्रम बत्रा 24 साल की उम्र में उस मुकाम पर पहुंच गए, जिसका सपना हर भारतीय देखता है। उन्होंने कारगिल युद्ध में प्वाइंट 4875 पर कब्जा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। हिमाचल प्रदेश के पालमपुर में जन्मे विक्रम बत्रा के पिता गिरधारी लाल बत्रा एक सरकारी स्कूल में प्रिंसिपल थे और उनकी मां एक स्कूल टीचर थीं।

उन्होंने पालमपुर में स्कूली शिक्षा पूरी करने के बाद चंडीगढ़ में पढ़ने का फैसला किया । इसी दौरान उन्हें एनसीसी सी सर्टिफिकेट मिला और दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड में भी हिस्सा लिया। जिसके बाद उन्होंने सेना में शामिल होने का फैसला किया। बत्रा को स्नातक की पढ़ाई के दौरान मर्चेंट नेवी के लिए हांगकांग की एक कंपनी में चुना गया था, लेकिन एक आकर्षक करियर बनाने के बजाय, उन्होंने देश की सेवा करने का फैसला किया।

- Advertisement -

सेना में भर्ती

स्नातक स्तर की पढ़ाई के बाद, उन्होंने संयुक्त रक्षा सेवा की तैयारी शुरू कर दी और 1996 में सीडीएस के साथ सेवा चयन बोर्ड में चुने गए और भारतीय सैन्य अकादमी में शामिल हो गए और मानेक शो बटालियन का हिस्सा बन गए। प्रशिक्षण पूरा करने के 2 साल बाद ही उन्हें युद्ध के मैदान में जाने का मौका मिला।

- Advertisement -

में शुरुआती सफलता हासिल की,

जम्मू और सोपोर को 13 जम्मू और कश्मीर राइफल्स लेफ्टिनेंट के पद पर नियुक्त किया गया, जो जून, 1999 में, उनकी सफलता के आधार पर कारगिल युद्ध में कप्तान के पद पर पहुंचने के बाद। कैप्टन बत्रा की टीम को तब श्रीनगर-लेह रोड पर महत्वपूर्ण 5140 चोटी को मुक्त कराने का काम सौंपा गया था।

कैप्टन बत्रा का दिल चाहता है , सफल बोर्ड मोड़ने से पहले जब तक कि शिखर पर जाने के रास्ते में दुश्मन को पता न चले, कि दुश्मन सेना उनके हमले के भीतर थी , जबकि उसकी टुकड़ी हमेशा दुश्मन के हमले की सीमा के भीतर थी। यहां से कप्तान ने अपने साथियों का नेतृत्व किया और दुश्मनों पर हमला किया और 20 जून, 1999 की सुबह शेष 3 चोटियों पर कब्जा कर लिया और ये दिल मांगे मोर कहते हुए रेडियो पर अपनी जीत की घोषणा की।

4875 . की वह खास चोटी

बत्रा के सैनिकों को तब 4875 की चोटी पर कब्जा करने का काम सौंपा गया था। इस संकरी चोटी पर पाकिस्तानी सैनिकों का भारी पहरा था। कैप्टन बत्रा ने इस बार भी यही रणनीति अपनाई और इसे तुरंत लागू करने का फैसला किया। इस बार भी वह अपने काम में सफल रहा, लेकिन इस बीच वह गंभीर रूप से घायल हो गया और शिखर पर कब्जा करने से पहले उसने अपनी टुकड़ी के साथ कई पाकिस्तानी सैनिकों को मार डाला और अपने जीवन का बलिदान दिया

कैप्टन बत्रा की वीरता के लिए उन्हें न केवल मरणोपरांत परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया, बल्कि 4875 शिखर का नाम विक्रम बत्रा टॉप रखा गया है। वह परमवीर चक्र प्राप्त करने वाले पालमपुर के दूसरे सैनिक थे। उनके पहले मेजर सोमनाथ शर्मा को देश के पहले परमवीर चक्र से नवाजा गया था।

Web Title : Death anniversary special: Captain Vikram Batra won two special peaks in Kargil war

- Advertisement -
spot_img
spot_img
Shubham Sharma
Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.

Popular (Last 7 Days)

Whatsapp New Feature

WhatsApp Add to Cart Feature: व्हाट्सएप यूजर्स को Shopping के लिए Whatsapp पर मिलेगी...

0
नई दिल्ली, शुभम शर्मा : WhatsApp Add to Cart Feature: व्हाट्सएप यूजर्स को Shopping के लिए Whatsapp पर मिलेगी 'Add to Cart' बटन व्हाट्सएप ने...
bihar-viral-fever

बिहार में जानलेवा दिखाई दे रहा वायरल फीवर, अब तक 13 की मौत

0
शुभम शर्मा @shubham-sharma पटना । बिहार में इस समय वायरल बुखार का प्रकोप बच्चों के लिए जानलेवा साबित हो रहा है। स्वास्थ्य विभाग ने...
nayan-soni

सिवनी: नयन सोनी की मूर्ति विसर्जन के बाद तालाब में डूबने से मौत

0
सिवनी। नगर के सुनारी मोहल्ला निवासी 23 वर्षीय युवक की तालाब में डूबने से मौत हो गई। सभी गणेश प्रतिमा के विसर्जन के लिए जिला...

सिवनी: छिंदवाड़ा में पदस्थ सिवनी निवासी प्रधान आरक्षक की हत्या कर शव को जंगल...

0
सिवनी ।  छिंदवाड़ा के चौरई अनुविभाग के चांद पुलिस थाने में पदस्थ कार्यवाहक प्रधान आरक्षक विजय बघेल (46) की हत्या के बाद शव को...
foolball-seoni

सिवनी: फुटबॉल का महाकुंभ 24 सितंबर से पॉलिटेक्निक मैदान में

0
सिवनी : सदभाव परिवार के प्रायस से सिवनी जिले के इतिहास में प्रथम बार 24 सितंबर 2021 से फुटबॉल के महाकुम्भ का आयोजन किया...
MP Police GK In Hindi 2020

MP Police GK In Hindi 2020 : म0प्र0 पुलिस भर्ती के लिए जरूरी जनरल...

0
MP Police GK In Hindi 2020 : म0प्र0 पुलिस जनरल नॉलेज 2020 MP Police GK In Hindi 2020 Hindi | मध्य प्रदेश पुलिस सामान्य...
vinod-soni

सिवनी: शुक्रवारी में भाजपा नेताओं में विवाद, गणेश चोक में 1 का सिर फूटा,...

0
सिवनी।  मंगलवार की देर शाम शुरु हुआ विवाद रात तक जारी रहा। हद तो तब हो गई जब कोतवाली थाने में हंगामा हो गया।...
General Me Kaun Kaun Si Jaati Aati Hai

जनरल में कौन कौन सी जाति आती हैं | General Me Kaun Kaun Si...

0
जनरल में कौन कौन सी जाति आती हैं। (General Me Kaun Kaun Si Jaati Aati Hai), सामान्य जाति श्रेणिया ,जनरल में कौन कौन सी कास्ट...
GK-in hindi 2021-Hindi General-Knowledge-2021-in-hindi

GK In Hindi 2021 | सामान्य ज्ञान 2021 – General Knowledge 2021 in हिन्दी

0
GK In Hindi 2021 | सामान्य ज्ञान 2021 – General Knowledge 2021 in हिन्दी GK In Hindi 2021 | सामान्य ज्ञान 2021 – General...
seoni-kisan-satyagrah

सिवनी: 4 साल से नहर में पानी के इन्तेजार के बाद अब सैंकड़ो किसानों...

0
सिवनी : पेंच परियोजना सिवनी जिले के लिए एक वरदान साबित हो सकती थी, किंतु भ्रष्टाचार और घटिया राजनीति के चलते ये योजना भी...
- Advertisment -