HomeदेशKids Vaccination: भारत में बच्चों को जून के अंत से मिल सकेगी...

Kids Vaccination: भारत में बच्चों को जून के अंत से मिल सकेगी वैक्सीन, जानें पूरा प्लान

COVID-19 Kids Vaccination

- Advertisement -

COVID-19 Kids Vaccination | कोरोना के तीसरी लहर के बच्चों के लिए ज्यादा घातक होने की खबरों के बीच एक अच्छी खबर यह है कि बच्चों (COVID-19 Kids Vaccination) के लिए भी देश में जल्द वैक्सीन उपलब्ध हो सकती है। केंद्र सरकार ने शुक्रवार को संकेत दिए हैं कि बच्चों के लिए कोरोना टीका इसी महीने आ सकता है।

सरकार के मुताबिक, जायडस कैडिला के टीके को जल्द मंजूरी दी जा सकती है, जिसके परीक्षण 12-18 साल की आयु के बच्चों पर भी हुए हैं। नीति आयोग के सदस्य डॉ वीके पॉल ने शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि अभी कोवैक्सीन के बच्चों पर परीक्षण शुरू हुए हैं, लेकिन उसके पूरे होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा, क्योंकि परीक्षण प्रतिरोधक क्षमता के होते हैं।

- Advertisement -
यह भी पढ़े :  QS World University की टॉप 200 रैंकिंग में भारत के तीन शिक्षण संस्थानों ने बनाई जगह

जबकि जायडस कैडिला के टीके के परीक्षण बच्चों पर हो चुके हैं। उम्मीद है कि अगले दो सप्ताह में वह लाइसेंस के लिए आ सकती है। टीके को मंजूरी देते समय इसे बच्चों को देने पर भी निर्णय लिया जा सकता है। 

यह भी पढ़े :  QS World University की टॉप 200 रैंकिंग में भारत के तीन शिक्षण संस्थानों ने बनाई जगह

Kids Vaccination: परीक्षण में 800-100 बच्चे भी शामिल 

जायडस कैडिला की वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षण पूरे चुके हैं। इसके परीक्षण में 800-100 बच्चे भी शामिल हैं, जिनकी उम्र 12-18 साल के बीच है। इसलिए इस टीके को 12-18 साल के आयु वर्ग के बच्चों के लिए भी मंजूरी मिलने के प्रबल आसार हैं और पॉल ने भी ऐसे संकेत दिए हैं।

- Advertisement -

हालांकि, अंतिम फैसला एक विशेषज्ञ समूह परीक्षण के आंकड़ों के आधार पर करता है। यदि दो सप्ताह के भीतर वह लाइसेंस के लिए आवेदन करता है तो मुश्किल से एक सप्ताह और मंजूरी की प्रक्रिया में लगेगा। यानी इसी महीने टीका उपलब्ध हो सकता है। 

Kids Vaccination: तीन खुराक वाला टीका 

कैडिला का टीका तीन खुराक वाला है। यह त्वचा में दिया जाने वाला इंट्राडर्मल टीका है। इसे इंजेक्शन के जरिये नहीं दिया जाता है, बल्कि एक अलग डिवाइस से चमड़ी में डाला जाता है। इसलिए बच्चों के लिए यह टीका ज्यादा उपयोगी होगा। अगले चरण में कैडिला इसका परीक्षण 12 साल से छोटे उम्र के बच्चों पर भी करेगा।

- Advertisement -
यह भी पढ़े :  कल से खुलेंगे सोमनाथ व द्वारका सहित अधिकांश मंदिरों के कपाट

टीके को केंद्र सरकार के नेशनल बॉयोफॉर्मा मिशन के तहत सहायता दी गई है। कैडिला के प्रवक्ता ने कहा कि टीके के तीनों चरण के परीक्षण पूरे हो चुके हैं तथा आंकड़े एकत्र किए जा रहे हैं। उसके बाद मंजूरी के लिए ड्रग कंट्रोलर को आवेदन किया जाएगा। 

यह भी पढ़े :  "गलवान के बलवान" चीन के खिलाफ भारत के 20 शूरवीरों की शहादत का एक साल पूरा - Galwan Valley

Kids Vaccination: वैरिएंट पर भी परीक्षण

इस टीके की एक खास बात यह है कि इसे यूके, ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका के अलावा डबल वैरिएंट पर भी हाल में अपडेट किया गया है। 

Kids Vaccination: 28 हजार पर परीक्षण

टीके के परीक्षण करीब 28 हजार लोगों पर हुए हैं, जिनमें एक हजार के करीब 12-18 साल के बच्चे हैं। 2

Kids Vaccination: 5-26 करोड़ टीके चाहिए

वीके पॉल ने कहा कि बच्चों में टीकाकरण शुरू करने से पहले पर्याप्त मात्रा में टीके की उपलब्धता होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि 12-18 साल के आयु वर्ग में भी 13-14 करोड़ की आबादी है। उनके लिए कम से कम 25-26 करोड़ टीके चाहिए। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में कई टीके उपलब्ध होंगे तो इसमें आसानी होगी। 

Kids Vaccination: कैडिला की क्षमता

कैडिला की प्रतिमाह 1-2 करोड़ टीका तैयार करने की क्षमता है, लेकिन उसने कहा है कि वह अगले छह महीनों में बढ़ाकर इसे 2.5-3 करोड़ तक कर देगा।

यह भी पढ़े :  "गलवान के बलवान" चीन के खिलाफ भारत के 20 शूरवीरों की शहादत का एक साल पूरा - Galwan Valley

Kids Vaccination: और छोटे बच्चों पर तैयारी

अगले चरण में कैडिला 12 साल से कम उम्र के बच्चों पर परीक्षण करेगी। कंपनी के प्रवक्ता ने कहा, तीनों चरण के परीक्षण पूरे हो चुके हैं तथा आंकड़े जुटाए जा रहे, जल्द आवेदन करेंगे

- Advertisement -
spot_img
spot_img
Shubham Sharma
Shubham Sharma is an Indian Journalist and Media personality. He is the Director of the Khabar Arena Media & Network Private Limited , an Indian media conglomerate, and founded Khabar Satta News Website in 2017.
- Advertisment -