सीमा विवाद : गरजे राजनाथ सिंह, चीनी रक्षामंत्री से मुलाकात में दी चेतावनी

मॉस्को: भारत और चीन के बीच जारी गतिरोध के बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने रूस में चीनी रक्षामंत्री वेई फेंगही (Wei Fenghe) से मुलाकात की. इस दौरान सिंह ने भारत की स्थिति स्पष्ट करते हुए चीन को कड़ा संदेश दिया. रक्षामंत्री सिंह ने कहा, ‘सीमा पर विवाद के लिए चीन पूरी तरह से जिम्मेदार है. देश की अखंडता और संप्रभुता की रक्षा के लिए हमारी सेना प्रतिबद्ध है. भारत पड़ोसी देशों के साथ सीमा को लेकर जिम्मेदार रवैया अपनाता है, लेकिन हम गैर-जिम्मेदाराना गतिविधियों का माकूल जवाब देना भी जानते हैं’.

उन्होंने आगे कहा कि चीनी सेना का रवैया दोनों देशों के समझौते के खिलाफ है. बीजिंग सीमा पर बड़ी संख्या में सेना जुटा रहा है और यथास्थिति को बदलने की एकतरफा कोशिश कर रहा है.

- Advertisement -

चीन के अनुरोध पर मिले सिंह
रक्षामंत्री राजनाथ सिंह मॉस्को में शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की अहम बैठक में हिस्सा लेने गए हैं. चीनी रक्षामंत्री ने एससीओ की बैठक से इतर राजनाथ सिंह से मुलाकात का अनुरोध किया था, जिसके बाद सिंह ने वेई के साथ मॉस्को में बैठक की. चीनी रक्षामंत्री के साथ बैठक के दौरान राजनाथ सिंह ने उन्हें भारत की स्थिति से अवगत कराया और साथ ही यह भी स्पष्ट किया कि भारत हर चुनौती से निपटने के लिए तैयार है.

रक्षामंत्री के कार्यालय ने ट्वीट के जरिये दोनों नेताओं की मुलाकात के बारे में जानकारी दी है. ट्वीट में कहा गया है कि रक्षा मंत्री ने बैठक के दौरान भारत-चीन सीमा विवाद पर भारत की स्थिति को स्पष्ट रूप से व्यक्त किया. दोनों मंत्रियों ने भारत-चीन सीमा क्षेत्रों के साथ-साथ भारत-चीन संबंधों के विकास के बारे में स्पष्ट और गहन चर्चा की.

- Advertisement -

अकेला पड़ रहा ड्रैगन
चीन की मुश्किल ये है कि अपनी विस्तारवादी नीति की वजह से वो पूरी दुनिया में अकेला पड़ता जा रहा है. एक ओर अमेरिका दक्षिण चीन सागर में चीन की घेराबंदी कर रहा है तो दूसरी ओर रूस भी भारत के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है. जिस वक्त वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत चीन के साथ सबसे मुश्किल हालात से गुजर रहा है, उस समय रूस बंगाल की खाड़ी में भारत के साथ साझा सैन्य अभ्यास कर रहा है. 

मोर्चे पर पहुंची माउंटेन स्ट्राइक कोर
इस बीच, भारतीय सेना की पहली माउंटेन स्ट्राइक कोर लद्दाख में मोर्चे पर पहुंच गई है. चीन के खिलाफ इस ‘ब्रह्मास्त्र’ का नाम 17 माउंटेन स्ट्राइक कोर है. इस कोर का गठन चीन के साथ युद्ध के लिए ही किया गया है. 17 माउंटेन स्ट्राइक कोर पहाड़ों की लड़ाई में माहिर है. इस कोर में पहाड़ी इलाके में युद्ध के लिए जरूरी हथियार जैसे हेलीकॉप्टर और तोपखाना मौजूद है.

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

10,735FansLike
7,044FollowersFollow
516FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

सिवनी : सोशल मीडिया को लेकर जारी प्रतिबंधात्मक आदेश अभी रहेगा लागू

सिवनी, मध्यप्रदेश : सिवनी कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी डॉ राहुल हरिदास फटिंग द्वारा कोरोना संक्रमण को लेकर सोशल मीडिया...

मध्य प्रदेश : MP POLICE और अन्य विभागों में होंगी भर्तियां, CM शिवराज का ऐलान

भोपाल: मध्य प्रदेश में पुलिस सहित कई विभागों में भर्तियां जल्द की जाएंगी. इस बात का ऐलान सीएम शिवराज सिंह चौहान ने सुवासरा...

MP : इंदौर के यूनिक हॉस्पिटल में शव को कुतर गए चूहे, प्रबंधन बोला-गलती हो गई

इंदौर: मध्य प्रदेश के इंदौर में एक और अस्पताल की लापरवाही सामने आई है. इंदौर के यूनिक हॉस्पिटल में विनय नगर जैन कालोनी...

LOC पर सुरक्षा मजबूत करने के लिए बहु-आयामी दृष्टिकोण अपना रहा भारत : गृह मंत्रालय

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री नित्यानंद राय (Nityanand Rai) ने कहा है कि सरकार ने पाकिस्तान के साथ नियत्रंण रेखा (LOC) पर बहु-आयामी दृष्टिकोण अपनाया है।...

Jabalpur : जबलपुर में धारा 144 लागू, दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी

जबलपुर, मध्यप्रदेश : जिला दण्डाधिकारी एवं कलेक्टर कर्मवीर शर्मा द्वारा त्यौहारों के मद्देनजर कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं इससे आमजनों...
x