अयोध्या केस: DGP O.P. SINGH बोले, ‘अगर जरुरत पड़ी तो लोगों पर NSA भी लगा सकते हैं’

0
108

डीजीपी ने बताया कि सोशल मीडिया सेल इंटरनेट पर उन 673 लोगों पर लगातार नजर रख रहे हैं, जिनकी पोस्ट या टिप्पणियां परेशानी का सबब बन सकती हैं. हमारे पुलिसकर्मियों ने जिले, पुलिस स्टेशन और स्थानीय स्तर पर संभावित खतरों और हॉटस्पॉट की पहचान की है.

लखनऊ: अयोध्या (Ayodhya verdict) में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) आज (9 नवंबर) सुबह साढ़े दस बजे फैसला सुनाएगा. इसे देखते हुए देश भर में हलचल तेज हो गई है. यूपी में 3 दिन के लिए सभी स्कूल, कॉलेज बंद कर दिए गए हैं. अयोध्या में चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात है. फैसले से पहले यूपी के DGP ओपी सिंह (OP Singh) ने कहा कि यूपी की सुरक्षा व्यवस्था को दुरुस्त की गई है.

यूपी के DGP ओपी सिंह ने कहा कि आज बड़ा फैसला आएगा और इस फैसले के लिए यूपी तैयार है. उन्होंने बताया कि यूपी की सुरक्षा को और कड़ी कर दी गई है. अयोध्या को किले में तब्दील कर दिया गया. श्री रामलला मार्ग की गलियों में बैरिकेडिंग लगाकर रास्तों को रोक दिया गया है.  प्रमुख मार्गों पर भी बैरिकेट्स लगाए गए हैं. श्रीराम लीला रामपुर क्षेत्र में गलियों के बाहर पुलिस जवानों को तैनात किया गया है.

उन्होंने बताया कि हमारे सोशल मीडिया सेल इंटरनेट पर उन 673 लोगों पर लगातार नजर रख रहे हैं, जिनकी पोस्ट या टिप्पणियां परेशानी का सबब बन सकती हैं. हमारे पुलिसकर्मियों ने जिले, पुलिस स्टेशन और स्थानीय स्तर पर संभावित खतरों और हॉटस्पॉट की पहचान की है. उन्होंने कहा कि अगर जरुरत पड़ी तो लोगों पर एनएसए भी लगा सकते हैं. उन्होंने बताया कि कई सोशल मीडिया एकाउंट सीज भी किए हैं.

यह भी पढ़े :  अयोध्या केस: सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से पहले पढ़ें 2010 का इलाहाबाद हाई कोर्ट का फैसला

हमने कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए 31 संवेदनशील जिलों की पहचान की जैसे-आगरा अलीगढ़, मेरठ, मुरादाबाद, लखनऊ, वाराणसी, प्रयागराज, गोरखपुर और अन्य है. डीजेपी ने कहा कि राज्य में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू की गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.