Home देश अयोध्या: हनुमानगढ़ी में इस कठोर शपथ के साथ नए पुजारियों की नियुक्ति, जानिए वो कठोर शपथ

अयोध्या: हनुमानगढ़ी में इस कठोर शपथ के साथ नए पुजारियों की नियुक्ति, जानिए वो कठोर शपथ

अयोध्या: रामनगरी के राजा कहे जाने वाले हनुमानजी की गढ़ी में दो नए पुजारियों की नियुक्ति की गई है. नई नियुक्ति पाने वाले पुजारियों के नाम चंद्रमा दास और अखिलेश दास हैं. इन्हें साल भर के लिए हनुमानगढ़ी में पूजा-पाठ की जिम्मेदारी सौंपी गई है. अगर आप समझ रहे हैं कि हनुमानगढ़ी में पूजा-पाठ का काम आसान है, तो जान लीजिए, इससे जुड़ी हुई कई ऐसी रीतियां-नीतियां हैं, जिनका पालन इन दोनों पुजारियों को वर्ष भर के लिए कड़ाई से करना होगा. 

पंचायती पद्धति से होता है पुजारी का चयन 
बसंतिया पट्टी के सरपंचों की हुई बैठक में दो नए पुजारियों की नियुक्ति का फैसला लिया गया है. हनुमानगढ़ी में महंत राम चरण दास की अध्यक्षता में बसंतिया पट्टी के सरपंचों की बैठक आयोजित हुई. बैठक में विचार-विमर्श के बाद अनी अखाड़ा के राष्ट्रीय सचिव महंत गौरी शंकर दास के शिष्य चंद्रमा दास और महंत मयादास के शिष्य अखिलेश दास को हनुमानगढ़ी का नया पुजारी नियुक्त किया गया है. इनका कार्यकाल साल भर का होगा. ये वर्ष भर तक हनुमान जी सरकार की पूजा-अर्चना कर भोग-प्रसाद लगाएंगे.  

- Advertisement -

4 पट्टियां संभालती हैं हनुमानजी सरकार की सेवा का काम 
अयोध्या के सुप्रसिद्ध हनुमानगढ़ी मंदिर में चार पट्टी के माध्यम से हनुमान जी सरकार की पूजा अर्चना और सेवा किया जाता है.  इसमें सागरिया पट्टी, बसंतिया पट्टी, उज्जैनिया पट्टी और हरिद्वारी पट्टी की पंचायती व्यवस्था है. जिसमें सर्वोच्च हनुमानगढ़ी के गद्दी नशीन होते हैं इस समय हनुमानगढ़ी के गद्दी नशीन प्रेमदास जी महाराज हैं.

पुजारी की नियुक्ति के साथ ही गोपनीयता की शपथ 
हनुमानगढ़ी में पुजारी जब नियुक्त किया जाता है तो उसे एक विशेष तरह की शपथ दिलाई जाती है. शपथ में हनुमानगढ़ी में विराजमान हनुमानजी की पूजा अर्चना की गोपनीयता जीवन भर कायम रखने की बात होती है. माना जाता है कि गर्भ गृह में विराजमान हनुमान जी सरकार की जो पूजा अर्चना है,वह अत्यंत गोपनीय है. ऐसे में वो किसी से साझा नहीं की जाती.  

यह भी पढ़े :  AAP नेता दुर्गेश पाठक का आरोप, छठ पूजा को लेकर राजनीति कर रही है भाजपा
- Advertisement -
यह भी पढ़े :  कॉमेडियन BHARTI SINGH व उनके पति NCB की हिरासत में, हो रही पूछताछ, जानिए क्या है वजह

अयोध्या के राजा हैं हनुमानजी सरकार 
रावण पर विजय प्राप्त करने के बाद भगवान राम जब अयोध्या लौटे तो हनुमानजी ने यहां रहना शुरू किया. इसी कारण इसका नाम हनुमानगढ़ या हनुमान कोट पड़ा. यहीं से हनुमानजी रामकोट की रक्षा करते थे. अयोध्या में हनुमानजी सरकार को यहां का राजा माना जाता है. अगर राम मंदिर के दर्शन करने हैं तो अयोध्या आकर सबसे पहले हनुमानजी सरकार से इसकी अनुमति लेनी होती है.

अवध के नवाब शुजाउद्दौला ने बनवाई थी हनुमानगढ़ी 
आलीशान हनुमानगढ़ी को अवध के नवाब शुजाउद्दौला ने बनवाया था. इसके पहले वहां हनुमानजी की एक छोटी सी मूर्ति को टीले पर पेड़ के नीचे लोग पूजते थे. बताते हैं शुजाउद्दौला का बेटा एक बार बहुत बीमार हो गया. ऐसे में बाबा अभयराम ने नवाब शुजाउद्दौला के शहजादे की जान बचाई थी. जब नवाब ने उन्हें बार-बार कुछ देने का इसरार किया तो उन्होंने तब हनुमानगढ़ी बनवाने का प्रस्ताव रखा, जिसे नवाब ने मानकर हनुमानगढ़ी का निर्माण कराया.

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,250FansLike
7,044FollowersFollow
787FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

MP सरकार का बड़ा फैसला, धार्मिक स्थलों पर नहीं फिल्माए जा सकेंगे डर्टी सीन, शूटिंग की होगी रिकॉर्ड

भोपाल: मध्य प्रदेश में नेटफ्लिक्स के वेब सीरीज के 'ए सूटेबल बॉय' को लेकर बवाल बढ़ता जा रहा है।...
यह भी पढ़े :  अजय लल्लू की मांग- सरकार धान समेत तिलहनी फसलों की बर्बादी पर किसानों को दे मुआवजा

धूमधाम से मनाया गया साई जन्मउत्सव

केवलारी/खैरा पलारी(रवि चक्रवती): ग्राम के माता दिवाला मंदिर में श्री सत्य साईं बाबा का जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया। कार्यक्रम में भक्ति पर आधारित...

कोरोना का असरः कर्नाटक में दिसंबर में नहीं खुलेंगे स्कूल

बेंगलुरुः कर्नाटक सरकार ने कोविड-19 की स्थिति के मद्देनजर दिसंबर में स्कूलों को नहीं खोलने का सोमवार को फैसला किया। स्कूलों को फिर से खोले...

कानपुर में ढही तीन मंजिला इमारत, कई लोगों के दबे होने की आशंका

कानपुर में सोमवार को तीन मंजिला इमारत ढहने से हड़कंप मच गया। बिल्डिंग के नीचे कई लोगों के दबे होने की आशंका जताई जा...

पटरी पर लौट सकते हैं भारत-नेपाल के रिश्ते, काठमांडू जाएंगे विदेश सचिव

नई दिल्लीः भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला नेपाल की दो दिवसीय आधिकारिक यात्रा पर बृहस्पतिवार को काठमांडो पहुंचेंगे। इस यात्रा के दौरान वह अपने...
x