Wednesday, September 28, 2022
Homeबॉलीवुडहिंदी दिवस : बॉलीवुड की इन फिल्मों ने बढ़ाया विश्व पटल पर...

हिंदी दिवस : बॉलीवुड की इन फिल्मों ने बढ़ाया विश्व पटल पर हिंदी का मान

- Advertisement -

आज के दिन को पूरा देश हिंदी दिवस के रूप में मनाता है। हम हिंदी को एक भाषा का नहीं, बल्कि मां का दर्जा देते हैं। कहा जाता है कि अंग्रेजी व्यापार की भाषा है, उर्दू प्यार की भाषा मगर हिंदी व्यवहार की भाषा है। समाज को जोड़ने का काम हिंदी ने ही किया है। तभी हिंदी से हिंदुस्तान का नाम पड़ा। आज मगर बदलते परिवेश में हिंदी को अंग्रेजी से कम आंका जाने लगा है। हमारे देश के युवा खुद हिंदी बोलने में संकोच करने लगे हैं। जबकि विदेशों में आज भी उनकी मातृभाषा प्रोफेशनल बनी हुई है।


हमारे देश में ज्ञान की परिभाषा है- एकोज्ञानं ज्ञानं, विविधं ज्ञानं विज्ञानम्। जो विश्व का पिता है-सूर्य- वह ‘फादर्स डे’ में सिमट गया। जो गुरु, मोक्ष तक साथ रहता है, वह ‘टीचर’ बनकर, हर साल बदल जाता है। सूचनाओं और जानकारियों को ज्ञान मान लिया। प्रज्ञा पुरुष तो अब पैदा ही नहीं होंगे। परिणाम क्या हुआ- आज किसी का अपमान होने का अर्थ रहा है- ‘उसकी हिन्दी कर दी’।

- Advertisement -


मगर एक बात और है की हमारे देश मे सिनेमा को ग्रहण करने वालों की संख्या अधिक है। लोग फिल्मों को देखकर उनके जैसा कॉपी करने की कोशिश करते हैं। तो हम आज हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में बताने जा रहे हैं कुछ ऐसी फिल्में जिन्होंने वर्ल्ड लेवल पर हिंदी का मान बढ़ाया है।

हिंदी मीडियम
साल 2017 में आई फिल्म हिंदी मीडियम ने देश की सबसे बड़ी सच्चाई को सामने रखा। फिल्म में दिखाया गया कि कोई भी माता पिता अपने बच्चे को हिंदी मीडियम स्कूल में नहीं पढ़ाना चाहता है और अंग्रेजी मीडियम स्कूल में पढ़ाई उनके लिए कितनी जरुरी है। इस फिल्म में इरफान खान और सबा कमर मुख्य भूमिका में थे।

- Advertisement -


इंग्लिश विंग्लिश
साल 2012 में आई इस फिल्म में हर भारतीय नारी खुद को देख पा रही थी। ये फिल्म शशी नाम की महिला पर आधारित थी जो अंग्रेजी भाषा को नहीं बोल पाती, जिसकी वजह से उनके अपने ही उसकी इज्जत नहीं करते। फिल्म में शशी का किरदार श्रीदेवी ने निभाया था।


नमस्ते लंदन
साल 2007 में आई नमस्ते लंदन फिल्म ने लोगों के अंदर सोई हुई हिंदी और अपने देश के प्रति सम्मान को जगाने में अहम भूमिका निभाई थी। इस फिल्म के डायलॉग्स इतने वायरल हुए थे कि लोगों की जबान पर चढ़ गए थे। खासतौर पर भारत की सभ्यता को समझाते हुए अक्षय कुमार के डायलॉग बेहद पसंद किया गया था। फिल्म के इस डायलॉग का जादू ऐसा चला था कि सिनेमाघरों में लोग तालियां बजाते नजर आ रहे थे। इस फिल्म में अक्षय कुमार और कटरीना कैफ मुख्य भूमिका में थे।

- Advertisement -


- Advertisement -
RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

WhatsApp Join WhatsApp Group