khabar-satta-app
Home अजब गजब खाने से पहले उसके चारों तरफ क्यों छिड़कते हैं पानी ! Did You Know ?

खाने से पहले उसके चारों तरफ क्यों छिड़कते हैं पानी ! Did You Know ?

भारतीय परंपराओं का हमेशा से ही दुनिया में अलग स्थान रहा है, शायद यही कारण है कि दुनियाभर के लोग हमारी सभ्यता का अनुसरण करते दिख जाते हैं। वहीं अगर भारतीयों की बात की जाए तो ज्या्दातर लोग अपनी परंपराओं को भूलते जा रहें है, जिनका हमारे बुजुर्ग बहुत ही ईमानदारी से पालन करते हैं। तमाम मान्यतताओं के बीच यहां हम एक ऐसी ही मान्य ता का जिक्र कर रहें हैं जो धीरे-धीरे हमारे बीच से विलुप्त होती जा रही है।

आपको याद होगा जब आपके पिता या दादा जी भोजन करने से पहले थाली के चारो तरफ तीन बार जल (पानी) छिड़कते थे। इसके साथ ही कुछ लोग मंत्रोच्चामर भी करते थे। उत्तर भारत में इसे चित्र आहति और तमिलनाडू में परिसेशनम के नाम से जाना जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता थाक्योंकि ऐसा करके हमारे बुजुर्ग अन्ना के प्रति सम्मान प्रकट करते थे। यही नही इसके पीछे वैज्ञानिक कारण और स्वास्थ्य के लिए लाभकारी वजहें भी हैंजिसे बहुत कम लोग जानते हैं।

- Advertisement -

दरअसलपुराने जमाने में ज्यादातर लोगों के मकान कच्चे होते थेइसलिए घर की फर्श भी कच्ची होती थी। इसके अलावा लोग जमीन पर बैठकर ही खाना खाते थेजिनके पास थाली होती थी वह थाली में खाते थेजिनके पास कुछ नही होता था वह केले के पत्तों में खाना खाते थे। अगर खाना खाते समय कोई बगल से गुजरे तो फर्श की धूल उड़कर भोजन में ना पड़े इसलिए लोग थाली के चारो तरफ पानी छिड़कते थे।

ऐसा करना सेहत की दृष्टि से भी बहुत महत्वपूर्ण थी। आज भी तमाम लोग फर्श पर बैठकर भोजन करते हैंखासकर गांवों में अभी भी ऐसा करने का प्रचलन है। ऐसे में खाने में धूल मिट्टी जाना स्वाभाविक है। ऐसे में अगर आप भी थाली के चारों तरफ पानी छिड़कते हैं तो इससे आपके भोजन में धूल नही जाएगाजिससे आप बैक्टीरिया से बचे रहेंगे जिससे आप बीमारियों और किसी प्रकार की एलर्जी की समस्या से पीड़ित होने से बच जाएंगे।

- Advertisement -

पहले ऐसा इसलिए किया जाता था ताकि कीड़ेमकोड़े चलकर खाने में ना पहुंचे। पानी के कारण वह थाली तक नही पहुंच पाते थे। कीड़ेमकोड़ों से विशेषकर रात में दिक्कतें होती थी। भरपूर रोशनी नही होने के कारण ऐसा किया जाता था। ऐसा करना आज भी कहीं न कहीं फायदेमंद है। इसके साथ ही जमीन पर बैठकर भोजन करने की परंपरा का भी अपना महत्व है। गांवों में ज्यादातर लोग आज भी जमीन पर बैठकर भोजन करते हैं। जमीन पर बैठकर खाना खाने से हमारी पीठ कई बार मुड़ती जिससे रक्ते का प्रवाह और पाचनतंत्र सही होता है। खाना पचाने में मदद मिलती है।

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

Leave a Reply

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
789FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

पिता के निधन के बाद पहली बार पॉलिटिकल मोड में चिराग, विजन डॉक्‍युमेंट के साथ फिर CM नीतीश पर साधा निशाना

पटना।  बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) में लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) की कमान पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान...

कोरोना अपडेट: भारत में एक बार फिर 24 घंटे में आए 50,000 से अधिक संक्रमित मामले

देश में कोरोना वायरस (कोविड-19) के सक्रिय मामलों में लगातार कमी हो रही है और अब इसकी संख्या घटकर 7.40 लाख पर आ गई...

FATF की बैठक: आतंकवाद‍ियों के संरक्षण को लेकर पाकिस्‍तान पर लटकी तलवार, ब्‍लैक लिस्‍ट या ग्रे लिस्‍ट पर होगा फैसला

इस्‍लामाबाद। फाइनेंशियल ऐक्‍शन टाक्‍स फोर्स (एफएटीएफ) की तीन दिवसीय वर्चुअल बैठक आज से शुरू हो रही है। यह बैठक पाकिस्‍तान के लिए काफी अहम है।...

बिहार के जमुई पहुंचे CM योगी आदित्‍यनाथ, शूटर श्रेयसी सिंह के लिए मांगेंगे वोट

पटना।  बिहार विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार के लिए आए उत्‍तर प्रदेश (UP) के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ (Yogi Adityanath) का आज बिहार में दूसरा...

नेहरा जी के ‘काका’ बने किंग्स इलेवन पंजाब के ‘लकी चार्म’, टीम ने जीता लगातार तीसरा मुकाबला

नई दिल्ली। किंग्स इलेवन पंजाब की टीम एक समय इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें एडिशन में प्वाइंट्स टेबल पर सबसे नीचे थी और टूर्नामेंट...