Home विदेश आज मतपेटी में कैद होगा ट्रंप-बिडेन का भविष्य, अर्ली वोटिंग में पौन दस करोड़ मतदान, जानें कैसे चुने जातें...

आज मतपेटी में कैद होगा ट्रंप-बिडेन का भविष्य, अर्ली वोटिंग में पौन दस करोड़ मतदान, जानें कैसे चुने जातें हैं अमेरिका में राष्‍ट्रपति

वाशिंगटन। वाशिंगटन, एजेंसियां। कोरोना के खौफ के बीच अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव के लिए मंगलवार को मतदान होगा। रिपब्लिकन पार्टी के डोनाल्ड ट्रंप (मौजूदा राष्ट्रपति) और डेमोक्रेटिक पार्टी के जो बिडेन के बीच कड़ी टक्कर है। प्रचार के दौरान दोनों उम्मीदवारों ने ना केवल एक-दूसरे पर जमकर कीचड़ उछाले बल्कि अपने प्रतिद्वंद्वियों को निकम्मा, भ्रष्ट और घटिया कहने से भी गुरेज नहीं किया। ट्रंप और बिडेन ने चीन, कोरोनावायरस और रोजगार को लेकर एक-दूसरे को घेरने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी।

भारत और भारतवंशी मतदाता बड़ा मुद्दा 

- Advertisement -

इस बार के चुनाव में जहां भारत और भारतवंशी मतदाता बड़ा मुद्दा बनकर उभरे हैं वहीं डेमोक्रेटिक पार्टी ने भारतवंशी कमला हैरिस को उपराष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाया है। कई सर्वे में बिडेन ट्रंप पर बढ़त बनाए हुए हैं। अर्ली वोटिंग और डाक मतपत्र के माध्यम से अब तक पौन दस करोड़ लोग वोट डाल चुके हैं। यह संख्या वर्ष 2016 में डाले गए वोटों का लगभग 68 फीसद है।

270 इलेक्टोरल कॉलेज जीतने वाला बनेगा राष्ट्रपति 

- Advertisement -

खास बात यह है कि यहां जीत सिर्फ पॉपुलर वोट से नहीं होती है। राष्ट्रपति बनने के लिए दोनों प्रत्याशियों में से किसी एक को 538 इलेक्टोरल कॉलेज में से 270 में जीत हासिल करनी होगी। इलेक्टर कॉलेज भी एक तरह के प्रतिनिधि होते हैं, जिनका चुनाव होता है। प्रत्येक राज्य से उतने ही प्रतिनिधि होते हैं जितने कि उस प्रांत से संसद की दोनों सदनों में सांसद। सबसे कम आबादी वाले वायोमिंग में तीन इलेक्टरोल कॉलेज हैं जबकि सबसे ज्यादा आबादी वाले कैलिफोíनया में 55 इलेक्टोरल कॉलेज हैं। एक रोचक तथ्य यह है कि इस सदी में दो बार ऐसा हो चुका है जब पॉपुलर वोट में पिछड़ने के बावजूद रिपब्लिकन उम्मीदवार जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने वर्ष 2000 में और डोनाल्ड ट्रंप ने वर्ष 2016 में राष्ट्रपति चुनाव जीता। डोनाल्ड ट्रंप को हिलेरी क्लिंटन की तुलना में करीब 30 लाख कम वोट मिले थे।

चुनाव को प्रभावित करने वाले मुद्दे

यह भी पढ़े :  किसान आंदोलन में कूदा पाकिस्तान, मंत्री फवाद ने ट्विटर पर दिया आपत्तिजनक बयान
- Advertisement -
यह भी पढ़े :  हाफिज सईद के बाद जमात-उद-दावा के प्रवक्ता को पाक अदालत ने सुनाई सजा, 15 साल रहेगा जेल में

1- कोरोना: कोरोना महामारी पूरे अमेरिका में सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा है। राष्ट्रपति ट्रंप जहां समय-समय पर इस बीमारी को लेकर चीन को जिम्मेदार ठहराते हैं वहीं बीजिंग को लेकर नरम रुख रखने पर बिडेन पर भी निशाना साधते हैं। वहीं बिडेन का कहना है कि ट्रंप ने महामारी से निपटने में तत्परता नहीं दिखाई जिसके चलते लाखों लोगों को जान गंवानी पड़ी।

2- अश्वेत हिंसा: पुलिस हिरासत में अश्वेत जॉर्ज फ्लायड की मौत के बाद अमेरिका में एक बार फिर असमानता को लेकर बहस छिड़ गई है। घटना के विरोध में बड़े पैमाने पर हुए विरोध प्रदर्शनों को जहां ट्रंप ने वामपंथियों की साजिश बताया है वहीं बिडेन ने अश्वेतों को भरोसा दिलाया है कि राष्ट्रपति बनने पर उनके हितों को सुरक्षित रखने के लिए कदम उठाए जाएंगे।

3- चीन: अमेरिकी चुनाव में चीन भी एक बड़ा मुद्दा है। राष्ट्रपति ट्रंप समय-समय पर पूर्व राष्ट्रपति ओबामा और पूर्व उपराष्ट्रपति जो बिडेन पर नौकरियों को चीन भेजने का आरोप लगाते रहे हैं। उन्होंने यह भी दावा किया है कि अगर वह राष्ट्रपति बनते हैं तो चीन से लाखों नौकरियों को वापस लाएंगे। वहीं बिडेन का कहना है कि गलत आर्थिक नीतियों के चलते अमेरिका में बेरोजगारी दर बढ़ी है।

4- एच1बी वीजा: अमेरिकियों को रोजगार दिलाने के लिए हाल ही में ट्रंप ने एक कार्यकारी आदेश जारी करके एच1 बी वीजा देने पर रोक लगा दी थी। उनके इस निर्णय तकनीकी कंपनियों सहित डेमोक्रेटिक पार्टी ने भी आलोचना की थी। उनका कहना था कि अमेरिका के निर्माण में विदेशियों की भी बराबर हिस्सेदारी रही है, इसलिए उन्हें यहां आने से नहीं रोका जाना चाहिए। एच1बी वीजा पर ही अधिकांश भारतीय आइटी पेशेवर अमेरिका में काम करने जाते हैं।

5- भारत: भारतीय-अमेरिकी मतदाताओं को रिझाने में दोनों ही प्रत्याशी कोई कमी नहीं छोड़ रहे हैं। वैसे तो भारतवंशी मतदाता परंपरागत तौर पर डेमोक्रेटिक पार्टी का समर्थन करते हैं, लेकिन इस समुदाय का वोट पाने के लिए राष्ट्रपति ट्रंप ने अबकी बार कड़ी मेहनत की है। इसके लिए ना केवल उन्होंने ह्यूस्टन में ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम का आयोजन किया बल्कि ‘नमस्ते ट्रंप’ कार्यक्रम में भाग लेने भारत भी आए। वह समय-समय पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना सच्चा दोस्त बता चुके हैं।

- Advertisement -

Leave a Reply

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Khabar Satta Deskhttps://khabarsatta.com
खबर सत्ता डेस्क, कार्यालय संवाददाता

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,273FansLike
7,044FollowersFollow
783FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

भारत में कोरोना की वैक्सीन जनवरी तक आने की उम्मीद, ट्रायल अंतिम चरण मेंः गुलेरिया

नई दिल्ली। भारत में कोरोना की वैक्सीन को लेकर एम्स दिल्ली के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने करोड़ों लोगों को...

अमेरिकी में स्थायी निवास और ग्रीन कार्ड में भी अब राहत

वाशिंगटन। अमेरिका में रहने वाले भारतीय पेशेवरों के लिए सीनेट ने एक प्रस्ताव पारित कर राहत भरी खबर दी है। सीनेट से सर्वसम्मति से प्रस्ताव...
यह भी पढ़े :  जाधव के लिए वकील नियुक्ति मामले पर विस्तार से चर्चा की सलाह, अहलूवालिया रखेंगे भारत का पक्ष

हाफिज सईद के बाद जमात-उद-दावा के प्रवक्ता को पाक अदालत ने सुनाई सजा, 15 साल रहेगा जेल में

लाहौर। पाकिस्तान में मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के बाद जमाद-उद-दावा के प्रवक्ता, याहया मुजाहिद को पाकिस्तान अदालत ने सजा सुनाई है। एब...

रेट्रो के सफ़र पर ले जाएगा कियारा आडवाणी की फ़िल्म ‘इंदू की जवानी’ का नया गाना, देखें वीडियो

नई दिल्ली। हिंदी सिनेमा चाहे जिस दौर में पहुंच जाए, मगर रेट्रो का सुरूर ज़हन से नहीं जाता। फ़िल्ममेकर्स किसी ना किसी बहाने दर्शकों को...

Bigg Boss 14: एजाज़ ख़ान और जैस्मिन भसीन ने एक दूसरे के कैरेक्टर पर उछाला कीचड़, बोले- ‘भाड़े का कैरेक्टर’

नई दिल्ली। टीवी एक्ट्रेस जैस्मिन भसीन जब ‘बिग बॉस 14’ में आई थीं तब दर्शकों को उनकी एक अलग पर्सनैलिटी देखने को मिली थी।...
x