Home विदेश कुलभूषण जाधव मामले में नई चाल चल रहा पाकिस्तान, MEA ने लगाई फटकार

कुलभूषण जाधव मामले में नई चाल चल रहा पाकिस्तान, MEA ने लगाई फटकार

भारत ने कुलभूषण जाधव मामले को, सजा काटने के बावजूद जेल में बंद एक अन्य भारतीय के मामले से जोड़ने का प्रयास करने को लेकर पाकिस्तान की निंदा की । पाकिस्तानी मीडिया की खबरों में दावा किया गया कि भारतीय उच्चायोग के वकील शाहनवाज नून ने इस्लामाबाद उच्च न्यायालय को बताया कि भारतीय उच्चायुक्त गौरव अहलूवालिया मृत्यु दंड का सामना कर रहे जाधव के लिए वकील की नियुक्ति को लेकर भारत के रूख को स्पष्ट करना चाहते हैं । हालांकि, भारत ने कहा कि नून को इस बारे में बोलने के लिए अधिकृत नहीं है और ऐसा प्रतीत होता है कि उन्होंने पाकिस्तान के सत्ता प्रतिष्ठान के दबाव के तहत यह कदम उठाया।

- Advertisement -

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि पाकिस्तान कुलभूषण जाधव के मामले को एक अन्य कैदी के मामले से जोड़ने का प्रयास कर रहा है । श्रीवास्तव ने कहा कि भारतीय उच्चायोग ने नून को भारतीय कैदी मोहम्मद इस्माइल की रिहाई और वापसी से जुड़े मामले में अदालत में पेश होने के लिए चुना था। इस्माइल अपनी सजा पूरी कर चुके हैं लेकिन उन्हें पाकिस्तान में जेल में रखा गया है। उन्होंने कहा कि हालांकि इस्माइल के मामले की सुनवाई के दौरान पाकिस्तान के अटॉर्नी जनरल ने जाधव से जुड़ा मामला उठाया जबकि दोनों मामलों में कोई जुड़ाव नहीं है ।

श्रीवास्तव ने कहा कि खबरों के मुताबिक नून ने जो बयान दिए वह सही नहीं हैं और यह मामले में हमारे रूख के विपरीत हैं । ऐसा प्रतीत होता है कि उन्होंने पाकिस्तानी प्रतिष्ठानों के दबाव में इस तरह के बयान दिए जबकि वह इसके लिए अधिकृत नहीं है। श्रीवास्तव ने कहा कि भारतीय उच्चायोग ने नून से साफ तौर पर कहा था कि वह भारत सरकार या जाधव की ओर से पेश होने के लिए अधिकृत नहीं है।

- Advertisement -

भारत ने जाधव तक राजनयिक पहुंच प्रदान नहीं किए जाने पर 2017 में अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का रूख किया था और सैन्य अदालत द्वारा जाधव को सुनाये गए मृत्युदंड को चुनौती दी थी। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय ने जाधव की दोषिसिद्धि, सजा की समीक्षा, उस पर पुनर्विचार करने तथा बिना किसी देरी के उन तक राजनयिक पहुंच देने को कहा था। भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव को पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने जासूसी और आतंकवाद के आरोपों पर अप्रैल 2017 में मौत की सजा सुनायी थी।

यह भी पढ़े :  पाकिस्तानी सिखों ने ननकाना साहिब हमलावरों के लिए कड़ी सजा की मांग की, अल्पसंख्यकों में बढ़ा गुस्सा
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Khabar Satta Deskhttps://khabarsatta.com
खबर सत्ता डेस्क, कार्यालय संवाददाता

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

12,574FansLike
7,044FollowersFollow
781FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

Google Chrome का नया अपडेट, जानिए गूगल क्रोम के नए अपडेट में क्या है ख़ास

Google Chrome का नया अपडेट, जानिए गूगल क्रोम के नए अपडेट में क्या है ख़ास- हमारे google क्रोम...
यह भी पढ़े :  अमेरिका ने पाकिस्तान में पनाह लिए लश्कर-ए-तैय्यबा को आतंकवादी श्रेणी में बरकरार रखा

TANDAV : अली अब्बास जफर और अन्य को Bombay High Court ने अग्रिम जमानत दी