Homeदेश53 जवानों के साथ इंडोनेशियाई पनडुब्बी लापता, भारतीय नौसेना डीएसआरवी रवाना

53 जवानों के साथ इंडोनेशियाई पनडुब्बी लापता, भारतीय नौसेना डीएसआरवी रवाना

53 सैनिकों के साथ एक इंडोनेशियाई नौसैनिक पनडुब्बी लापता हो गई है। समुद्र में युद्ध अभ्यास करते हुए पनडुब्बी गायब हो गई।

- Advertisement -

जकार्ता: इंडोनेशियाई नौसेना की पनडुब्बी जिसमें 53 सैनिक थे लापता हो गए हैं। समुद्र में युद्ध अभ्यास करते हुए पनडुब्बी गायब हो गई। प्रारंभिक खोज के बाद, पनडुब्बी नहीं मिली और भारतीय नौसेना ने विशाखापत्तनम से अपने ‘डीप सबमरीन रेस्क्यू वेसल'(DSRV) को भेज दिया। यह पोत ऐसी पनडुब्बियों का पता लगाने और इसके रहने वालों को बचाने में माहिर है। इसलिए, गहरे समुद्र में गायब हुई इस पनडुब्बी के जल्द ही खोजे जाने की संभावना है। इंडोनेशियाई पनडुब्बी को जर्मनी में बनाया गया था और इसका नाम ‘केआरआई नंगला -402’ है। बाली जलडमरूमध्य में सैन्य अभ्यास करते समय पनडुब्बी गायब हो गई

भारतीय नौसेना के अधिकारियों ने कहा, “इंडोनेशियाई पनडुब्बी अंतर्राष्ट्रीय सबमरीन एस्केप एंड रेस्क्यू लाइजन ऑफिस (ISMERLO) के माध्यम से लापता हो गई। भारत (India) ने इसके बाद इंडोनेशियाई नौसेना की पनडुब्बी की खोज के लिए अपना ‘डीप सबमरीन रेस्क्यू वेसल’ (DSRV) भेजा। “

- Advertisement -

पनडुब्बी को खोजने के लिए कई देशों द्वारा एक ठोस प्रयास

यह भी पढ़े :  सीएम योगी की PM मोदी के साथ बैठक खत्‍म

भारतीय नौसेना (Indian Navy) के प्रवक्ता कमांडर विवेक माधवाल ने कहा, “भारतीय नौसेना ने गुरुवार को इंडोनेशियाई पनडुब्बी केआरआई नंगला के लिए खोज अभियान में मदद करने के लिए अपने डीएसआरवी को भेजा। भारत दुनिया के उन चुनिंदा देशों में से एक है जो ऐसी पनडुब्बियों का पता लगाने में डीएसआरवी प्रणाली सक्षम है। इस तकनीक के माध्यम से लापता पनडुब्बी को 1000 मीटर की गहराई तक पाया जा सकता है। यह एक आधुनिक स्कैन सोनार प्रणाली (SSS) और एक रिमोट नियंत्रित वाहन (ROV) का उपयोग करता है।

यह भी पढ़े :  Kedarnath: केदारनाथ में आपदा के 8 साल, बदल गयी बाबा के दरबार की सूरत
- Advertisement -

भारत की डीएसआरवी लापता पनडुब्बियों का पता लगाने और लोगों को बचाने में माहिर है

भारतीय नौसेना का डीएसआरवी लापता लोगों का पता लगाने और जान बचाने में माहिर है। एक बार पनडुब्बी की खोज हो जाने के बाद, डीएसआरवी से एक पनडुब्बी बचाव वाहन (DSRV) पनडुब्बी में फंसे लोगों को बचा लेगा। एसआरवी का उपयोग पनडुब्बी में फंसे लोगों को आपातकालीन सहायता के लिए किया जाता है। भारत और इंडोनेशिया के बीच एक व्यापक रणनीतिक साझेदारी है और दोनों देशों के बीच नौसैनिक सहयोग और साझेदारी समझौते हैं।

- Advertisement -

दुनिया के कुछ चुनिंदा देशों के पास ही यह तकनीक है

यह भी पढ़े :  दरभांग बना बिहार का नया इंटरनेशनल एयरपोर्ट, इंडिगो ने शुरू किया दुबई के लिए विमान सेवा शुरू

भारतीय नौसेना के स्वामित्व वाला डीएसआरवी दुनिया भर के चुनिंदा देशों का है। वह 2018 में भारतीय नौसेना में शामिल हुए। सिस्टम और तकनीक समुद्र में गहराई तक जाकर लोगों को बचाने में माहिर हैं। भारत के अलावा, यह केवल संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस, चीन, जापान, ब्रिटेन, नॉर्वे, ऑस्ट्रेलिया, इटली, फ्रांस, दक्षिण कोरिया और सिंगापुर में पाया जाता है। यह मशीन एक बार में 14 लोगों को बचा सकती है।

- Advertisement -
spot_img
spot_img
- Advertisment -