Wednesday, December 7, 2022
Home सिवनी

सिवनी

Seoni News, Seoni News in Hindi: Latest सिवनी न्यूज़, Seoni Breaking News , सिवनी न्यूज़, सिवनी समाचार | Seoni News Today और Seoni Corona News

सिवनी न्यूज़ की ताजा खबरें और सिवनी न्यूज़ की ताजा ख़बरें

Seoni News: Seoni News : Seoni News in Hindi, Seoni News Madhya Pradesh (seoni news)

Seoni News Today | Seoni News | सिवनी की ताज़ा ख़बर |
सिवनी की ताज़ा खबर, सिवनी ब्रेकिंग सिवनी

Madhya Pradesh : सिवनी मध्य प्रदेश , सिवनी की ताज़ा ख़बर | सिवनी न्यूज़

सिवनी न्यूज़ | samachar | | seoni madhya pradesh | city (सिवनी न्यूज़)
मध्य प्रदेश का जिला है सिवनी
We Provides latest and breaking news headlines ( सिवनी समाचार) from , Madhya Pradesh News…

So If You Want Update For Seoni Realted All Information Please Download Our Official Seoni Samachar App From Play Store

Seoni breaking news headlines and more on Our News Website We Providing Latest News Of Seoni Madhya Pradesh With seoni video News

सिवनी न्यूज़

सिवनी जिले की न्यूज़ ,सिवनी जिला न्यूज़ ,बरघाट सिवनी ,सिवनी जिला समाचार, सिवनी जिले की खबर, सिवनी मध्य प्रदेश,

Seoni News,सिवनी न्यूज़, Seoni News In Hindi, Seoni MP, सिवनी न्यूज़ Today

संवाद कुंज सिवनी,सिवनी जिले की ताजा खबर,सिवनी की ताजा खबर,जिला पंचायत सिवनी,सिवनी पर्यटन,

सिवनी जिला का नक्शा,लखनादौन समाचार,सिवनी जिले का नक्शा,सिवनी पत्रिका
सिवनी (अंग्रेजी :Seoni ) Seoni Samachar

भारत के मध्य प्रदेश का एक जिला है। सिवनी जबलपुर संभाग के अन्तर्गत आता हैँ राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 7 इस जिले से होकर जाता हैँ।
Seoni News,सिवनी न्यूज़, Seoni News In Hindi, Seoni MP, सिवनी न्यूज़ Today
यह के पडोसी जिले उत्तर दिश की ओर जबलपुर,मंडला, नरसिँहपुर जिले है पूर्व दिशा कि ओर बालाघाट पश्चिम दिश की ओर छिँदवाडा और दक्षिण दिशा कि ओर नागपुर हैँ।

जिले की 8 तहसील में बांटा गया है, जिसमे सिवनी, लखनादौन, केवलारी, घंसौर, छपारा, बरघाट,कुरई और धनौरा है

जिले के लोगों का मुख्य व्यवसाय कृषि है।यह जनजातीय बाहुल है! छ्पारा गोंड राजा राम सिंह की गड़ी है

सिवनी जिले की न्यूज़ ,सिवनी जिला न्यूज़ ,बरघाट सिवनी ,सिवनी जिला समाचार, सिवनी जिले की खबर, सिवनी मध्य प्रदेश,

संवाद कुंज सिवनी,सिवनी जिले की ताजा खबर,सिवनी की ताजा खबर,जिला पंचायत सिवनी,सिवनी पर्यटन,
Seoni News, Seoni News In Hindi, Seoni MP
सिवनी जिला का नक्शा,लखनादौन समाचार,सिवनी जिले का नक्शा,सिवनी पत्रिका
सिवनी मध्य प्रदेश (SEONI MADHYA PRADESH)

इस नदी का उद्गम स्थल मुण्डरा है यह नदी जिले कि जीवन रेखा है

इसी नदी पर एशिया का सबसे बडा मिट्टी का डेम छपारा के अन्तर्गत भीमगढ़ में बना है

यह राष्ट्रीय उद्यान 757.85 किलोमीटर पर फैला है यह बफर जोन के अन्तर्गत आता है इस बाघ अभ्यारण मे

बाघ, नीलगाय, बारहसिंगा, हिरन, मोर, बन्दर, काले हिरन, सांभर, जंगली सुअर, सोनकुत्ता एवं अन्य जानवर तथा अनेक प्रकार के पक्षी बहुतायत में पाये जाते है।

खासकर बाघ को देखेने पर्यटक दूर दूर से आते है

नोबेल पुरस्कार विजेता रुडयार्ड किपलिंग जब भारत लौटे और लगभग अगले साढ़े छह साल तक यहीं रह कर काम किया।

लिखी गयी कहानी द जंगल बुकजंगल बुक के कथानक में मोगली नामक एक बालक है जो जंगल मे खो जाता है

और उसका पालन पोषण भेड़ियों का एक झुंड करता है, अंत मे वह गाँव में लौट जाता है।
Seoni News In Hindi, Seoni MP,
इसलिए इस जिले को पहचान मोंगली लैँड के नाम से भी जाना जाता हैँ।

दलसागर (Dalsagar Lake) यह सिवनी जिले का बडा तालाब है इसके बीच पर एक टापू है यह एक दर्शनिक स्थल हैँ।

सिवनी जिले की न्यूज़ ,सिवनी जिला न्यूज़ ,बरघाट सिवनी ,सिवनी जिला समाचार, सिवनी जिले की खबर, सिवनी मध्य प्रदेश,
सिवनी के मोगली पर बनी फिल्म जंगल बुक (Mowgli Jungle Book)
द जंगल बुक नोबेल पुरस्कार विजेता अंग्रेजी लेखक रुडयार्ड किपलिंग की कहानियों का एक संग्रह है।

इन कहानियों को पहली बार कालीचरण 1893-94 में पत्रिकाओं में प्रकाशित किया गया था।

कहानियों के साथ छपे कुछ चित्रों को रुडयार्ड के पिता जॉन लॉकवुड किपलिंग ने बनाया था।

रुडयार्ड किपलिंग का जन्म भारत में हुआ था और उन्होने अपनी शैशव अवस्था के प्रथम छह वर्ष भारत में बिताये।

इसके उपरान्त लगभग दस वर्ष इंग्लैण्ड में रहने के बाद वे फिर भारत लौटे और लगभग अगले साढ़े छह साल तक यहीं रह कर काम किया।

इन कहानियों को रुडयार्ड ने तब लिखा था जब वो वर्मोंट में रहते थे।

जंगल बुक के कथानक में मोगली नामक एक बालक है जो जंगल मे खो जाता है और उसका पालन पोषण भेड़ियों का एक झुंड करता है, अंत मे वह गाँव में लौट जाता है।
सिवनी के मोगली पर बनी फिल्म जंगल बुक का वर्णन
पुस्तक में वर्णित कहानियां जानवरों का मानवाकृतीय तरीके से प्रयोग कर, नैतिक शिक्षा देने का प्रयास किया गया है।

उदाहरण के लिए ‘द लॉ ऑफ द जंगल’ के छंद में, व्यक्तियों, परिवारों और समुदायों की सुरक्षा के लिए नियमों का पालन करने की हिदायत दी गयी है।

किपलिंग ने अपनी इन कहानियों में उन सभी जानकारियों का समावेश किया है

जो उन्हें भारतीय जंगल के बारे में पता थी या फिर जिसकी उन्होनें कल्पना की थी।

अन्य पाठकों ने उनके काम की व्याख्या उस समय की राजनीति और समाज के रूपक के रूप में की है।

उनमें से सबसे अधिक प्रसिद्ध तीन कहानियां हैं जो एक परित्यक्त “मानव शावक” मोगली के कारनामों का वर्णन करती हैं

जिसे भारत के जंगल में भेड़ियों द्वारा पाला जाता है। किपलिंग की हर कहानी की शुरुआत और अंत एक छंद के साथ होती है।

No posts to display