Home देश Sharad Purnima 2020: शरद पूर्णिमा 2020 कथा, विधान, तरीख, समय

Sharad Purnima 2020: शरद पूर्णिमा 2020 कथा, विधान, तरीख, समय

Sharad Purnima 2020: शरद पूर्णिमा 2020 कथा, विधान, तरीख, समय: शरद पूर्णिमा, जिसे कोजागरी पूर्णिमा या रास पूर्णिमा भी कहते हैं; हिन्दू पंचांग के अनुसार आश्विन मास की पूर्णिमा को कहते हैं। ज्‍योतिष के अनुसार, पूरे साल में केवल इसी दिन चन्द्रमा सोलह कलाओं से परिपूर्ण होता है। हिन्दू धर्म में इस दिन कोजागर व्रत माना गया है। इसी को कौमुदी व्रत भी कहते हैं। इसी दिन श्रीकृष्ण ने महारास रचाया था। मान्यता है इस रात्रि को चन्द्रमा की किरणों से अमृत झड़ता है। तभी इस दिन उत्तर भारत में खीर बनाकर रात भर चाँदनी में रखने का विधान है।

शरद पूर्णिमा कथा

- Advertisement -

एक साहुकार के दो पुत्रियाँ थी। दोनो पुत्रियाँ पुर्णिमा का व्रत रखती थी। परन्तु बडी पुत्री पूरा व्रत करती थी और छोटी पुत्री अधुरा व्रत करती थी। परिणाम यह हुआ कि छोटी पुत्री की सन्तान पैदा ही मर जाती थी। उसने पंडितो से इसका कारण पूछा तो उन्होने बताया की तुम पूर्णिमा का अधूरा व्रत करती थी जिसके कारण तुम्हारी सन्तान पैदा होते ही मर जाती है। पूर्णिमा का पुरा विधिपुर्वक करने से तुम्हारी सन्तान जीवित रह सकती है। उसने पंडितों की सलाह पर पूर्णिमा का पूरा व्रत विधिपूर्वक किया। उसके लडका हुआ परन्तु शीघ्र ही मर गया। उसने लडके को पीढे पर लिटाकर ऊपर से पकडा ढक दिया। फिर बडी बहन को बुलाकर लाई और बैठने के लिए वही पीढा दे दिया। बडी बहन जब पीढे पर बैठने लगी जो उसका घाघरा बच्चे का छू गया। बच्चा घाघरा छुते ही रोने लगा। बडी बहन बोली-” तु मुझे कंलक लगाना चाहती थी। मेरे बैठने से यह मर जाता।“ तब छोटी बहन बोली, ” यह तो पहले से मरा हुआ था। तेरे ही भाग्य से यह जीवित हो गया है। तेरे पुण्य से ही यह जीवित हुआ है। “उसके बाद नगर में उसने पुर्णिमा का पूरा व्रत करने का ढिंढोरा पिटवा दिया। ॐ

यह भी पढ़े :  FAU-G Pre Registartion: Fau-G Play Store पर आ गया, होने लगे प्री रजिस्ट्रेशन
यह भी पढ़े :  covid-19: देश में एक दिन में कोरोना के 41,810 नए केस, संक्रमितों की संख्या 94 लाख के करीब

शरद पूर्णिमा विधान

इस दिन मनुष्य विधिपूर्वक स्नान करके उपवास रखे और जितेन्द्रिय भाव से रहे। धनवान व्यक्ति ताँबे अथवा मिट्टी के कलश पर वस्त्र से ढँकी हुई स्वर्णमयी लक्ष्मी की प्रतिमा को स्थापित करके भिन्न-भिन्न उपचारों से उनकी पूजा करें, तदनंतर सायंकाल में चन्द्रोदय होने पर सोने, चाँदी अथवा मिट्टी के घी से भरे हुए १०० दीपक जलाए। इसके बाद घी मिश्रित खीर तैयार करे और बहुत-से पात्रों में डालकर उसे चन्द्रमा की चाँदनी में रखें। जब एक प्रहर (३ घंटे) बीत जाएँ, तब लक्ष्मीजी को सारी खीर अर्पण करें। तत्पश्चात भक्तिपूर्वक ग़रीबों को इस प्रसाद रूपी खीर का भोजन कराएँ और उनके साथ ही मांगलिक गीत गाकर तथा मंगलमय कार्य करते हुए रात्रि जागरण करें। तदनंतर अरुणोदय काल में स्नान करके लक्ष्मीजी की वह स्वर्णमयी प्रतिमा किसी दीन दुःखी को अर्पित करें। इस रात्रि की मध्यरात्रि में देवी महालक्ष्मी अपने कर-कमलों में वर और अभय लिए संसार में विचरती हैं और मन ही मन संकल्प करती हैं कि इस समय भूतल पर कौन जाग रहा है? जागकर मेरी पूजा में लगे हुए उस मनुष्य को मैं आज धन दूँगी। इस प्रकार प्रतिवर्ष किया जाने वाला यह कोजागर व्रत लक्ष्मीजी को संतुष्ट करने वाला है।

- Advertisement -

इससे प्रसन्न हुईं माँ लक्ष्मी इस लोक में तो समृद्धि देती ही हैं और शरीर का अंत होने पर परलोक में भी सद्गति प्रदान करती हैं। गुलाबी सर्दी की अनुभूति शरद पूर्णिमा के दिन से होती है. हिंदू धर्म में शारदीय नवरात्रि के समापन के पांचवे दिन आने वाली पूर्णिमा को ही ‘शरद पूर्णिमा’ कहा जाता है. शरद पूर्णिमा सनातन कैंलेडर के अनुसार आश्विन माह में आती है. इसे ‘कोजागरी पूर्णिमा’ या ‘रास पूर्णिमा’ भी कहा हैं. इस दिन किए जाने वाले व्रत को कोजागर व्रत या कौमुदी व्रत भी कहते हैं. धार्मिक मान्यता है कि इसी दिन श्रीकृष्ण ने महारास रचाया था. प्राचीन पुराणों में उल्लेखित है कि इस रात्रि को चन्द्रमा की किरणों से अमृत बरसता हैं.

यह भी पढ़े :  covid-19: देश में एक दिन में कोरोना के 41,810 नए केस, संक्रमितों की संख्या 94 लाख के करीब

शरद पूर्णिमा व्रत विधि:

शरद पूर्णिमा को सभी व्रतों में उत्तम माना जाता है। सबसे पहले व्रतियों को अपने इष्ट देवता की पूजा करनी चाहिए। इस दौरान लोगों को तामसिक भोजन के सेवन से परहेज करना चाहिए। साथ ही, इस दिन विष्णु सहस्त्र नाम का जाप, कनकधारा स्तोत्र, भगवान कृष्ण का मधुराष्टकं और श्रीसू्क्त का पाठ करने से भी लाभ मिलने की मान्यता है। विष्णु और मां लक्ष्मी जी की पूजा करनी चाहिए। पूजन सामग्री में धूप, दीप, नैवेद्य (खीर) इत्यादि को शामिल करना अच्छा माना गया है। इसके अलावा, इस दिन रात्रि जागरण, ब्राह्मण भोजन व दक्षिणा को भी उत्तम माना गया है।

यह भी पढ़े :  NRI को बड़ा तोहफा देने की तैयारी में मोदी सरकार, चुनाव में सीधे कर सकेंगे वोट

शरद पूर्णिमा और खीर

- Advertisement -

उत्तर भारत में खीर बनाकर रात भर चाँदनी की रोशनी में रखने की परंपरा है. पूरे वर्ष में केवल इस दिन चन्दमा सोलह कलाओं से परिपूर्ण होता है. शरद पूर्णिमा की रात्रि में भ्रमण और चंद्रकिरणों का शरीर पर पड़ना बेहद ही शुभ माना जाता है.

अनुपालन: उत्सव, प्रार्थना
अवकाश प्रकार : धार्मिक उत्सव
तारीख: शुक्रवार, 30 अक्तूबर 2020

शरद पूर्णिमा
आधिकारिक नामशरद पूर्णिमा व्रत
अनुयायीहिन्दूभारतीय, प्रवासी प्रवासी
प्रकारHindu
उद्देश्यसर्वकामना पूर्ति
तिथिआश्विन पूर्णिमा
समान पर्वअन्य पूर्णिमाएं

Web Title : Sharad Purnima 2020: Sharad Purnima 2020 Katha, Vidhan, Date, Time

sharad purnima 2020, purnima october 2020, lakshmi puja 2020, kojagiri purnima 2020, sharad purnima lakhi puja 2020 , kojagiri purnima, sharad purnima 2020 date and time , laxmi puja 2020 date, kumar purnima 2020, sharad purnima 2020 date, शरद पूर्णिमा कब है , purnima 2020 , शरद पूर्णिमा , kojagiri 2020 kojagari , laxmi puja 2020 date, when is sharad purnima 2020, lakhi puja 2020 date, kojagari laxmi puja 2020 time, laxmi puja lakshmi puja 2020 in assam, कोजागिरी पौर्णिमा 2020, lakhi puja 2020 in assam, lokhi puja 2020, laxmi puja 2020 date in assam,

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Shubham Sharmahttps://khabarsatta.com
Editor In Chief : Shubham Sharma

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,273FansLike
7,044FollowersFollow
783FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

भारत में कोरोना की वैक्सीन जनवरी तक आने की उम्मीद, ट्रायल अंतिम चरण मेंः गुलेरिया

नई दिल्ली। भारत में कोरोना की वैक्सीन को लेकर एम्स दिल्ली के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने करोड़ों लोगों को...
यह भी पढ़े :  राहुल का PM मोदी पर जोरदार हमला, कहा- मित्रों की आय चौगुनी, किसानों की आधी

अमेरिकी में स्थायी निवास और ग्रीन कार्ड में भी अब राहत

वाशिंगटन। अमेरिका में रहने वाले भारतीय पेशेवरों के लिए सीनेट ने एक प्रस्ताव पारित कर राहत भरी खबर दी है। सीनेट से सर्वसम्मति से प्रस्ताव...

हाफिज सईद के बाद जमात-उद-दावा के प्रवक्ता को पाक अदालत ने सुनाई सजा, 15 साल रहेगा जेल में

लाहौर। पाकिस्तान में मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के बाद जमाद-उद-दावा के प्रवक्ता, याहया मुजाहिद को पाकिस्तान अदालत ने सजा सुनाई है। एब...

रेट्रो के सफ़र पर ले जाएगा कियारा आडवाणी की फ़िल्म ‘इंदू की जवानी’ का नया गाना, देखें वीडियो

नई दिल्ली। हिंदी सिनेमा चाहे जिस दौर में पहुंच जाए, मगर रेट्रो का सुरूर ज़हन से नहीं जाता। फ़िल्ममेकर्स किसी ना किसी बहाने दर्शकों को...

Bigg Boss 14: एजाज़ ख़ान और जैस्मिन भसीन ने एक दूसरे के कैरेक्टर पर उछाला कीचड़, बोले- ‘भाड़े का कैरेक्टर’

नई दिल्ली। टीवी एक्ट्रेस जैस्मिन भसीन जब ‘बिग बॉस 14’ में आई थीं तब दर्शकों को उनकी एक अलग पर्सनैलिटी देखने को मिली थी।...
x