Home देश यूजीसी ने कहा- देश के सभी विश्वविद्यालयों में दो नवंबर से फिर से शुरू होगा पठन-पाठन

यूजीसी ने कहा- देश के सभी विश्वविद्यालयों में दो नवंबर से फिर से शुरू होगा पठन-पाठन

नई दिल्ली। कोरोना के खतरे को देखते हुए बंद पड़े देश भर के विश्वविद्यालयों में दो नंवबर से फिर से पढ़ाई-लिखाई शुरू हो जाएगी। हालांकि अभी कोरोना का खतरा टला नहीं है, इसलिए संस्थानों को स्थानीय परिस्थितियों के आधार पर ऑनलाइन या फिर ऑफलाइन दोंनों ही तरीकों से पढ़ाने का विकल्प दिया गया है। विश्वविद्यालयों ने इसे लेकर तैयारी भी शुरु कर दी है। इस दौरान छात्रों की यदि कक्षाएं लगती है, तो एक समय में कक्षाओं की कुल क्षमता के आधे छात्रों को ही बुलाया जाएगा।

विश्वविद्यालयों की री-ओपेनिंग को लेकर यूजीसी जारी करेगी गाइडलाइन

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने इस बीच विश्वविद्यालयों को फिर से खोलने को लेकर नई सुरक्षा गाइडलाइन पर भी काम शुरू कर दिया है। जो एक नवंबर से पहले कभी भी जारी हो सकती है। जिसमें कोरोना से बचाव के जुड़े सुरक्षा उपायों सहित कैंपस में आने वाले छात्रों के स्वास्थ्य पर नजर रखने के लिए भी एक टीम तैनात की जाएगी। इस दौरान कैंपस में डाक्टरों की एक टीम और एबुलेंस भी तैयार रखा जाएगा, ताकि किसी छात्र को किसी भी तरह की दिक्कत होने पर उन्हें तुरंत आइसोलेट किया जा सके। इसके साथ ही विश्वविद्यालय परिसर में भी एक आइसोलेशन रूम भी तैयार रखा जाएगा। विश्वविद्यालय आने वाले प्रत्येक शिक्षक, छात्र और दूसरे कर्मचारियों को थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही प्रवेश दिया जाएगा।

विश्वविद्यालयों के पास ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरीकों से पढ़ाने का रहेगा विकल्प

- Advertisement -

यूजीसी ने विश्वविद्यालयों के लिए इस एकेडमिक कैलेंडर को सितंबर में ही जारी कर दिया था। जिसमें अंडर ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट के पहले वर्ष की कक्षाएं एक नवंबर से शुरू करने का प्रस्ताव दिया था। हालांकि कोरोना संक्रमण की स्थिति अभी भी देश में सामान्य नहीं हुई है, ऐसे में यूजीसी ने अब विश्वविद्यालयों को यह विकल्प दिया है, कि यदि संस्थान खोलने की स्थिति नहीं बनती है, तो आनलाइन ही पढ़ाई शुरू कराए, लेकिन एकेडमिक कैलेंडर में अब कोई बदलाव नहीं होगा। यानी विश्वविद्यालयों को नए सत्र की पढ़ाई दो नवंबर से शुरू करानी ही होगी।

यह भी पढ़े :  मुठभेड़ में मारा गया 8 लाख का इनामी नक्सली, 10 साल से तीन राज्यों की पुलिस के लिए बना था सिरदर्द
यह भी पढ़े :  हड़ताल के चलते सरकारी बैंकों में कामकाज आंशिक रूप से हुआ प्रभावित, इन बैंकों पर नहीं पड़ा असर

सभी विश्वविद्यालयों को 31 अक्टूबर तक अंतिम वर्ष की परीक्षा, प्रवेश प्रक्रिया खत्म करने के निर्देश

यूजीसी ने इस दौरान सभी विश्वविद्यालयों से 31 अक्टूबर तक अंतिम वर्ष की परीक्षाओं और प्रवेश प्रक्रिया खत्म करने के भी निर्देश दिए थे। हालांकि इस दौरान पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और पंजाब जैसे राज्यों ने कुछ अतिरिक्त समय भी मांगा था। यूजीसी ने जिसकी अनुमति दे दी थी। हालांकि यूजीसी ने सभी से फिर भी पंद्रह नवंबर तक सारी परीक्षाएं खत्म करने को कहा था। ऐसे में पंद्रह नवंबर के बाद भी इन राज्यों में भी पढ़ाई शुरू हो जाएगी।

- Advertisement -

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Khabar Satta Deskhttps://khabarsatta.com
खबर सत्ता डेस्क, कार्यालय संवाददाता

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,263FansLike
7,044FollowersFollow
785FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

उत्तर प्रदेश में धर्मांतरण संबंधी कानून आज से लागू, राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने दी मंजूरी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश 2020 लागू हो गया है। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने...
यह भी पढ़े :  ट्रेड यूनियन आज करेंगी हड़ताल, ऑल इंडिया बैंक एम्प्लाइज एसोसिएशन भी लेगी हिस्सा

राज्यों सरकारों से सुप्रीम कोर्ट नाराज, कहा- राजनीति से ऊपर उठकर कोविड-19 को करो काबू

देश में कोरोना के लगातार बिगड़ रहे हालात को लेकर  उच्चतम न्यायालय ने राज्य सरकारों का फटकार लगाई। कोर्ट ने कहा क कोविड-19 के...

PM मोदी के अहंकार ने जवान और किसान को आमने सामने खड़ा कर दिया: राहुल गांधी

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने किसानों को दिल्ली आने से रोकने के लिए सैनिकों के इस्तेमाल की आलोचना करते हुए कहा है...

CM शिवराज के निर्देश के बाद ईरानियों के अवैध कब्जे पर चला बुल्डोजर, भारी पुलिस बल तैनात

भोपाल: भोपाल में ईरानियों के अवैध कब्जे पर आज जिला प्रशासन की टीम बड़ी कार्रवाई कर रही है। इसके मद्देनजर पुलिस की टीम ने...

सरकार की सख्ती पर भड़के किसान, जैजी बी और दिलजीत ने ‘वाहेगुरु’ के आगे की अरदास

जालंधर: केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ 'दिल्ली चलो' मार्च के तहत किसानों का आंदोलन जारी है। इस बीच दिल्ली सरकार ने...
x