khabar-satta-app
Home देश कोसी और पूर्व बिहार में चुनाव से पहले ही आधी आबादी ने दिखाई धमक

कोसी और पूर्व बिहार में चुनाव से पहले ही आधी आबादी ने दिखाई धमक

भागलपुर। आधी आबादी के संबंध में हर तरह की घोषणाएं की जाती हैं, लेकिन जब चुनाव का समय आता है तो उन्हें उपेक्षित कर दिया जाता है। यह उपेक्षा सिर्फ राजनीति में नहीं, घर से लेकर बाहर तक होती है। ऐसी स्थिति में इस बार सात एजेंडों पर महिलाओं ने अपने जनप्रतिनिधियों को शपथ पत्र भरकर देने को कहा है। पूर्व बिहार, कोसी और सीमांचल के 13 जिलों में इस मुहिम के शुरू होने से कहीं जनप्रतिनिधि उत्साहित हैं तो कहीं वे इसे झमेला मान रहे हैं।

महिलाओं की प्रमुख मांगों में पंचायत स्तर पर विवाह का पंजीकरण कराना भी शामिल है। इस मुहिम का नेतृत्व कर रही कैपेंन अगेंस्ट चाइल्ड ट्रैफिकिंग (सीएसीटी), बिहार की संयोजक शिल्पी सिंह का कहना है कि महिलाओं के प्रति होने वाले अपराध में भी बिहार पीछे नहीं है। नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) ने 2019 में जो रिपोर्ट जारी की है, उसमें इस बात का उल्लेख किया गया है कि 1201 लड़के और 3904 लड़कियां 2018 में गायब हुई हैं। 2019 में 1364 लड़के और 5935 लड़कियां गायब हुई हैं। इनकी खोजबीन में किसी की दिलचस्पी नहीं है। इसी तरह बाल विवाह का आंकड़ा भी भयावह है। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे की एक रिपोर्ट के अनुसार बिहार में 42.5 फीसद लड़कियां 18 वर्ष पूरे होने के पहले ब्याह दी जाती हैं। पूर्व बिहार, कोसी और सीमांचल में जमुई बाल विवाह के मामले में सबसे ऊपर है। इन लड़कियों के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव भी पड़ता है। इन इलाकों में दुष्कर्म की भी स्थिति भयावह है। इन सब चीजों को देखते हुए संगठन ने इस बार लड़कियों या महिलाओं की समस्या को चुनावी मुद्दा बनाने का प्रयास किया है। इस चुनाव में सबसे बड़ा मुद्दा इस बात को बनाने की कोशिश की जा रही है कि विवाह का पंजीकरण पंचायत में हो। इसका फायदा यह होगा कि विवाह के नाम पर ट्रैफिकिंग रुक जाएगी।

- Advertisement -

ये होंगे मुद्दे

1. ग्राम पंचायत स्तर पर विवाह का पंजीकरण हो।

- Advertisement -

2. जिला स्तर पर प्रवासियों का रिकॉर्ड अनिवार्य रूप से बने।

3. ग्राम पंचायत में वार्ड स्तर पर बाल संरक्षण समितियों को मजबूत बनाया जाए।

- Advertisement -

4. स्कूल-कॉलेजों के पाठ्यक्रम को जेंडर सेंसेटिव बनाया जाए।

5. विद्यालय के पाठ्यक्रम में भी मानव तस्करी के बारे में जानकारी दी जाए।

6. मानव तस्करी में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कानून बने।

7. महिलाओं के हक के लिए पंचायत स्तर पर समिति बने।

20 से 24 वर्ष के बीच की ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाएं जिनका विवाह 18 वर्ष से पहले कर दिया गया

जिला : आंकड़ा आबादी के अनुपात में (प्रतिशत में)

अररिया : 49.0

पूॢणया : 39.4

भागलपुर : 35.8

खगडिय़ा : 51.8

किशनगंज : 25.4

कटिहार : 40.4

सहरसा : 45.5

सुपौल : 60.7

बांका : 49.4

लखीसराय : 48.4

जमुई : 62.0

मधेपुरा : 60.2

- Advertisement -

Discount Code : ks10

NEWS, JOBS, OFFERS यहां सर्च करें

Khabar Satta Deskhttps://khabarsatta.com
खबर सत्ता डेस्क, कार्यालय संवाददाता

सोशल प्लेटफॉर्म्स में हमसे जुड़े

11,007FansLike
7,044FollowersFollow
780FollowersFollow
4,050SubscribersSubscribe

More Articles Like This

- Advertisement -

Latest News

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान कपिल देव को पड़ा दिल का दौरा,शाहरुख और रणवीर सहित इन स्टार्स ने मांगी दुआ

मुंबई: दिग्गज भारतीय क्रिकेटर कपिल देव को वीरवार देर रात दिल का दौरा पड़ा। इसके बाद कपिल देव की...

गुजरात को आज मिलेगा सबसे बड़े रोप-वे का तोहफा, पीएम मोदी आज करेंगे तीन परियोजनाओं का उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से अपने गृह राज्य गुजरात में तीन परियोजनाओं का उद्घाटन करेंगे। वह गुजरात के किसानों के...

अब गाली गलौज पर उतरी इमरती देवी, पूर्व सीएम कमलनाथ को बताया लुच्चा-लफंगा और शराबी

डबरा: पूर्व सीएम कमलनाथ और इमरती देवी में आइटम को लेकर छिड़ी बहस बाजी अब गाली गलौज में बदल गई है। मध्य प्रदेश में जारी...

योगी सरकार के मंत्री बोले- किसानों को ऋण वितरण में बर्दाश्त नहीं कोताही

लखनऊः उत्तर प्रदेश के सहकारिता मंत्री मुकुट बिहारी वर्मा ने कहा कि किसानों को अल्पकालीन ऋण वितरण किये जाने में किसी प्रकार की ढिलाई बर्दाश्त...

सिद्धू को लेकर कैप्टन के तेवर पड़े नरम

चंडीगढ़: लंबे समय से कांग्रेस में ही वनवास झेल रहे पूर्व कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री कै. अमरेंद्र सिंह के रिश्तों में...