khabar-satta-app
Home Blog

म0प्र0 की राजधानी भोपाल में NRI की नाबालिग बेटी से घर आकर किया दुष्कर्म

0
rape victim

भोपालः मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में लगातार ही प्रदेश की बहन-बेटियों से अत्याचार के मामले सामने आते जा रहे है. जानकारी के लिए आपको बता दें की बीते दिन शनिवार को छतरपुर (Chhatarpur) में नाबालिग से गैंगरेप के बाद अब प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) से हैवानियत का मामला सामने आया है. भोपालमें एक लड़के ने NRI की नाबालिग बेटी से सोशल मीडिया (Instagram) पर दोस्ती की दोस्ती के बाद परिवार के बारे में जानकारी जुटाई. माह जुलाई में उस युवक ने नाबालिग बच्ची के घर पहुचकर दुष्कर्म को अंजाम दिया. इस मामले में अब जाकर मामला दर्ज हुआ है. 

भोपाल के शाहजहांनाबाद थाने में आरोपी के खिलाफ FIR दर्ज

पहले तो आरोपी लड़के ने NRI की नाबालिग बेटी से इंस्टाग्राम (Instagram) पर दोस्ती की.जिसके बाद नाबालिग लड़की से उसके परिवार और घर पर रहने वालों की जानकारी प्राप्त की गयी फिर आरोपी उसके घर पहुंच गया. उसने लड़की से एक बार दुष्कर्म करने के बाद दोबारा ज्यादती करने का दबाव भी बनाया. जिससे तनाव में आकर नाबालिग ने लड़के के बार अपनी मां को बता दिया. जिसके बाद मां ने शाहजहांनाबाद थाने में आरोपी के खिलाफ FIR दर्ज कराई. 

शाहजहांनाबाद थाने के एएसपी आरएस मिश्रा ने बताया पूरा मामला

शाहजहांनाबाद थाने के एएसपी आरएस मिश्रा (ASP R.S. Mishra) ने बताया कि नाबालिग लड़की के पिता विदेश में रहते हैं. कुछ समय पहले ही इंस्टाग्राम पर लड़की की दोस्ती लालघाटी क्षेत्र में रहने वाले एक युवक से हुई थी. दोनों में दोस्ती होने के बाद जुलाई में लड़के ने उस समय घटना को अंजाम दिया, जब घर पर कोई नहीं था. जिसके बाद युवक ने दोबारा दुष्कर्म के लिए दबाव बनाया. जिस पर नाबालिग ने इसकी शिकायत अपनी मां से की और मामला पुलिस के सामने आया. 

नाबालिग लड़की को युवक के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है, उसने पुलिस को लड़के का सिर्फ नाम ही बताया है. उसे नहीं पता कि लड़का कौन है? अब पुलिस, मोबाइल नंबर के आधार पर आरोपी की  तलाश में जुट गई है. 

Web Title : MP Bhopal News NRI’s minor daughter raped at home in Bhopal, capital of Madhya Pradesh

सिवनी कोरोना न्यूज़: 13 नए कोरोना मरीज मिले, अब 72 एक्टिव केस

0
seoni corona news
Seoni Corona News | सिवनी कोरोना न्यूज़

सिवनी: मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ के सी मेशराम द्वारा जानकारी देते हुए बताया गया कि विगत देर रात प्राप्त रिपोर्ट में 13नए पॉजिटिव मरीज मिले हैं। जिसमें बरघाट विकासखंड के पिंडरई कला में 01,जामुनटोला में 01 तथा सजनवाड़ा में 01, कुरई के ग्राम कोहका में 02,लखनादौन के ग्राम मोहगांव में 01, घंसौर के ग्राम जोवा में 01, बसुरिया में 01 तथा सिवनी विकास खंड के लखनटोला में 02,परासिया में 01, बंडोल में 01 तथा सिवनी नगरीय क्षेत्र के गुरूनानक वार्ड में 01 पॉजिटिव मरीज पाया गया हैं। वही विगत दिवस 10 मरीज पूर्णत: ठीक हो चुके हैं ।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ के सी मेशराम ने बताया कि अब तक जिले में कुल 29466 संदिग्ध व्यक्तियों के नमूने लिए गए हैं। जिसमें से 1232 कोरोना पॉजिटिव मरीज पाये गए हैं। 1152 मरीज पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं । कोरोना के 72 एक्टिव केस हैं। जिनमें से 64 मरीज होंम कोरोनटाइन हैं। जिनकी मॉनिटरिंग कोविड़ कमांड एवं कट्रोल सेंटर से की जा रहीं।

Web Title : Seoni Corona News: 13 new Corona patients found, now 72 active cases

सिवनी: घर बैठे देख पाएंगे रावण दहन का आयोजन

0
seoni ravan dahan
सिवनी: घर बैठे देख पाएंगे रावण दहन का आयोजन

सिवनी: रावण दहन आयोजन में आप इस बार ऑनलाइन ही शामिल होये, अपने मोबाईल पर या सिस्टम पर यूट्यूब, फेसबुक तथा साई केवल नेटवर्क में माध्यम से टीवी पर घर पर ही सुरक्षित बैठकर रात्रि 08 बजे रावण दहन देखे ।

श्री रामदल समिति द्वारा दशहरा पर्व पर इस बार सीमित संसाधनों के बीच गरिमामयी आयोजन के साथ रावण दहन कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है,ल दशहरा मैदान (मुनिस्पिल ग्राउंड) में समिति के संरक्षक श्री शंकरलाल जी सोनी, सिवनी विधायक श्री दिनेश राय, नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमति आरती अशोक शुक्ला, श्री राजकुमार खुराना, श्री नरेश दिवाकर, तथा प्रशासनिक अधिकारीयो, पत्रकार बंधुओ एवम श्री रामदल सदस्यों की ही उपस्थिति रहेगी ।

इस कोरोना काल हम और आप दोनों सुरक्षित रहे इसीलिए इस बार श्री रामदल का मुख्य आयोजन दशहरा पर्व पर रावण दहन अपने घर पर ही सुरक्षित बैठकर रात्रि 08 बजे ऑनलाइन देखे अपने मोबाईल या कम्प्यूटर सिस्टम पर श्री रामदल की फेसबुक आईडी [email protected] पर तथा यूट्यूब पर Rocketnet Seoni लॉगिन करके देखे, साथ ही साई केवल नेटवर्क के सौजन्य से आप आपने टीवी स्क्रीन पर SSCN SEONI चैनल नम्बर 07 पर भी आप रावण दहन का सीधा प्रसारण देखे ।

Web Title : Seoni ravan dahan live Sitting at home, Ravan will be able to organize the combustion

Happy Dussehra Wishes: दशहरे की बधाई दें इन शानदार मैसेज से , SMS और Images भेजकर करें Wish

0
Happy Dussehra Wishes
Happy Dussehra Wishes

नई दिल्‍ली। Happy Dussehra Wishes: दशहरे की बधाई दें इन शानदार मैसेज से , SMS और Images भेजकर करें Wish Happy Dussehra Wishes: Wish Dussehra with these great messages, send SMS and images to Wish : दशहरा (Dussehra 2020) हिंदुओं के प्रमुख त्‍योहारों में से एक है। भारत में दशहरा (Dussehra 2020) बुराई पर अच्छाई की जीत का बड़ा प्रतीक माना जाता है। हिंदू पचांग के अनुसार, दशहरा दि‍वाली से ठीक 20 दिन पहले अश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। इस साल दशहरा 25 अक्तूबर रविवार और 26 अक्तूबर सोमवार को मनाया जाएगा। लंका में भगवान श्रीराम के हाथों रावण का वध होने के बाद से ही इसे मनाने की परंपरा चली आ रही है। वहीं इस दिन मां दुर्गा ने राक्षस महिषासुर का संहार भी किया था, इसलिए भी इसे विजयदशमी के रूप में मनाया जाता है। दुनिया भर में कोरोना काल के बीच भारत के तमाम उत्सव भी इस बार फीके नजर आ रहे हैं। Happy Dussehra Wishes: दशहरे की बधाई दें इन शानदार मैसेज से , SMS और Images भेजकर करें Wish

Happy Dussehra Wishes

1. इससे पहले की दशहरे की शाम हो जाए,
मेरा मैसेज औरों की तरह आम हो जाए,
सारे मोबाइल नेटवर्क जाम हो जाएं,
और दशहरा विश करना आम हो जाए
आप सभी को दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएं

2. विजयदशमी पर विजय का प्रतीक हैं श्रीराम
बुराई पर अच्छाई का प्रतीक हैं श्री राम
दशहरा पर्व की शुभकामनाएं

3. फूल खिले खुशी आप के कदम चूमे,
कभी ना हो दुखों का सामना,
धन ही धन आए आप के अंगना,
यही है दशहरे के शुभ अवसर पर मनोकामना।
आप सभी को दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएं

4. बुराई का होता है विनाश, दशहरा लाता है उम्मीद की आस,
रावण की तरह आपके दुखों का हो नाश,
आप सभी को दशहरे की हार्दिक शुभकामनाएं

5. अधर्म पर धर्म की जीत
अन्याय पर न्याय की विजय
बुरे पर अच्छे की जय जयकार
यही है दशहरा का त्योहार।

भीतर की रावण रूपी बुराईयों का आज जो दहन करेंगे,
सही मायनों में वो ही दशहरा मनाएंगे  
Happy dussehra 2020

अज्ञान पर हो जाए ज्ञान की जीत
बुराई पर हो जाए अच्छाई की हो जाए जीत 
इस दशहरा आप भी लें अपनों के मन को जीत
सभी को अपनाकर करें सभी से प्रीत
Happy dussehra 2020

WhatsApp चलाने के लिए देने होंगे पैसे, इन यूजर्स से लिया जाएगा चार्ज, कंपनी ने किया ऐलान

0
WhatsApp charges
WhatsApp चलाने के लिए देने होंगे पैसे, इन यूजर्स से लिया जाएगा चार्ज, कंपनी ने किया ऐलान

नई दिल्ली. भारत जैसे देश में Whatsapp का इस्तेमाल अभी तक पूरी तरह से मुफ्त रहा है। हालांकि जल्द ही WhatsApp के कुछ चुनिंदा यूजर्स से ऐप इस्तेमाल के लिए चार्ज वसूला जा सकता है। दरअसल Whatsapp जल्द अपना नया फीचर रोलआउट करने जा रहा है। इसे व्हाट्सऐप बिजनेस (WhatsApp Business) के नाम से जाना जाएगा। यह पूरी तरह से कॉमर्शियल सर्विस होगी। इसी कॉमर्शियल सर्विस WhatsApp Business के लिए कंपनी की तरफ से चार्ज वसूलने का ऐलान किया गया है। बाकी कस्टमर के लिए WhatsApp पहले की तरह फ्री रहेगा।

प्राइसिंग का नही हुआ ऐलान 

हालांकि Facebook ओन्ड WhatsApp की तरफ से अभी तक प्राइसिंग का ऐलान नही किया गया है कि आखिर कॉमर्शियल यूज के लिए WhatsApp कितने पैसे चार्ज करेगा। बता दें कि WhatsApp Business ऐप कस्मटर के इस्तेमाल के लिए पूरी तरह से फ्री रहेगा।

छोटे कारोबारियों की होगी मदद 

WhatsAppp Business के जरिये यूजर्स सीधे अपने प्रोडक्ट की बिक्री कर पाएंगे। मौजूदा वक्त में यह फीचर अंडर डेवलपमेंट है, जिसे जल्द टेस्टिंग के बाद रोलआउट किया जाएगा। कंपनी का मानना है कि WhatsApp का नया फीचर भारत के छोटे कारोबारियों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है, जिनका कारोबार माहमारी के चलते तबाह हो गया था। दुनियाभर में 5 करोड़ से ज्यादा WhatsApp Business यूजर्स हैं। इनके लिए pay-to-message का ऐलान किया गया है।

क्या है WhatsApp Business फीचर

WhatsApp Business फीचर ऑनलाइन कारोबार के लिहाज से डिजाइन किया गया है। यह एक मिनी शॉपिंग प्लेटफॉर्म की तरह काम करेगा, जहां प्रोडक्ट की डिटेल, प्राइस की सारी जानकारी मिलेगी, साथ ही ऑडियो और वीडियो मोड के जरिए कस्टमर प्रोडक्ट की डिटेल हासिल कर पाएंगे। साथ ही ज्यादा डिटेल के लिए सीधे सेल्स या फिर कस्टमर केयर से जुड़ने का ऑप्शन दिया जा सकता है। WhatsApp Business प्लेटफॉर्म से कस्मटर को प्रोडक्ट को आर्डर करने का विकल्प मिल सकता है।

दबंगों ने 20 आदिवासियों की जलाई झोपड़ियां, 13 अक्टूबर की घटना पर अभी तक नहीं हुई कार्रवाई

0

धमतरी। जिले के दुगली गांव के धोबाकच्छार में दबंगों ने 20 आदिवासी व गरीब परिवारों से जमीन खाली कराने के लिए उनकी झोपड़ियों में आग लगा दी। धान के खेतों में तैयार फसल को मवेशियों से चरवा दिया। कलेक्ट्रेट में दो दिन धरना और ज्ञापन सौंपने के बाद कार्रवाई नहीं होने पर जब आदिवासियों ने सीएम आवास तक पैदल मार्च की चेतावनी दी तो 23 अक्टूबर की शाम न्याय का आश्वासन देते हुए सभी को वाहन से गांव भिजवा दिया गया। यद्यपि 13 अक्टूबर के घटनाक्रम के जिम्मेदारों पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

पीड़ित परिवारों के सदस्य हरीश कुमार परते, रमोला बाई चक्रधारी, प्रेमबाई यादव, राधिका सोनवानी, बीरबल सोनकर, सुख बती परते, चमेली बाई, चंदन कोर्राम, गीता बाई, प्रताप सिंह आदि ने बताया कि 13 अक्टूबर को वन समिति दुगली व दीनकरपुर समिति से जुड़े कुछ सदस्य मौके पर पहुंचे और साथ में आए लोगों के साथ झोपड़ों में तोड़फोड़ कर आग लगा दी। भय के कारण सभी मौके से भाग गए और रिश्तेदारों के यहां रहे। फिर पैदल मार्च करते हुए 19 अक्टूबर को कलेक्टोरेट पहुंचे और ज्ञापन सौंपकर वन समिति सदस्यों पर कार्रवाई की मांग की है। साथ ही काबिज जमीन का वन अधिकार पट्टा दिलाने के लिए गुहार लगाई।

23 अक्टूबर को मुख्यमंत्री निवास तक पैदल मार्च की चेतावनी देने पर ही प्रशासन हरकत में आया। पीड़ित परिवार के सदस्यों के अनुसार वे सभी 1993-94 से जमीन पर काबिज हैं। इधर डीएफओ धमतरी अभिताभ बाजपेयी ने कहा कि पीड़ितों ने थाने में शिकायत की है। जांच में दोषी पाए जाने वाले लोगों के खिलाफ पुलिस कानूनी कार्रवाई करेगी।

शिकायत झूठी, खुद जलाए झोपड़े

दूसरी तरफ वन प्रबंधन समिति दुगली के अध्यक्ष शंकर नेताम का कहना है कि ग्राम सभा में प्रस्ताव पारित कर इन अवैध कब्जाधारियों को वनभूमि से हटाया गया है। झोपड़ी जलाने का आरोप निराधार है। खुद ही अपने झोपड़े जलाकर फोटो खींचकर शिकायत की है। 27 अक्टूबर को जांच टीम आ रही है, उसके समक्ष दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा।

मध्य प्रदेश: कमल नाथ का सिर काटने की बात कहने वाले मंत्री पर केस दर्ज

0
kamalnath mp by election
मध्य प्रदेश: कमल नाथ का सिर काटने की बात कहने वाले मंत्री पर केस दर्ज

मुरैना। मध्य प्रदेश के कृषि राज्यमंत्री एवं दिमनी विधानसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी गिर्राज डंडौतिया के खिलाफ शनिवार देर शाम दिमनी थाने में एफआइआर दर्ज हो गई। डंडौतिया ने चुनावी सभा में पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ का सिर काटने और लाश ले जाने की बात कही थी।

डंडौतिया के उक्त आपत्तिजनक बयान के खिलाफ कांग्रेस ने जिला निर्वाचन अधिकारी से लेकर चुनाव आयोग तक को शिकायत की थी। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी अनुराग वर्मा ने कार्रवाई के निर्देश दिए थे। निर्वाचन आयोग ने भी इस बयान को हिंसा फैलाने वाला और डराने, धमकाने वाला पाया था। आयोग ने मुरैना के पुलिस अधीक्षक अनुराग सुजानिया को निर्देश दिए कि इस मामले में तत्काल एफआइआर दर्ज की जाए। सुजानिया ने बताया कि निर्वाचन आयोग से पत्र मिलने के बाद डंडौतिया के खिलाफ दिमनी थाने में जान से मारने की धमकी देने (धारा 506) एवं आचार संहिता उल्लंघन (धारा 188) का मामला दर्ज किया गया है।

यह बयान पड़ा भारी

मुरैना जिले की दिमनी विधानसभा क्षेत्र के कमथरी गांव में गुरुवार को हुई सभा में डंडौतिया ने कहा था कि इमरती देवी के लिए जो शब्द कमल नाथ ने बोले, वह डबरा में कहे थे। अगर वे यह बात तंवरघार-चंबल में बोलते तो कत्ल हो जाते। उनका मूड ले लेते (सिर काट देते)। अगर कमल नाथ किसी महिला के लिए ऐसी बात दिमनी क्षेत्र में बोल देते तो यहां से उनकी लाश जाती। उनके भाषण के समय राज्यसभा सदस्य ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मंच पर मौजूद थे।

शिवहर में जनसंपर्क के लिए निकले प्रत्याशी श्रीनारायण सिंह सहित दो की हत्या, चुनाव पर इसका कोई असर नहीं

0

शिवहर। पुरनहिया थाना क्षेत्र के हथसार में शनिवार शाम जनसंपर्क के दौरान बाइक सवार दो बदमाशों ने शिवहर विस क्षेत्र से जनता दल राष्ट्रवादी के प्रत्याशी सह पूर्व राजद नेता श्रीनारायण सिंह और उनके समर्थक हथसार निवासी राजेंद्र महतो के पुत्र संतोष कुमार (30) की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना में हथसार गांव के ही श्याम प्रसाद के पुत्र आलोक रंजन (28) गंभीर रूप से जख्मी हो गए। उन्हें इलाज के लिए सीतामढ़ी शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां हालत गंभीर है। घटना के बाद इलाके में आक्रोश है। चर्चा है कि श्रीनारायण सिंह की हत्या की साजिश सीतामढ़ी जेल से रची गई थी। इसी वजह से हमला किया गया। हालांकि, एसपी संतोष कुमार ने कहा कि जांच जारी है। दोषी बख्शे नहीं जाएंगे। तिरहुत प्रक्षेत्र के आइजी गणेश कुमार भी सीतामढ़ी पहुंच गए थे। इस तरह के कयास लगाए जा रहे थे कि चुनाव को फिलहाल स्थगित कर दिया जाए। लेकिन, डीएम ने चुनाव प्रक्रिया जारी रखने को कहा है

बदमाशों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग

लोगों के मुताबिक, हथसार गांव में बदमाशों ने प्रत्याशी के काफिले पर ताबड़तोड़ फायरिंग की। इसमें श्रीनारायण सिंह और उनके दो समर्थकों को गोली लगी। श्रीनारायण सिंह को तीन गोलियां लगीं और मौके पर मौत हो गई। गोली लगने से उनके दो समर्थक भी जख्मी हो गए। तीनों को शिवहर सदर अस्पताल लाया गया। जहां चिकित्सकों ने श्रीनारायण सिंह को मृत घोषित कर दिया। वहीं, संतोष और आलोक को सीतामढ़ी रेफर कर दिया। लेकिन, संतोष ने रास्ते में दम तोड़ दिया। आलोक को सीतामढ़ी शहर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। सीतामढ़ी और शिवहर की पुलिस अस्पताल पहुंची। बताया गया कि श्रीनारायण सिंह की मौत के बाद लोगों का आक्रोश देख पुलिस ने शव को सीतामढ़ी भेज दिया। जहां चिकित्सक डॉ. वरुण कुमार ने बताया कि श्रीनारायण सिंह की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

लोगों ने बदमाशों को पीटा

घटना को अंजाम देकर भाग रहे दो बदमाशों को लोगों ने पिस्टल के साथ दबोचा और जमकर पिटाई की। इस बीच वहां पहुंची पुरनहिया पुलिस ने दोनों को शिवहर सदर अस्पताल में भर्ती कराया। दोनों का इलाज जारी था। बेहोशी के कारण पहचान नहीं हो सकी थी।

कई मामलों के आरोपित थे श्रीनारायण

शिवहर जिले के डुमरी कटसरी प्रखंड के नयागांव निवासी श्रीनारायण सिंह पूर्व में जिला पार्षद और मुखिया रह चुके थे। राजद के जिला उपाध्यक्ष थे। टिकट नहीं मिलने पर पद और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद जनता दल राष्ट्रवादी के टिकट पर मैदान में थे। पूर्व में अपराध की दुनिया से संबंध रहा। शिवहर में हत्या व आम्र्स एक्ट के छह मामले दर्ज थे। मुजफ्फरपुर के बैरिया में चर्चित कुंदन सिंह हत्याकांड में भी आरोपित थे। हालांकि, नामांकन के दौरान दिए गए शपथ पत्र में उन्होंने शिवहर में आधा दर्जन मामलों की जानकारी दी थी।

मतदान तय तिथि और तय समय पर ही

शिवहर डीएम अवनीश कुमार सिंह ने बताया कि प्रत्याशी श्रीनारायण सिंह की हत्या के कारण तीन नवंबर को होने वाले मतदान पर कोई असर नही पड़ेगा। मतदान तय तिथि और तय समय पर ही होगा।

हेलमेट न पहनने पर रोका तो महिला ने कर दी पुलिसकर्मी की पिटाई, वीडिया वायरल

0
Police beat up policeman for not wearing helmet,
Police beat up policeman for not wearing helmet, video viral

मुंबई। बिना हेलमेट पहने अपने साथी के साथ दो पहिया वाहन पर सवार होकर फर्राटे भर रही महिला ने रोके जाने पर एक पुलिसकर्मी की जमकर पिटाई कर दी। यह घटना मुंबई के कलबादेवी स्थित कॉटन एक्सचेंज नाका पर शनिवार को हुई। इसका वीडियो ट्विटर और फेसबुक पर वायरल हो गया है।

महिला अपने सहयोगी के साथ स्कूटी से कहीं जा रही थी। दोनों ने हेलमेट नहीं पहना था। इस बीच ट्रैफिक पुलिसकर्मी ने रोका तो महिला उग्र हो गई और उसकी पिटाई कर दी। घटना के बाद लोगों की भीड़ जुट गई। महिला भीड़ जुटने के बाद भी पुलिसकर्मी को पीटती रही।

इस दौरान अपनी गलती को छिपाने के लिए उसने पुलिसकर्मी पर गाली देने का आरोप भी लगाया। घटना की सूचना मिलने पर बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी मौके पर आ गए। पुलिस ने आरोपित महिला व उसके साथी को हिरासत में ले लिया। दोनों से पूछताछ की जा रही है। घटना का संज्ञान लेते हुए शिवसेना नेता संजय राउत ने ट्वीट कर आरोपित महिला के खिलाफ शीघ्र कार्रवाई करने को कहा। उन्होंने इसे मुंबई पुलिस की गरिमा को ठेस पहुंचाने वाला बताया।

Web Title : Police beat up policeman for not wearing helmet, video viral

देश में 90 फीसद लोग कोरोना से हुए ठीक, सक्रिय मामले में भी आई कमी

0
Corona, decrease in active cases also
90 percent people in the country recover from Corona, decrease in active cases also

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के हालात में तेजी से सुधार हो रहा है। भारत में कोरोना से अब तक 90 फीसद लोग ठीक हो चुके हैं। इसके साथ ही देश में सक्रिय मामलों की संख्या भी घट रही है। देश की रिकवरी दर भी बढ़ रही है। देश में दैनिक मामलों की संख्या भी घटकर 50 हजार के पास पहुंच गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में देश में कोरोना के 50,129 नए मामले सामने आए हैं। इस दौरान 578 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है।

देश में कोरोना के कुल आंकड़ों की बात करें तो अब तक 78 लाख 64 हजार 811 मामले सामने आ चुके हैं। देश में सक्रिय मामलों की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है। भारत में फिलहाल 6,68,154 एक्टिव केस बचे हैं। देश में तेजी से लोग कोरोना से ठीक भी हो रहे हैं। भारत में फिलहाल 70 लाख 78 हजार 123 लोग कोरोना से ठीक हो चुके हैं। देश में कोरोना से अब तक 1,18,534 लोगों की मौत हो चुकी है।

देश में रिकवरी दर 90 फीसद

देश में कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या बढ़ रही है। बीते 24 घंटों में देश में कोरोना से 62,077 लोग ठीक हो चुके हैं। इसको मिलाकर कोरोना रिकवरी दर 90% हो चुकी है। देश में सक्रिय मामलों की संख्या घटी है। पिछले 24 घंटों में देश में कोरोना से 12,526 लोग ठीक हुए हैं। इसको मिलाकर सक्रिय दर 8.50% रह गई है। भारत की कोरोना से मृत्यु दर 1.51% है।

साढ़े 10 करोड़ से ज्यादा टेस्ट

देश में अब तक 10 करोड़ से ज्यादा सैंपलों की कोरोना जांच की जा चुकी है। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research, ICMR) की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक, देश में शनिवार तक 10,25,23,469 सैंपलों की COVID-19 हो चुकी है, जिनमें से  11,40,905 टेस्ट कल किए गए हैं।

Web Title : 90 percent people in the country recover from Corona, decrease in active cases also

प्रदूषण के खिलाफ कमजोर लड़ाई, हवा को जहरीला बनने से रोकने में आम लोग सजग नहीं

0
delhi pollution
प्रदूषण के खिलाफ कमजोर लड़ाई, हवा को जहरीला बनने से रोकने में आम लोग सजग नहीं

सर्दियों की आहट आते ही एक बार फिर उत्तर भारत प्रदूषण की गिरफ्त में आने लगा है। दशकों से चला आ रहा यह सिलसिला इस बार भी थमने का नाम नहीं ले रहा है। उत्तर भारत में वायु प्रदूषण की मार शासन-प्रशासन की घोर लापरवाही को ही इंगित करती है। जब कोविड महामारी के इस दौर में डॉक्टर इसके लिए आगाह कर रहे हैं कि बढ़ता वायु प्रदूषण लोगों की सेहत पर पहले से कहीं अधिक बुरा असर डालेगा, तब यह बेहद चिंताजनक है कि उस पर लगाम लगती नहीं दिख रही है। लोग कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने को लेकर तो सतर्क हो सकते हैं, लेकिन आखिर वायु प्रदूषण से कैसे बचें? प्रधानमंत्री मोदी ने हाल में देश के नाम संबोधन में लोगों को आगाह किया कि लॉकडाउन समाप्त हुआ है, कोरोना नहीं। उन्होंने यह चेतावनी शायद इसीलिए दी, क्योंकि यह आशंका बढ़ रही है कि बढ़ते वायु प्रदूषण से कोरोना का संक्रमण और खतरनाक हो सकता है।

सरकारें वायु प्रदूषण को नियंत्रित नहीं कर पा रहीं,  सरकारें पराली को जलने से रोक नहीं पा रहीं

आखिर ऐसा क्यों है कि सरकारें वायु प्रदूषण को नियंत्रित नहीं कर पा रही हैं? पराली यानी फसलों के अवशेष जलाने की समस्या आज की नहीं, बल्कि पिछले दो दशकों से चली आ रही है। पहले सरकारें इससे मुंह छिपाती थीं और यह मानने को तैयार नहीं होती थीं कि उत्तर भारत में अक्टूबर और नवंबर में वायु प्रदूषण बढ़ने के पीछे पराली का धुआं है, लेकिन अब वे ऐसा मानने लगी हैं। बावजूद इसके वे पराली को जलने से रोक नहीं पा रही हैं। लगता है कि उनमें इसे लेकर कोई दिलचस्पी ही नहीं। आंकड़े बताते हैं कि पिछले साल के मुकाबले इस साल कहीं अधिक पराली जलाई जा रही है। इन दिनों इस पर बहस हो रही है कि दिल्ली-एनसीआर के प्रदूषण में पराली के धुएं का योगदान कितना है? इसे 10 से 20 प्रतिशत तक आंका जा रहा है। यह हवा के रुख पर निर्भर कर रहा है।

प्रदूषण के पीछे पराली के साथ-साथ सड़कों और निर्माण स्थलों से उड़ने वाली धूल की भूमिका

प्रदूषण के पीछे पराली के साथ-साथ सड़कों और निर्माण स्थलों से उड़ने वाली धूल की भी भूमिका है, लेकिन उसे नियंत्रित करने की कोई योजना नहीं नजर आती। धूल के कण धुएं के साथ मिलकर स्मॉग बढ़ाते हैं और यही जानलेवा साबित होता है। पराली के धुएं और धूल के साथ वाहनों का उत्सर्जन भी हवा को जहरीला बनाता है। यह अच्छा है कि भारत सरकार ने जोर देकर बीएस-6 मानक वाले वाहनों को लागू कर दिया है। चूंकि अभी इसकी शुरूआत हुई है, इसलिए उसका असर चार-पांच साल बाद ही दिखाई देगा।

शासन-प्रशासन में इच्छाशक्ति की कमी के चलते उत्तर भारत को प्रदूषण से छुटकारा मिलना संभव नहीं

शायद इसी को ध्यान में रखकर पिछले दिनों पर्यावरण मंत्री ने कहा कि चार-पांच साल में उत्तर भारत प्रदूषण से मुक्त हो जाएगा। यह सुनने में जरूर अच्छा लग रहा है, लेकिन अगर पराली का जलना नहीं रुका और सड़कों एवं निर्माण स्थलों से उड़ने वाली धूल को नियंत्रित करने का कोई उपाय नहीं किया गया तो हालात ऐसे ही बने रह सकते हैं। हालात बदलने के लिए शासन-प्रशासन में इच्छाशक्ति की कमी के चलते ऐसा लगता नहीं कि उत्तर भारत को प्रदूषण से छुटकारा मिलेगा। जो भी हो, प्रदूषण की रोकथाम अकेले सरकार और नौकरशाही का ही काम नहीं। देश की जनता को भी इसमें सहयोग देना होगा।

आम लोग प्रदूषण को रोकने के लिए सजग नहीं

आम लोग प्रदूषण के नुकसान से तो परिचित हो रहे हैं, लेकिन उन तौर-तरीकों को रोकने के लिए सजग नहीं, जो हवा को जहरीला बनाते हैं। यह एक तथ्य है कि किसान पराली जलने से होने वाले नुकसान से परिचित होने के बाद भी उसे जलाते हैं। इसी तरह कुछ लोग कूड़ा-करकट या फिर पत्तियां जलाने का काम करते हैं। इसी तरह लोग भवन निर्माण के दौरान इसके उपाय नहीं करते कि धूल न उड़ने पाए। जो उपाय किए भी जाते हैं, वे दिखावटी ही होते हैं। यदि आम लोग प्रदूषण की रोकथाम में सहयोग नहीं देंगे तो फिर शासन-प्रशासन की कोशिश भी कामयाब नहीं होने वाली। जिस तरह पराली को जलाए जाने से रोका नहीं जा पा रहा है, उससे यह साफ है कि हमारे नेतागण जनमानस के सामने घुटने टेकने में ही अपनी भलाई समझते हैं। वे किसानों ही नहीं, वोट बैंक के लालच में प्रदूषण फैलाने वाले अन्य लोगों के साथ भी ऐसा ही करते हैं।

वायु प्रदूषण की मार शहरी इलाकों में अधिक

आखिर क्या कारण है कि आम जनता प्रदूषण की रोकथाम के मामले में अपने दायित्वों को समझने के लिए तैयार नहीं? नि:संदेह लोगों में चेतना आ रही है, लेकिन अभी वह एक सीमित स्तर पर ही है। ऐसे में यह जरूरी हो जाता है कि शासन-प्रशासन अपनी सक्रियता बढ़ाए और उन लोगों पर सख्ती करे, जो जानबूझकर गलत काम करने के आदी हो चुके हैं। वायु प्रदूषण की मार शहरी इलाकों में अधिक है और वहीं उसके प्रति ज्यादा लापरवाही देखने को मिल रही है

शहरों में सड़कों पर अतिक्रमण सख्ती से रोका जाए

इसलिए यह जरूरी हो जाता है कि शहरों में सड़कों पर अतिक्रमण सख्ती से रोका जाए, क्योंकि उसके कारण यातायात जाम होता है और जब ऐसा होता है तो वाहनों की गति धीमी हो जाती है और वे कहीं अधिक प्रदूषण फैलाते हैं। सड़कों पर अतिक्रमण एक ऐसी समस्या है, जिससे देश का हर शहर जूझ रहा है। मुश्किल यह है कि शहरों के सुनियोजित विकास और उनमें सुगम यातायात एजेंडे से बाहर दिखता है। सड़कों, पार्कों के किनारे बेतरतीब तरीके से खड़ी हुई गाड़ियां, फुटपाथ पर रेहड़ी-पटरी वालों के कब्जे ट्रैफिक जाम का कारण बनते हैं, लेकिन वोट बैंक की राजनीति के कारण इन समस्याओं का भी निदान होता नहीं दिखता।

यदि जनता जागरूक हो जाए तो पराली जलने के साथ निर्माण स्थलों से धूल उड़नी बंद हो सकती

चूंकि इन समस्याओं के निदान में कुछ परेशानी आएगी, इसलिए उनका सामना करने के लिए जनता को तैयार रहना होगा। वास्तव में यह जरूरी है कि जनता उन सभी कारणों का निवारण करने में मददगार बने, जो प्रदूषण फैलाते हैं। यदि जनता जागरूक हो जाए तो कम से कम पराली जलने के साथ निर्माण स्थलों से धूल उड़नी बंद हो सकती है।

वायु प्रदूषण से लोगों की सेहत पर बुरा असर पड़ रहा, देश की अंतरराष्ट्रीय छवि खराब हो रही

वायु प्रदूषण को दूर करने में कोई कोताही इसलिए स्वीकार नहीं की जा सकती, क्योंकि एक तो उससे लोगों की सेहत पर बहुत बुरा असर पड़ रहा है और दूसरे, देश की अंतरराष्ट्रीय छवि भी खराब हो रही है। विगत दिवस ही अमेरिकी राष्ट्रपति ने चीन और रूस के साथ भारत की हवा को गंदी बताया। इसके लिए उनकी आलोचना का मतलब इसलिए नहीं, क्योंकि यह एक सच्चाई है कि इन दिनों दिल्ली-एनसीआर की हवा बहुत खराब है। बेहतर हो कि यह ध्यान रखा जाए कि वायु प्रदूषण के कारण जब देश पर सवाल उठते हैं तो शासन-प्रशासन के साथ जनता की छवि को भी नुकसान पहुंचता है।

Web Title : Weak fight against pollution, common people not alert in preventing air from becoming poisonous

शस्त्र पूजा के बाद राजनाथ सिंह का चीन को सख्त संदेश, देश की एक इंच जमीन नहीं लेने देगी सेना

0
rajnath singh
Rajnath Singh's strong message to China after arms worship, Army will not allow one inch of land to take land

दार्जिलिंग। विजयादशमी के मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चीन को सख्त संदेश देते हुए कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि भारतीय सेना किसी को भी हमारे देश की एक इंच भी जमीन नहीं लेने देगी। राजनाथ सिंह ने ये टिप्पणी पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग में सुकना युद्ध स्मारक में शस्त्र पूजा करने के बाद की। इस अवसर पर सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाने भी उनके साथ मौजूद थे।

रक्षा मंत्री ने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘भारत चाहता है कि तनाव ख़त्म हो और शांति स्थापित हो, लेकिन कभी-कभी नापाक गतिविधियां होती हैं। मैं पूरी तरह आश्वस्त हूं कि हमारी सेना भारत की एक इंच ज़मीन भी दूसरे के हाथ में नहीं जाने देगी।’ उन्होंने कहा कि हाल ही में लद्दाख में भारत-चीन सीमा पर जो कुछ भी हुआ और जिस तरह से हमारे जवानों ने बहादुरी से जवाब दिया, इतिहासकार हमारे जवानों की वीरता और साहस के बारे में सुनहरे शब्दों में लिखेंगे।

सिक्किम में बीआरओ द्वारा निर्मित एक एक्सल रोड का ई-उद्घाटन करने के बाद राजनाथ सिंह ने कहा कि 19.35 किलोमीटर लम्बे वैक्लपिक एनएच 310 का निर्माण करके, BRO ने पूर्वी सिक्किम के निवासियों एवं सेना की आकांक्षाओं को पूरा किया है। बीआरओ द्वारा सिक्किम के अधिकांश सीमावर्ती सड़कों का डबल लेन में अपग्रेडेशन किया जा रहा है। इसमें से ईस्ट सिक्किम में 65 किलोमीटर सड़क निर्माण-कार्य प्रगति पर है, तथा 55 किलोमीटर सड़क निर्माण योजना के तहत है।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के दिशा-निर्देश में, पूर्वोत्तर राज्यों में इंफ्रास्ट्रक्चर निर्माण में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। BRO के पास पूर्वोत्तर क्षेत्र में कुल 8090 किमी लम्बाई की सड़के हैं। इनमें से 5734 किमी. निर्माण योजना में है। नॉर्थ सिक्किम में भारतमाला परियोजना के अन्तर्गत ‘मंगन-चुगथांग-यूमेसेमडोंग’ और ‘चुगंथांग-लाचेन-जीमा-मुगुथांग-नाकुला’ तक 225 किलोमीटर डबल लेन सड़क का निर्माण कार्य नियोजित है। ये कार्य 9 पैकेजों में नियोजित किए गए हैं, जिनकी अनुमानित लागत 5710 करोड़ रुपए है।

शनिवार को रक्षामंत्री पश्चिम बंगाल की अपनी दो दिवसीय यात्रा के तहत दार्जिलिंग के सुकना में 33 कोर के मुख्यालय का दौरा किया और पूर्वी सेक्टर में स्थिति और तैयारियों की समीक्षा की। रक्षा मंत्री आगे के क्षेत्रों का दौरा करेंगे और सैनिकों के साथ बातचीत करेंगे।

Web Title : Rajnath Singh’s strong message to China after arms worship, Army will not allow one inch of land to take land

मोहन भागवत का चीन को कड़ा संदेश, बोले- हमारी सद्भावना को दुर्बलता न समझें

0
mohan bhagwat
Mohan Bhagwat's strong message to China, said - Do not consider our goodwill weak

रांची। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के स्थापना दिवस व विजयादशमी उत्सव के अवसर पर सरसंघचालक डा. मोहन भागवत ने चीन को कड़ा संदेश दिया है।  मोहन भागवत ने नागपुर से चीन के साथ-साथ भारत की ओर गलत नजर से देखने वाले देशों पर निशाना साधते हुए कहा कि हम सभी से मित्रता चाहते हैं। यह हमारा स्वभाव है, परंतु हमारी सद्भावना को दुर्बलता मानने की हिम्मत न करें। अपने शक्ति प्रदर्शन से भारत को कोई देश नचा नहीं सकता या झुका नहीं सकता है।

इतनी बात तो ऐसा दुस्साहस करने वालों को समझ में आ जानी चाहिए। हमारी सेना की अटूट देशभक्ति व अद्भुत वीरता, हमारी सरकार की स्वाभिमानी रवैया तथा देश के लोगों का धैर्य चीन को पहली बार मिला, उससे उसके ध्यान में यह बात आ जाना चाहिए कि भारत पहले वाला नहीं है। उसके रवैये में भी सुधार हो जाना चाहिए। नहीं हुआ तो जो परिस्थिति आएगी, उसमें हम सभी लोगों की सजगता, तैयारी व दृढ़ता कम नहीं पड़ेगी। वे रविवार को संघ के स्थापना दिवस पर स्वयंसेवकों के साथ-साथ पूरे देश को संबोधित कर रहे थे।

डा. मोहन भागवत ने कहा कि कोरोना वायरस के संदर्भ में चीन की भूमिका तो संदिग्ध रही ही है, परंतु जिस तरह से भारत की सीमाओं पर उसने अतिक्रमण का प्रयास किया, वह पूरा विश्व देख रहा है। इस परिस्थिति में सरकार, सेना एवं देश की जनता ने अपने स्वाभिमान, दृढ़निश्चय एवं वीरता का जो परिचय दिया है, उससे चीन बौखला गया है। इस परिस्थिति में हमें सजग रहना होगा। हमें अपनी सीमा सुरक्षा व्यवस्थाओं को मजबूत करने के साथ-साथ आर्थिक एवं सामरिक क्षेत्र में भी ताकत बढ़ानी होगी।

श्रीलंका, बांग्लादेश, भूटान व नेपाल जैसे पड़ोसी के साथ संबंध अधिक मित्रता पूर्वक बनाने चाहिए। उनके साथ किसी मुद्दे को लेकर जो मतभेद हैं, उसे दूर करना चाहिए। साथ ही अंतरराष्ट्रीय संबंध भी बेहतर करने होंगे। इस ओर सरकार प्रयास कर रही है। इसमें और तेजी लानी होगी। सीमा मिलती है तो विवाद होता ही है। सारे राष्ट्र में यह हवा चल रही है कि हम एक हैं।

मोहन भागवत सुबह आठ बजे से स्वयंससेवकों के साथ-साथ पूरे देश को संबोधित कर रहे हैं। आरएसएस के सरसंघचालक डा. मोहन भागवत ने विजयादशमी उत्सव पर नागपुर से स्वयंसेवकों के साथ-साथ पूरे देश को संबोधित करते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन कानून को आधार बनाकर समाज में विद्वेष व हिंसा फैलाने का षडयंत्र चल रहा है। इस कानून को संसद से पूरी प्रक्रिया से पास किया गया। इस षडयंत्र में शामिल लोग मुसलमान भाइयों के मन में यह बैठाने का प्रयास कर रहे हैं कि वे अब भारत में नहीं रहेंगे। आपकी संख्या न बढ़े, इसके लिए कानून बनाई गई, यह बात फैलाया गया।

जबकि ऐसा है नहीं। इसमें किसी संप्रदाय का विरोध नहीं है। इसको लेकर कोरोना संक्रमण से पहले कई जगहों पर हिंसात्मक आंदोलन किए गए। कोरोना के कारण बात दब गई। कहा, श्री रामजन्म भूमि पर सर्वोच्च न्यायालय ने निर्णय देकर इतिहास बनाया। मंदिर निर्माण के लिए पांच अगस्त को भूमि पूजन भी हो गया। उस दिन पूरे देश में हर्षोल्लास का वातावरण था। उन्होंने कहा कि पिछले विजयादशमी से लेकर अभी तक चर्चा योग्य घटनाएं कम नहीं है। इससे पहले शस्‍त्र पूजन किया गया। और मोहन भागवत ने डॉ. हेडगवार जी को श्रद्धांजलि अर्पित की।

सत्ता प्राप्ति के लिए समाज में कटुता एवं शत्रुता खड़ी करने से बचना चाहिए

संघ प्रमुख ने कहा कि राष्ट्र की सुरक्षा व सार्वभौम संप्रभुता को मिलने वाली बाहरी चुनौतियों से ही सजगता जरूरी नहीं है। देश में भी कुछ ऐसी ताकतें हैं जो समाज में वैमनस्य पैदा करते हुए भारत को दुर्बल या खंडित बनाकर रखना चाहते हैं। जो सत्ता से बेदखल हो चुके हैं, उन्हें लोकतांत्रिक तरीके से सत्ता प्राप्त करने का अधिकार है, परंतु विवेक का पालन करना उन्हें चाहिए।

राजनीति में चलने वाली स्पर्धा शत्रुओं से चलने वाला युद्ध नहीं है। उसके कारण समाज में कटुता, भेद व दूरियां बढ़ाना, आपस में शत्रुता खड़ी होना यह नहीं होना चाहिए। परंतु इस स्पर्धा का लाभ लेने वाली व भारत को खंडित व दुर्बल करने वाली ताकतें समाज में आपस में वैमनस्य पैदा करना चाहती है। इसलिए ऐसे छद्मवेषी उपद्रव करने वालों को पहचानना व उनके षडयंत्रों को नाकाम करना, भ्रमवश उनका साथ देने से बचना समाज को सीखना होगा।

पूजा से जोड़कर हिंदुत्व शब्द को किया गया है संकुचित

संघ प्रमुख ने कहा कि समाज में वैमनस्य पैदा करने वालों के मनसूबे को नाकाम करने के लिए यह जानना जरूरी है कि संघ कुछ शब्दों का उपयोग क्यों करता है। हिंदुत्व ही ऐसा शब्द है जिसके अर्थ को पूजा से जोड़कर संकुचित किया गया है। परंतु यह शब्द अपने देश की पहचान, अध्यात्म आधारित उसकी परंपरा के सनातन सातत्य तथा समस्त मूल्य संपदा के साथ अभिव्यक्ति देने वाला शब्द है।

इसलिए संघ मानता है कि यह शब्द भारत वर्ष को अपना मानने वाले, उसकी संस्कृति के वैश्विक व सर्वकालिक मूल्यों को आचरण में उतारने वाले तथा यशस्वी रूप में ऐसा करके दिखानेवाली उसकी पूर्वज परंपरा का गौरव मन में रखने वाले सभी 130 करोड़ भारतीयों पर लागू होता है। उस शब्द को भूलने से हमको एकात्मता के सूत्र में देश व समाज से बांधने वाला बंधन ढीला होता है।

इसलिए जो लोग देश को तोडऩा चाहते हैं या समाज को लड़ाना चाहते हैं वे उस शब्द को संकुचित रूप में देखने लगते हैं। जबकि हिंदू किसी पंथ, संप्रदाय का नाम नहीं है, किसी प्रांत का उपजाया हुआ शब्द नहीं है। किसी जाति विशेष का इस पर अधिकार नहीं है। संघ जब हिंदुस्थान हिंदू राष्ट्र है, इस बात का उच्चारण करता है तो उसके पीछे कोई राजनीतिक या सत्ता केंद्रित संकल्पना नहीं होती है। अपने राष्ट्र का सत्व हिंदुत्व है।

भारत की एकता को तोडऩे का चल रहा घृणित प्रयास

संघ प्रमुख ने कहा कि भारत के विविधता के मूल में स्थित शाश्वत एकता को तोडऩे का घृणित प्रयास चल रहा है। इसके लिए हमारे तथाकथित अल्पसंख्यक तथा अनुसूचित जाति व जनजाति के लोगों को झूठे सपने दिखाने एवं उनके मन में विद्वेष की भावना फैलाने का काम हो रहा है। इस षडयंत्रकारी मंडली में भारत तेरे टुकड़़े होंगे जैसी घोषणाएं करने वाले लोग भी शामिल हैं। कहीं-कहीं नेतृत्व भी कर रहे हैं। इसके लिए हम सभी को धैर्य से काम लेना होगा। संविधान एवं कानून का पालन करते हुए लोगों को आपस में जोडऩे के लिए काम करना होगा। राजनीतिक लाभ व हानि की दृष्टि से विचार करने की प्रवृति को दूर रखना होगा।

कोरोना के कारण प्रभावित शिक्षण संस्थानों, विद्यार्थियों व बेरोजगारों की चिंता करनी होगी

डा. मोहन भागवत ने कोरोना से प्रभावित संस्थानों, विद्यार्थियों व बेरोजगारों की चिंता करते हुए कहा कि लॉकडाउन के समय आरएसएस सहित समाज के सभी वर्ग के लोगों ने जरूरतमंदों की खुल कर मदद की है। कहीं भोजन बांटने का काम हुआ तो कही मास्क बांटे गए। स्वतंत्रता के बाद धैर्य, आत्मविश्वास व सामूहिकता की यह अनुभूति पहली बार अनेकों लोगों ने देखा है। इस विषम परिस्थिति में सरकार ने भी तत्परता पूर्वक लोगों को सावधान किया, सावधानी के उपाए बताए और उस पर अमल भी किया। विश्व के अनेक देशों की तुलना में हमारा भारत संकट की इस परिस्थिति में अधिक अच्छे से खड़ा हुआ।

सरकार के साथ-साथ प्रशासन से जुड़े लोग, चिकित्सक, सुरक्षा व सफाईकर्मी लोगों की सेवा में जुटे रहे। स्वयं को संक्रमित होने को जोखिम उठाते हुए घर से दूर रहकर दिन-रात काम किया। सभी अभिनंदन के पात्र हैं। इस दौरान अपनी जान देने वाले सभी लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। परंतु इस दौरान शिक्षण संस्थान जो प्रभावित हुए, बच्चों की पढ़ाई बाधित हुई, लाखों लोग बेरोजगार हो गए, शिक्षकों को वेतन नहीं मिल रहे हैं, विद्यालय बंद रहने से फीस नहीं मिला। इससे शिक्षकों के वेतन बंद हैं।

ऐसे लोगों की हमें अब चिंता करनी होगी। हमें रोजगार का प्रशिक्षण एवं रोजगार का सृजन करना होगा। जिस प्रकार संघ के स्वयंसेवकों ने लॉकडाउन के समय काम किया था, उसी तरह सेवा के इस नए चरण में भी पूरी शक्ति के साथ सक्रिय रहना होगा। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लोगों को अब भी जागरूक करना होगा। कहा, मन में भय रखने की आवश्यकता नहीं है, सजगतापूर्वक सक्रियता की आवश्यकता है। तनाव के कारण आत्महत्या व अपराध न बढ़े, इस पर ध्यान देना होगा। अपना परिवार स्वस्थ्य रहे, इसकी चिंता करनी होगी।

कोरोना के कारण सांस्कृतिक रीति-रिवाज का महत्व, स्वच्छता की महत्ता, प्राचीन पद्धति, कुटुंब व्यवस्था में परिवर्तन दिखने लगा है। यह देखने की बात होगी कि यह बना रहता है कि फिर से उसी रास्ते पर चलने लगेंगे।

आरएसएस के फेसबुक, ट्विटर व यूट्यूब आरएसएसओआरजी पर इसे ऑनलाइन प्रसारित किया जा रहा है। दैनिक जागरण के वेबसाइट पर भी इस खबर को लगातार अपडेट किया जा रहा है। नागपुर में आयोजित यह कार्यक्रम इस बार मैदान में नहीं करके डाक्टर हेडगेवार स्मृति मंदिर परिसर के हाॅल में हो रहा है। कार्यक्रम में बाहर से किसी विशिष्ट अतिथि को आमंत्रित नहीं किया गया है।

पूर्ण गणवेश में स्वयंसेवक

आरएसएस के छह प्रमुख उत्सवों में से एक विजयादशमी उत्सव पर आयोजित कार्यक्रम में सभी स्वयंसेवक पूर्ण गणवेश में शामिल हैं। नागपुर सहित पूरे देश में अधिकतर जगहों पर कार्यक्रम कैंपस में ही हो रहे हैं। एक जगह पर अधिक से अधिक 40 से 50 स्वयंसेवक ही उपस्थित रहेंगे। इसलिए कम संख्या में ज्यादा स्थानों पर कार्यक्रम किए जाएंगे। प्रत्येक वर्ष की तरह इस बार कार्यक्रम देखने के लिए समाज के लोगों को आमंत्रित नहीं किया जा रहा है। कार्यक्रम में सभी स्वयंससेवक मास्क पहनकर आए हैं। कार्यक्रम में 6 फीट की दूरी पर सभी खङे हैं।

Web Title : Mohan Bhagwat’s strong message to China, said – Do not consider our goodwill weak

PM Modi Mann ki Baat: प्रधानमंत्री की अपील- देश के वीर सैनिकों के लिए घर में एक दीया जलाएं

0
PM Modi Mann ki Baat
PM Modi Mann ki Baat

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मन की बात कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित कर रहे हैं। मन की बात कार्यक्रम का यह 70वां संस्करण है। पीएम मोदी ने आज अपने संबोधन में देशवासियों को विजयादशमी की शुभकामनाएं दी। उन्होंने सावधानी से त्योहार मनाने की भी बात कही। इसके साथ ही उन्होंने लोगों से देश के वीर सैनिकों के लिए घर में एक दीया जलाने की अपील की।

LIVE PM Modi Mann ki Baat Update:

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को लभी याद किया। उन्होंने कहा कि 31 अक्टूबर को हमने पूर्व प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी को खो दिया। मैं सबसे अधिक सम्मानपूर्वक उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।

– प्रधानमंत्री ने आज कहा कि 31 अक्टूबर को, हम वाल्मीकि जयंती भी मनाएंगे। मैं महर्षि वाल्मीकि को अपनी श्रद्धांजलि देता हूं। महर्षि वाल्मीकि के उदात्त आदर्श लाखों लोगों को प्रेरित करते रहते हैं। वह करोड़ों गरीबों और दलितों के लिए एक बड़ी उम्मीद है।

– प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं आपसे एक वेबसाइट पर जाने का आग्रह करता हूं – http://ekbharat.gov.in – यह राष्ट्रीय एकीकरण के अभियान को आगे बढ़ाने के हमारे कई प्रयासों को प्रदर्शित करता है; इसका एक दिलचस्प कोने है – दिन के लिए वाक्य, जिसमें हम सीखते हैं कि कैसे एक वाक्य को अंतर में बोलना है।

– पीएम नरेंद्र मोदी ने आज मन की बात में अम्बेडकर को भी याद किया। उन्होंने कहा कगि पिछली सदी में, हमारे देश में हमारे पास डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर जैसे साहित्यकार थे जिन्होंने संविधान के माध्यम से हम सभी के बीच एकता स्थापित की।

– मन की बात के दौरान प्रधानमत्री मोदी ने सरदार पटेल को भी याद किया। उन्होंने कहा कि कुछ ही दिनों बाद सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की जन्म जयंती, 31 अक्टूबर को हम सब ‘राष्ट्र्रीय एकता दिवस’ के तौर पर मनाएंगे। उन्होंने कहा कि सरदार पटेल ने अपना पूरा जीवन एकजुटता के लिए समर्पित कर दिया। वे विविधता में एकता का मंत्र हर भारतीय के मन में जगाने वाले थे।

उन्होंने कहा कि  जरा उस लौह पुरुष की छवि की कल्पना कीजिए जो राजे-रजवाड़ों से बात कर रहे थे, पूज्य बापू के जन-आंदोलन का प्रबंधन कर रहे थे, साथ ही अंग्रेजों से लड़ाई भी लड़ रहे थे।

– पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि जब हमें अपनी चीजों पर गर्व होता है तो दुनिया में भी उनके प्रति जिज्ञासा बढ़ती है। जैसे हमारे आध्यात्म ने, योग ने पूरी दुनिया को आकर्षित किया है।हमारे कई खेल भी दुनिया को आकर्षित कर रहे हैं।

– प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात के दौरान खादी को लेकर भी बात की। उन्होंने कहा कि खादी की लोकप्रियता तो बढ़ ही रही है साथ ही दुनिया में कई जगह खादी बनाई भी जा रही है। मेक्सिको में एक जगह है ‘ओहाका (Oaxaca)’। इस इलाके में कई गांव ऐसे हैं जहां स्थानीय ग्रामीण खादी बुनने का काम करते हैं।

प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि दिल्ली के Connaught Place के खादी स्टोर में इस बार गांधी जयंती पर एक ही दिन में एक करोड़ रुपये से ज्यादा की खरीदारी हुई। इसी तरह कोरोना के समय में खादी के मास्क भी बहुत popular हो रहे हैं।

– पीएम मोदी ने लोगों से देश के वीर सैनिकों के लिए घर में एक दीया जलाने की अपील की। इसके साथ ही उन्होंने वीर जवानों को याद किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमें अपने जांबाज सैनिकों को भी याद रखना है, जो इन त्योहारों में भी सीमाओं पर डटे हैं। भारत माता की सेवा और सुरक्षा कर रहे हैं। हमें घर में एक दीया, भारत माता के वीर बेटे-बेटियों के सम्मान में भी जलाना चाहिए।

– प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि लॉकडाउन में हमने समाज के उन साथियों को और करीब से जाना है जिनके बिना हमारा जीवन बहुत मुश्किल हो जाता। कठिन समय में ये आपके साथ थे, अब अपने पर्वों में अपनी खुशियेां में भी हमें इनको साथ रखना है।

–  प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जब हम त्योहार की बात करते हैं, तैयारी करते हैं, तो सबसे पहले मन में यही आता है कि बाजार कब जाना है? उन्होंने कहा कि इस बार जब आप खरीदारी करने जाएं तो ‘Vocal for Local’ का अपना संकल्प अवश्य याद रखें। बाजार से सामान खरीदते समय हमें स्थानीय उत्पादों को प्राथमिकता देनी है। उन्होंने कहा कि आज जब हम Local के लिए Vocal हो रहे हैं तो दुनिया भी हमारे Local products की fan हो रही है। हमारे कई Local products में Global होने की बहुत बड़ी शक्ति है।

– प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आज विजयादशमी यानि दशहरे का पर्व है। इस पावन अवसर पर आप सभी को पर्व की शुभकामनाएं। उन्होंने कहा कि दशहरा संकटों पर धैर्य की जीत का त्योहार है। आज आप सभी लोग संयम के साथ त्योहारों को मनाते हुए बड़े संयम के साथ रह रहे हैं। इसलिए COVID-19 के खिलाफ लड़ाई में, हम लड़ रहे हैं, जीत निश्चित है।

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मन की बात कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित कर रहे हैं। पीएम मोदी ने आज अपने संबोधन में देशवासियों को विजयादशमी की शुभकामनाएं दी। उन्होंने सावधानी से त्योहार मनाने की बात कही।

गौरतलब है कि10 अक्टूबर को प्रधानमंत्री मोदी ने कार्यक्रम के 70 वें संस्करण के लिए लोगों से सुझाव मांगे थे। पीएम मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा था कि मन की बात उत्कृष्ट नागरिकों की प्रेरणादायक यात्राओं को साझा करने और पावरटाइटल परिवर्तन के विषयों पर चर्चा करने का एक शानदार अवसर प्रस्तुत करता है। इस महीने का कार्यक्रम 25 तारीख को होगा। NaMo App, MyGov पर अपने विचारों को साझा करें और अपना संदेश रिकॉर्ड करें।

मन की बात के पिछले संस्करण में पीएम मोदी ने लोगों को अपनी कहानी कहने के लिए प्रोत्साहित किया। मन की बात एक रेडियो कार्यक्रम है, जिसे हर महीने के आखिरी रविवार को ऑल इंडिया रेडियो पर प्रसारित किया जाता है, जिसके माध्यम से प्रधानमंत्री देश के साथ बातचीत करते हैं। मन की बात के लिए आप 1922 भी डायल कर सकते हैं, जिसके बाद आपको एक कॉल आएगा, जिसमें आप अपनी पसंदीदा भाषा चुन सकते हैं और अपनी क्षेत्रीय भाषा में ‘मन की बात’ कार्यक्रम सुन सकते हैं।

प्रत्याशी खर्च के पाई-पाई का रखें हिसाब, 30 लाख 80 हजार रुपये की सीमा के अंदर निकालना होगा चुनाव

0

सीतामढ़ी । समाहरणालय परिचर्चा भवन में जिला स्तरीय स्टैंडिग कमिटी की बैठक में सभी से यहीं अपील की गई कि वच्छ, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण निर्वाचन संपन्न कराने में अपनी भूमिका निभाएं। जिला निर्वाचन पदाधिकारी अभिलाषा कुमारी शर्मा, पुलिस अधीक्षक अनिल कुमार समेत निर्वाचन आयोग द्वारा प्रतिनियुक्त प्रेक्षक सहित रीगा, बथनाहा, परिहार, सुरसंड, बाजपट्टी विधानसभा के प्रत्याशियों तथा राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने इस बैठक में भाग लिया। जिला निर्वाचन पदाधिकारी ने कहा कि जिले में शांतिपूर्ण, स्वच्छ, निष्पक्ष एवं भयमुक्त चुनाव को लेकर जिला प्रशासन ²ढ़ संकल्पित है। उन्होंने उपस्थित अभ्यर्थियों एवं राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों को निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों से अवगत कराया। कहा कि सभी राजनीतिक दल एवं प्रत्याशी अपने प्रचार-प्रसार एवं सभाओं में अनिवार्य रूप से कोविड के दिशा-निर्देशों का पालन करें। उन्होंने कहा कि कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के उल्लंघन पर प्रावधान के अनुसार कार्रवाई भी की जाएगी।

आचार संहिता के साथ कोविड-19 का भी रखें ख्याल

इसके पूर्व आदर्श आचार संहिता, निर्वाचन व्यय, ईवीएम का रेंडमाइजेशन, पेड न्यूज, राजनीतिक विज्ञापन, विधि-व्यवस्था संधारण को लेकर अब तक उठाए गए कदमों को लेकर उपस्थित नोडल पदाधिकारियों द्वारा विस्तार से जानकारी दी गई। सामान्य प्रेक्षक बथनाहा, परिहार, सुरसंड, बाजपट्टी विधानसभा राजेश सिंह राणा ने राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों एवं प्रत्याशियों से कहा कि स्वीप लोगो का मुख्य स्लोगन सुरक्षा का रखकर ध्यान, चलो सीतामढ़ी करे मतदान पूर्ण रूप से पालन हो। इसमें आपकी महत्वपूर्ण भूमिका होगी। उन्होंने निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देशों की चर्चा करते हुए कहा कि जुलूस एवं सभाओं में शामिल सभी व्यक्तियों को अनिवार्य रूप से मास्क लगाना होगा। शारीरिक दूरी का भी पालन करना होगा। अन्यथा प्रावधान के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि हम सभी की जबाबदेही है कि हम सभी मिलकर जिले में स्वच्छ, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण निर्वाचन सुनिश्चित करें।

सी-विजिल एप के माध्यम से दर्ज कराएं शिकायत

वैसी खबर या न्यूज जिसे छापने या दिखाने के लिए किसी प्रकार का प्रलोभन या पैसा का सहारा लिया गया हो, वह पेड न्यूज की श्रेणी में आता है और पेड न्यूज के माध्यम से मतदाताओं को प्रभावित करने का प्रयास करने पर जनप्रतिनिधितव अधिनियम के विभिन्न धाराओं के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी। सामान्य प्रेक्षक रीगा विनोद कुमार ने कहा कि कोई भी व्यक्ति सी-विजिल एप के माध्यम से अपनी शिकायत दर्ज कर सकता है। 100 मिनट के अंदर उनकी शिकायतों का निपटारा भी हो जाएगा। सुविधा एप की भी जानकारी दी।

खर्च के लिए खोले गए बैंक खाता में दर्ज करें व्यय राशि

पुलिस प्रेक्षक एवं पुलिस अधीक्षक सीतामढ़ी ने विधि-व्यवस्था को लेकर कई अहम जानकारी दी। उपस्थित व्यय प्रेक्षक ने कहा कि प्रत्याशी खर्च करेंगे, उसको अनिवार्य रूप से अपने खर्च में दिखाएंगे एवं खर्च के लिए खोले गए बैंक खाता के माध्यम से ही खर्च करेंगे। दस हजार से अधिक का भुगतान नकद राशि से नहीं कर सकते हैं। नोडल पदाधिकारी व्यय ने बताया कि अब प्रत्याशी की खर्च करने की सीमा 28 लाख से बढ़ाकर 30 लाख 80 हजार कर दी गई है।

Web Title : Keep account of the pie of the candidate, the election will have to be done within the limit of 30 lakh 80 thousand rupees

Covid 19 Delhi School : अरविंद केजरीवाल ने की घोषणा- फिलहाल नहीं खुलेंगे दिल्ली के स्कूल

0
Covid 19 Delhi School
Covid 19 Delhi School : अरविंद केजरीवाल ने की घोषणा- फिलहाल नहीं खुलेंगे दिल्ली के स्कूल

नई दिल्लीः दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने राष्ट्रीय राजधानी में विद्यालयों को फिलहाल खोले जाने की संभावना से शनिवार को इनकार किया। केजरीवाल ने एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा, ‘‘ फिलहाल विद्यालय नहीं खुल रहे हैं।” सरकार ने पहले घोषणा की थी कि विद्यालय कोविड-19 महामारी के मद्देनजर 31 अक्टूबर तक बंद रहेंगे।

देश में विश्वविद्यालय एवं विद्यालय 16 मार्च से बंद हैं जब केंद्र ने कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के उपाय के तहत देशभर में कक्षाओं को बंद करने की घोषणा की थी। राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन 25 मार्च को लगाया गया था। लॉकडाउन में चरणबद्ध तरीके से ढील देने के बाद ‘अनलॉक’ के विभिन्न चरणों में कई पाबंदियों में ढील दी गयी , लेकिन शैक्षणिक संस्थान अब भी बंद हैं।

हालांकि ‘अनलॉक’ दिशानिर्देशों के अनुसार राज्य चरणबद्ध तरीके से विद्यालयों को खोलने का फैसला कर सकते हैं। पहले विद्यालयों को 21 सितंबर से स्वैच्छिक आधार पर नौवीं से बारहवीं कक्षाओं के विद्यार्थियों को बुलाने की अनुमति दी गयी थी लेकिन दिल्ली सरकार ने उसके विरूद्ध निर्णय लिया। इस साल सीबीएसई परीक्षा के शुल्क का भुगतान नहीं करने के आप सरकार के निर्णय की चर्चा करते हुए केजरीवाल ने इसके लिए महामारी के चलते कोषाभाव का हवाला दिया।

चीन से तनातनी के बीच बोले राजनाथ, हमने हमेशा अपने पड़ोसियों के साथ चाहे अच्छे संबंध

0
rajnath singh china lac
चीन से तनातनी के बीच बोले राजनाथ, हमने हमेशा अपने पड़ोसियों के साथ चाहे अच्छे संबंध

चीन के साथ पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद के चलते रिश्तों में तनाव के बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को कहा कि भारत ने हमेशा अपने सभी पड़ोसियों के साथ अच्छा संबंध चाहा। उन्होंने कहा कि हमने हमेशा इसको लेकर प्रयास किए। लेकिन, हमारे जवानों ने हमारी सीमाओं, अखंडता और सार्वभौमिकता की रक्षा की खातिर समय-समय पर कुर्बानी दी।

दो दिवसीय दार्जिलिंग दौरे पर गए राजनाथ सिंह ने सुकना में 18वीं कॉर्प्स के हेडक्वार्टर पर जवानों को संबोधित करते हुए कहा- “इस समय गलवान में हमारे बिहार रेजिमेंट के 20 जवानों ने मातृभूमि की रक्षा के लिए अपनी कुर्बानी दी। यह राष्ट्र और सीमाएं आपके चलते ही सुरक्षित है।”

एलएसी के पास सैनिकों के साथ शस्त्र पूजन करेंगे राजनाथ सिंह

इससे पहले पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चीन के साथ चल रहे गतिरोध के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवने पूर्वोत्तर के दो दिवसीय दौरे पर शनिवार को बंगाल के दार्जलिंग जिले में सुकना कॉर्प पहुंचे। सिंह दशहरे के मौके पर रविवार को एलएसी के पास नाथुला दर्रे पर सैनिकों के साथ शस्त्र पूजन करेंगे। गौरतलब है कि चीन से तनातनी के बीच रक्षा मंत्री का यह दौरा बेहद ही महत्वपूर्ण है। माना जा रहा है कि उनके दौरे से सैनिकों का मनोबल बढ़ेगा।

सिंह और जनरल नरवने शनिवार देर शाम सुकना सैन्य शिविर पहुंचे। दोनों दाॢजलिंग और सिक्किम की दो दिवसीय यात्रा पर हैं। रविवार सुबह रक्षा मंत्री और सेना प्रमुख विशेष विमान से सिक्किम के लिए रवाना होंगे और वहां एलएसी से लगे अग्रिम क्षेत्रों (फारवर्ड एरिया) का दौरा करेंगे। इस दौरान सैनिकों से बातचीत करेंगे। रक्षा मंत्री सिंह दशहरे के मौके पर रविवार को एलएसी के पास नाथुला दर्रे पर सैनिकों के साथ शस्त्र पूजन भी करेंगे। रक्षा मंत्री यहां पर सैनिकों से मुलाकात कर उन्हेंं संबोधित भी करेंगे। इसके साथ ही अपनी यात्रा के दौरान सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) की ओर से निॢमत बुनियादी ढांचा परियोजना का उद्घाटन करेंगे। सिंह सुरक्षा बलों की तेज आवाजाही के लिए सीमावर्ती क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे के विकास पर विशेष जोर दे रहे हैं।

Web Title : Rajnath spoke amidst tension with China, we always have good relations with our neighbors